बाल दिवस मनाइए TyariPLUS के साथ: जानिये चाचा नेहरु से जुड़ी 10 मुख्य बातें

बाल दिवस मनाइए TyariPLUS के साथ: जानिये चाचा नेहरु से जुड़ी 10 मुख्य बातें- पंडित जवाहरलाल नेहरू (जन्म: 14 नवम्बर, 1889; मृत्यु: 27 मई, 1964) भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम के महान् सेनानी एवं स्वतन्त्र भारत के प्रथम प्रधानमंत्री (1947-1964) थे। जवाहर लाल नेहरू, संसदीय सरकार की स्थापना और विदेशी मामलों में ‘गुटनिरपेक्ष’ नीतियों के लिए विख्यात हुए। 1930 और 1940 के दशक में भारत के स्वतंत्रता आंदोलन के प्रमुख नेताओं में से वह एक थे।

आज बाल दिवस के उपलक्ष्य में हम बाल दिवस और नेहरू से जुड़े महत्त्वपूर्ण तथ्य आपसे साझा कर रहे हैं। साथ ही सभी प्रतियोगी छात्रों को बाल दिवस के उपलक्ष्य में उनकी तैयारी में सहायता करने के लिए TyariPLUS पर 20% की छुट प्रदान कर रहे हैं। इस ऑफर का लाभ उठाने के लिए शीघ्र ही कूपन कोड : BALDIWAS20 का प्रयोग कर TyariPLUS को सब्सक्राइब करें और 12 महीनों के लिए सभी सरकारी प्रतियोगी परीक्षा में मॉक टेस्ट के लिए अनलिमिटेड एक्सेस पायें।

TyariPLUS

बाल दिवस मनाइए TyariPLUS के साथ: जानिये चाचा नेहरु से जुड़ी 10 मुख्य बातें

भारत में बाल दिवस मनाने की शुरुआत

भारत में हर साल 14 नवंबर को बड़े ही उत्साह के साथ बाल दिवस मनाया जाता है। बच्चों के प्रति जवाहर लाल नेहरू के प्यार और लगाव को देखते हुए उनके जन्मदिन को बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है। 27 मई 1964 को पंडित जवाहर लाल नेहरु के निधन के बाद बच्चों के प्रति उनके प्यार को देखते हुए सर्वसम्मति से यह फैसला हुआ कि अब से हर साल 14 नवंबर को चाचा नेहरू के जन्मदिवस पर बाल दिवस मनाया जाएगा और बाल दिवस कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा।

बाल दिवस (Bal Diwas) का इतिहास

बाल दिवस साल 1925 से मनाया जाने लगा था, लेकिन यूएन ने 20 नवंबर 1954 को बाल दिवस मनाने की घोषणा की थी। विभिन्न देशों में अलग-अलग तारीखों पर बाल दिवस मनाया जाता है। भारत में बाल दिवस 1964 में प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के निधन के बाद से मनाया जाने लगा। सर्वसहमति से ये फैसला लिया गया कि नेहरू के जन्मदिन पर बाल दिवस मनाया जाएगा।

बाल दिवस के मौके पर जानें जवाहर लाल नेहरू के बारे में 10 बातें

  1. जवाहर लाल नेहरू का जन्म 14 नवंबर 1889 को इलाहाबाद में हुआ था। बच्चों के प्रति उनके प्यार और लगाव की वजह से हर साल 14 नवंबर को बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है।
  2. पंडित जवाहर लाल नेहरू कश्मीर के एक प्रवासी पंडित परिवार से थे। पेशे से वकील पंडित मोतीलाल नेहरू और उनकी पत्नी स्वरूप रानी की चार संतानों में जवाहर लाल नेहरू सबसे बड़े थे।
  3. 16 साल की उम्र तक जवाहर लाल नेहरू की अधिकांश शिक्षा उनके घर पर ही हुई। इस दौरान उन्हें अंग्रेजी, हिंदी और संस्कृत भाषा की शिक्षा मिली, लेकिन अंग्रेजी की पढ़ाई पर विशेष जोर रहा। इसके बाद 1905 में नेहरू जी ब्रिटेन चले गए और वहां से आगे की पढ़ाई की। उन्होंने यहां कैंब्रिज में नेचुरल साइंस की डिग्री हासिल करने के लिए तीन साल गुजारे। इसके बाद अगले दो साल में नेहरू जी ने बैरिस्टरी की पढ़ाई की। नेहरू बचपन से ही इंग्लिश स्कूल में पढ़े थे, कहा जाता है कि उन्हें गांवो में घूम-घूमकर हिंदी बोलनी आई थी।
  4. जवाहर लाल नेहरू की शादी 1916 में कमला नेहरू से हुई। शादी के एक साल बाद ही इंदिरा प्रियदर्शनी का जन्म हुआ जो आगे चलकर देश की प्रथम महिला प्रधानमंत्री बनीं।
  5. जवाहर लाल नेहरू की इच्छा थी कि वह बतौर वकील प्रैक्टिस करें लेकिन यह काम कुछ दिन तक ही कर सके। महात्मा गांधी जिस तरह अंग्रेजों से देश को मुक्त कराने के लिए अभियान चला रहे थे उसे नेहरू काफी प्रभावित हुए और महात्मा गांधी के साथ हो लिए।
  6. आजादी के आंदोलन में पंडित नेहरू को 1929 में पहली बार जेल हुई। इसके बाद कई बार उनकी गिरफ्तारी हुई। इस दौरान नेहरू ने अपने मां-बाप और बीमार पत्‍नी को खो दिया। इसके बाद बाद उन्होंने देश की आजादी के लिए अपना पूरा समय लगा दिया।
  7. कहते हैं कि जवाहर लाल नेहरू का दिमाग बहुत तेज था, वह जल्दी ही देश और दुनिया के मामलों के बारे में समझने लगे थे। इसके बाद उन्होंने देश के लोगों को जो विचार दिए उससे लोग काफी प्रभावित हुए और देखते ही देखते हजारों लोग उनसे जुड़ते चले थे।
  8. पंडित जवाहर लाल नेहरू जनता के प्रधानमंत्री थे, वह एक प्रबुद्ध और विद्वान भी थे। वह अपने समय के बड़े नेताओं में से एक थे। कुल मिलाकर नेहरूजी नौ बार जेल गए। जेल जीवन का एक भी क्षण व्यर्थ नहीं जाने दिया। उन्होंने तीन अनमोल किताबें कारागार में ही लिखीं। वह अच्छे लेखक थे। इनकी ‘डिस्कवरी ऑफ इंडिया’ और ‘ग्लिम्प्स ऑफ वर्ल्ड हिस्ट्री’ पुस्तक काफी प्रसिद्द हैं।
  9. वैज्ञानिक प्रगति के प्रेरणा स्रोत: गांधी जी के विचारों के प्रतिकूल जवाहरलाल नेहरू ने देश में औद्योगीकरण को महत्व देते हुए भारी उद्योगों की स्थापना को प्रोत्साहन दिया। विज्ञान के विकास के लिए 1947 ई. में नेहरू ने भारतीय विज्ञान कांग्रेस की स्थापना की। खेलों में नेहरू की व्यक्तिगत रुचि थी। उन्होंने खेलों को मनुष्य के शारीरिक एवं मानसिक विकास के लिए आवश्यक बताया। एक देश का दूसरे देश से मधुर सम्बन्ध क़ायम करने के लिए 1951 ई. में उन्होंने दिल्ली में प्रथम एशियाई खेलों का आयोजन करवाया। समाजवादी विचारधारा से प्रभावित नेहरू ने भारत में लोकतांत्रिक समाजवाद की स्थापना का लक्ष्य रखा। उन्होंने आर्थिक योजना की आवश्यकता पर बल दिया। नेहरू जी ने साम्प्रदायिकता का विरोध करते हुए धर्मनिरपेक्षता पर बल दिया। उनके व्यक्तिगत प्रयास से ही भारत को एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र घोषित किया गया था। यह जवाहर लाल नेहरू ही थे जिन्होंने भिलाई, राउरकेला और बोकारो जैसे देश के सबसे बड़ी स्टील प्लांट स्थापित किए। इतना ही नहीं आईआईएससी और आईआईटी जैसे कई बड़े शैक्षिक संस्थान भी स्थापित किए।
  10. जवाहरलाल नेहरू के नाम पर एक विश्वविद्यालय भी हैं जिसे हम जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) के नाम से जानते हैं। वह लाल किले पर तिरंगा लहराने वाले पहले शख्स थे। जवाहरलाल नेहरू को नोबल पुरस्कार (Nobel Prize) के लिए 11 बार नॉमिनेट हो चुके हैं। कई बार उन्हें शांति के नोबल के लिए भी नॉमिनेट किया जा चुका हैं। लेकिन एक बार भी वह पुरस्कार हासिल नही कर पाए हैं। जवाहरलाल नेहरू पर चार बार जानलेवा हमला हुआ था, पहली बार 1947 में बंटवारे के दौरान उन पर हमला हुआ था। तब वे भारत–पाकिस्तान सीमा पर थे। इसके बाद 1955 में महाराष्ट्र में चाकू से हमला किया गया। 1956 में बम से रेल की पटरी उड़ाने की कोशिश भी नाकाम हो गई थी।

आपकी वर्ष भर की परीक्षा तैयारी के लिए OnlineTyari समस्त छात्रों को विशेष छुट की पेशकश कर रहा है। बाल दिवस पर कूपन कोड: BALDIWAS20 का प्रयोग कर Online TyariPLUS की सभी विशेषताओं का लाभ उठायें-

TyariPLUS जॉइन करें !
अपनी आगामी सभी परीक्षाओं की तैयारी के लिए अब सिर्फ TyariPLUS की सदस्यता लें और वर्ष भर अपनी तैयारी जारी रखें-
TyariPLUS सदस्यता के फायदे

  • विस्तृत परफॉरमेंस रिपोर्ट
  • विशेषज्ञों द्वारा नि: शुल्क परामर्श
  • मुफ्त मासिक करेंट अफेयर डाइजेस्ट
  • विज्ञापन-मुक्त अनुभव और भी बहुत कुछ

परीक्षा के लिए आवेदन करने वाले सभी उम्मीदवार अपनी परीक्षा के लिए तैयारी जारी रखें और मॉक टेस्ट से अपनी तैयारी को जांचते रहें। अनलिमिटेड मॉक टेस्ट से अभ्यास करने के लिए अभी TyariPLUS जॉइन करें।

अगर आप को यह लेख पसंद आया हो तो इसे लाइक करें, शेयर करें और कमेंट करना न भूलें। 

सरकारी परीक्षा की नवीनतम जानकारियों के लिए हमसे जुड़े रहें। प्रतियोगी परीक्षाओं में उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए सर्वश्रेष्ठ परीक्षा तैयारी ऐप नि:शुल्क डाउनलोड करें।

Best Exam Preparation App OnlineTyari

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.