TyariPLUS के संग केरल बाढ़ पीड़ितों की मदद कीजिए

TyariPLUS के संग केरल बाढ़ पीड़ितों की मदद को हाथ बढ़ाए: भगवान की धरती कही जाने वाली केरल पर इस समय ईश्‍वर कहर बरपा रहा है। मूसलधार बारिश की वजह से पूरा केरल पानी में डूब चुका है और इस राज्‍य के 13 से भी ज्‍यादा जिलों में पानी भर चुका है। पिछले 100 सालों में केरल जैसी प्राकृतिक आपदा का मंजर अब तक देखने को नहीं मिला था। यहां पर लोग बिना बिजली और खाने के जीवन बसर कर रहे हैं। राज्‍य के कई लोग तो घर की पहली मंजिल तक पानी भर जाने की वजह से घंटों तक छतों पर बैठे रहते हैं। अब हालात और भी ज्‍यादा बदतर होते जा रहे है और इसी वजह से केरल राज्‍य में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है।

केरल में बाढ़ के बाद बीमारियों से निपटना बड़ी चुनौती हो गई है (khabar.ndtv.com photo)

रिपोर्ट की मानें तो केरल में इस समय 1.3 लाख लोग बेघर हो चुके हैं और अब तक 324 से ज्‍यादा केरल वासियों की मौत हो चुकी है। 5 लाख लोग प्रभावित हैं। 20 हज़ार करोड़ की संपत्ति नष्ट हो चुकी है। मलप्‍पुरम और इडुकी में भूस्‍खलन और बाढ़ की वजह से 2000 घर पानी में बह चुके हैं और कोच्चि एयरपोर्ट पर पानी भरने की वजह से से 26 अगस्‍त तक बंद कर दिया गया है। राज्‍य के 35 से भी ज्‍यादा बांधों का दरवाजा खोल दिया गया है।

राहत शिविरों में लोग (khabar.ndtv.com photo)

मौजूदा समय केरल के लोगों के लिए चुनौती भरा है। लोगों ने अपनी कमाई का साधन खो दिया है। घर से बेघर हुए और बाढ़ के दुःख से पीड़ित लोगों को भोजन, कपड़े, पीने के पानी और अन्य चीजों की ज़रूरत है। तकरीबन 6.33 लाख लोगों को राज्य के तीन हजार राहत शिविरों में रखा गया है। इन शिविरों में महामारी फैलने के खतरे को देखते हुए केंद्र सरकार ने यहां 3,757 चिकित्सा शिविर भी स्थापित किए हैं। पूरे केरल में राहत और बचाव की टीमें दिनों- रात लोगों को तक दवाइयां और खाने-पीने का सामान पहुंचाने में जुटी हुई हैं।

ये तो बस एक-दो उदाहरण हैं। अब तक हज़ारों लोगों की खैर-खबर तक नहीं है। प्राकृतिक आपदा कभी भी कहीं भी आ सकती है और अपनी चपेट में आपकी खुशहाल जिंदगी को बर्बाद कर सकती है। लेकिन इस दुख की घड़ी में हम जरूरतमंद लोगों की मदद तो कर ही सकते हैं। देश-विदेश से भी मदद के लिये लोग आगे आ रहे हैं। इसमें सामान्य आदमी से लेकर जानी-मानी हस्तियों ने मदद के लिए अपने हाथ बढ़ाएं हैं। कई विभागों के कर्मचारियों ने अपने एक दिन की सैलरी डोनेट कर दी है। केरल के लोगों को हम सब की सहायता की बहुत जरूरत है और ये हमारा कर्त्तव्‍य है की हमसे जितना भी हो सके उतना हम उनकी मदद करें। आपका छोटा सा योगदान भी केरलवासियों के लिए बहुत मददगार साबित हो सकता है। समुद्र में बूंद बूंद से सागर बनता है और इसी तरह आपकी छोटी सी मदद भी बहुत बड़ी साबित होगी।

Kanyakumari: People charting out the flood relief material to be sent to Kerala at Collectorate in Kanyakumari, on Saturday, Aug 18, 2018.(PTI Photo) (PTI8_18_2018_000129B)

अगर आप छात्र है और केरल वासियों की मदद करना चाहते हैं तो OnlineTyari आपको मौका दे रही है। आप TyariPLUS के साथ 100 रु. की आर्थिक मदद केरल बाढ़ पीड़ितों के लिए कर सकते हैं। TyariPLUS आपको आपकी सभी सरकारी नौकरी की परीक्षा के लिए तैयारी करने में मदद करेगी साथ ही आपके द्वारा खरीदे गए प्रति TyariPLUS की कीमत से 100 रुपए केरल बाढ़ पीड़ितों के मदद के लिए भेजेगी।

TyariPLUS के साथ कंप्यूटर पर दान करने के लिए ये करें

  1. अपने कंप्यूटर से OnlineTyari की साईट पर जाएँ।
  2. अपनी ईमेल आईडी से वेबसाइट पर लॉगइन/रजिस्टर करें।
  3.  TyariPLUS new पर क्लिक करें।
  4. इसके बाद खुले नए पेज पर जॉइन TyariPLUS पर क्लिक कर पेमेंट करें।
  5. पेमेंट करते समय Offer & Discount कूपन कोड: KERALA10 का प्रयोग करें और अपना योगदान सुनिश्चित करें।

TyariPLUS के साथ मोबाइल पर दान करने के लिए ये करें

    1. अपने मोबाइल पर OnlineTyari की साईट पर जाएँ।
    2. अपनी ईमेल आईडी से वेबसाइट पर लॉगइन/रजिस्टर करें।
    3.  अगर आप पहले से ही लॉग इन हैं तो “TyariPLUS जॉइन करें अभी” पर क्लिक करें।
    4. इसके बाद आपके सामने एक नई स्क्रीन खुलेगी जिसपर आपको “TyariPLUS जॉइन करें @रु 399” पर क्लिक कर पेमेंट करने के लिए आगे बढ़ें।
    5. अब नए खुले पेज पर डिस्काउंट कूपन को एडिट कर “KERALA10” अप्लाई करें और इसके पश्चात आवश्यक बैंकिंग विवरण दर्ज कर पेमेंट करें।

आशा है आपने केरल बाढ़ पीड़ितों की सहायता की होगी और एक जिम्मेदार नागरिक होने की अपनी जिम्मेदारी निभाई होगी।

सरकारी नौकरी की परीक्षाओं में उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए सर्वश्रेष्ठ सरकारी परीक्षा तैयारी ऐप नि:शुल्क डाउनलोड करें।

Best Exam Preparation App OnlineTyari

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.