UPSC CDS की करियर संभावनाएं

संघ लोक सेवा आयोग (UPSC)भारतीय सेना में विभिन्न पदों के लिए उम्मीदवारों का चयन करने हेतु CDS की परीक्षा आयोजित करती है| UPSC CDS की परीक्षा हर साल दो बार आयोजित की जाती है और चयनित उम्मीदवारों को विभिन्न रक्षा विभागों में भर्ती किया जाता है:

  • इंडियन मिलिट्री अकेडमी
  • ऑफिसर ट्रेनिंग अकेडमी
  • इंडियन नेवल अकेडमी
  • इंडियन एयर फोर्स अकेडमी

इस साल, सीडीएस (CDS) 2016 की परीक्षा निम्नलिखित दिनों में आयोजित होगी:

  • UPSC CDS I– 14 फरवरी 2016
  • UPSC CDS II– 23 अक्टूबर 2016

जैसे ही एक उम्मीदवार UPSC CDS की लिखित परीक्षा को पास कर लेता है, वह भर्ती प्रक्रिया के अगले स्तरमें पहुंच जाता है,जहां साक्षात्कार होता है| यहां उम्मीदवार को उसकी सोचने की क्षमता, विश्लेषणात्मक कौशल और आत्मविश्वास के आधार पर आंका जाता है। यह साक्षात्कार सेवा चयन बोर्ड (एसएसबी) द्वारा आयोजित किए जाते हैं और इसके बाद सफल उम्मीदवारों को उनके संबंधित अकेडमी में भर्ती दी जाती है|

UPSC-CDS-Career-Prospects

सीडीएस का सिलेबस और इससे संबंधित पात्रता मानदंड जैसी UPSC CDS 2016 की बारीकियों को जानने से पहले हम भारतीय सेना में इसके बाद मिलने वाली करियर अवसर पर चर्चा करेंगे|

UPSC CDS 2016: क्यों चुनें सेना में करियर?

इसकी शुरुआत हम कुछ यूं कर सकते हैं कि यदि आप अपने देश की सेवा करना चाहते हैं तो सेना में करियर आपको बेहतरीन मौका देता है| सेना में रहकर”अनुशासन” और “साहसिक” कारकोंके अलावा भी अपने देश की सेवा करते हुए आपकोढेर सारेलाभ प्राप्त होते हैं| यूपीएससी सीडीएस 2016 की परीक्षा पास करें, जहां कई तरह के करियर अवसर आपका इंतजार कर रहे हैं।

सेना के एक अधिकारी के रूप में आप को मिलता है:

  • गर्व के साथ अपने देश की सेवा और प्रतिनिधित्व करना|
  • पर्याप्त वेतनमान और भत्ता
  • सम्मानजनक और स्थायी नौकरी
  • सबसे मुश्किल परिस्थितियों से भी हंसते हुए बाहर आने की हिम्मत देने वाला दृष्टिकोण

CDS के प्रशिक्षण के सफल समापन के बाद आपको शुरुआती सेना अधिकारी का पद, वेतन और भत्ता मिलना शुरू हो जाता है।
UPSC CDS 2016: रैंक आधारित वेतनमान

(थलसेना, वायुसेना और नौसेना के अधिकारियों के लिए)

प्रशिक्षण अवधि के दौरान संबंधित रक्षा अकादमियों में हर प्रशिक्षु को 21,000 रुपये प्रति माह का एक निश्चित स्टाइपेंड दिया जाता है| ओटीए (OTA) से अपना प्रशिक्षण पूरा करने के बाद आपको भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट का पद मिलता है| यही पद भारतीय सैन्य अकादमी (आईएमए) से पास आउट कैंडिडेट को भी दिया जाता है| सामान्य तौर पर भारतीय थल सेना, नौसेना और वायुसेना में अधिकारियों को निम्नलिखित सैलरी दी जाती है:

UPSC CDS करियर: रक्षा अधिकारी वेतनमान (पे-स्केल)

 अधिकारी की रैंक वेतनमान (रु. में)
 लेफ्टिनेंट से मेजर  15,600-39,100 (PB-3)
 लेफ्टिनेंट कर्नल से मेजर जनरल  37,400-67,000(PB-4)
लेफ्टिनेंट जनरल एचएजी स्केल  67,000- (वार्षिक वेतन वृद्धि@3%)- 79,000
 एचएजी स्केल*  75,500- (वार्षिक वेतन वृद्धि@3%) – 80,000
 वीसीओएएस/सेना कमांडर/लेफ्टिनेंट जनरल (एनएफएसजी)

थलसेनाध्यक्ष

 80,000/- (निश्चित)

90,000/- (निश्चित)

* लेफ्टिनेंट जनरल की कुल संख्या की एक तिहाई के लिए स्वीकार्य

वेतनमान के अलावा, अधिकारियों को निम्नलिखित ग्रेड-पे भी प्रदान की जाती है:

 

UPSC CDS करियर: रक्षा अधिकारी ग्रेडपे

 अधिकारी की रैंक ग्रेड वेतन (रु. में)
 लेफ्टिनेंट (Lt.)  5,400
 कैप्टन (capt.)  6,100
 मेजर (Maj)  6,600
लेफ्टिनेंट कर्नल (Lt. Col)  8,000
कर्नल (Col.)  8,700
 ब्रिगेडियर (Brig)  8,900
 मेजर जनरल (Maj. Gen.)  10,000

वेतनमान और ग्रेड-पे के अलावा, कई तरह के भत्तों और लाभ का आनंद अधिकारियों द्वारा उठाया जाता है, जिनमें हैं:

  • महंगाई भत्ता (DA)
  • रखरखाव भत्ता
  • वर्दी भत्ता
  • परिवहन भत्ता (TA)
  • बाल शिक्षा भत्ता

इन के अलावा,आकस्मिक और वार्षिक अवकाश भी एक अधिकारी को दिए जाते हैं| हालांकि इसमें कोई शक नहीं है कि थलसेना, नौसेना और वायुसेना अधिकारी का जीवन चुनौतियों से भरा होता है| लेकिन ये भत्ते और लाभ निश्चित रूप से इसे थोड़ा आसान बना देते हैं। अब हम उस अंतिम सेक्शन की ओर बढ़ते हैं, जहां हम किसी सेना अधिकारी की सेवानिवृत्ति से जुड़ी पेंशन योजना पर चर्चा करेंगे|

CDS करियर: सेवानिवृत्ति के बाद पेंशन योजना

भत्तों और जिम्मेदारियों के साथ-साथ आपके लिए वचनबद्धता भी मायने रखती है|

सेवानिवृत्ति संबंधी लाभ पाने के लिए एक अधिकारी को कम से कम 20 वर्ष की न्यूनतम सेवा अवधि पूरी करनी होती है|सेवानिवृत्ति पेंशन की गणना आखिरी 10 महीनों में एक अधिकारी के द्वारा उठाई गई पेंशन संबंधी परिलब्धियों (यानि वेतन, रैंक वेतन और गैर-अभ्यास भत्ता, यदि कोई हो तो) के 50% तक के औसत पर या आखिरी बार लिए गए वेतन के 50% पर, इनमें से जो भी अधिक फायदेमंद होगा, के आधार पर तय की जाती है| किसी भी मामले में सेवानिवृत्ति पेंशन3500/- रु. प्रति माह से कम नहीं होनी चाहिए|

तो यदि आप ऐसे व्यक्ति हैं, जो खतरों के साथ जीवन जीना चाहते हैं, भयपूर्ण बाधाओं और चुनौतीपूर्ण कार्य का सामना करना चाहते हैं तो रक्षा क्षेत्र में करियर आपके लिए एक रास्ता है| अब देखें कि इसके लिए आप किस तरह की चुनौती का सामना करने जा रहे हैं|

UPSC CDS की परीक्षा के कुल उम्मीदवार

वर्ष पेपर एप्लीकेशन परीक्षा देने वाले उम्मीदवार
2007 CDS-I 64,028 48,746
2007 CDS-II 53,868 30,272
2008 CDS-I 51,002 37,897
2008 CDS-II 53,794 30,945
2009 CDS-I 63,824 29,352
2009 CDS-II 89,604 52,970
2010 CDS-I 86,575 38,742
2010 CDS-II 99,017 50,033
2011 CDS-I 99,815 50,152
2011 CDS-II 1,00,043 44,130
2012 CDS-I 1,36,641 50,152
2012 CDS-II 1,52,052 75,990
2013 CDS-I 2,08,270 64,626
2013 CDS-II 2,01,603 95,397

बात जब रक्षा क्षेत्र में करियर बनाने की आती है तोभारतीय युवाहमेशा से ही तत्पर रहते हैं|

आंकड़ों से यह अंदाजा तो चल ही गया होगा कि हर सालआवेदनोंकी कुल संख्या और परीक्षा में देने वाले कुल उम्मीदवारों की संख्या में वृद्धि हो रही है|

इसलिए, आपको सिर्फ विश्वास के अलावा और भी बहुत कुछ की ज़रूरत होगी। इसका सही जवाब अच्छी तैयारी है| तो हमारे ब्लॉग के साथ जुड़े रहें क्योंकि हम आपको आगामी यूपीएससी सीडीएस (UPSC CDS) 2016 परीक्षा को पास करने में मार्गदर्शन करेंगे|

यदि अब भी कोई प्रश्न आपके मन में है तो कृपया नीचे कॉमेंट कर हमें बताएं|

5 REPLIES

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.