IAS प्रारंभिक परीक्षा 2017 के लिए महत्वपूर्ण बिल और संशोधन: जुवेनाइल जस्टिस अधिनियम और सरोगैसी (नियंत्रण) विधेयक, 2016

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2017 के लिए महत्वपूर्ण बिल और संशोधन : संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) इस वर्ष 18 जून 2017 को सिविल सेवा की प्रारंभिक परीक्षा का आयोजन करेगा। ये देश की सबसे प्रतिष्ठित और कठिन परीक्षा है। इस परीक्षा में कुल आवेदन भरने वालों में मात्र 0.1-0.3 फ़ीसद के दर से पास होने वाले उम्मीदवारों की इस परीक्षा को पास करना बहुत मुश्किल है।

Crucial-Bills-And-Amendments-for-IAS-Prelims-2017

ये लेख कुछ बहुत महत्वपूर्ण बिल और संशोधन के बारे में बताएगा जो कि आपको आपकी आगामी परीक्षा में बहुत सहायक होंगे।

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2017 के लिए महत्वपूर्ण बिल और संशोधन : जुवेनाइल जस्टिस (बच्चों की देखभाल औऱ सुरक्षा) अधिनियम और सरोगैसी (नियंत्रण) विधेयक, 2016

आज हम अगले दो बिलों पर चर्चा करेंगे। उल्लेख किया गया है कि अगले दो विषयों के विवरण हैं- ‘जुवेनाइल जस्टिस अधिनियम और सरोगैसी (नियंत्रण) विधेयक, 2016’।

जुवेनाइल जस्टिस (बच्चों की देखभाल औऱ सुरक्षा) अधिनियम

इस विधेयक का नाम जुवेनाइल जस्टिस (बच्चों की देखभाल और सुरक्षा) विधेयक, 2014 है। यह महिला और बाल विकास मंत्रालय के अधीन आता है जो कि पास किया जा चुका है।

उद्देश्य

यह विधेयक जुवेनाइल द्वारा किए गए अपराधों के मद्देनज़र 12 अगस्त 2014 को लोक सभा में प्रस्तुत किया गया था। साथ ही ये उन बच्चों के लिए भी था जिन्हें सुरक्षा की ज़रूरत थी या रहने और गोद लेने की प्रक्रिया आदि पर विचार करने के लिए इसे प्रस्तुत किया गया था।

विधेयक की मुख्य विशेषताएं

  • यह विधेयक जुवेनाइल जस्टिस अधिनियम, 2000 के निरसन की मांग करता है। यह कानून से संघर्ष करते और सुरक्षा व देखभाल की जरूरत महसूस करते बच्चों को ध्यान में रखकर बनाया गया था।
  • यह विधेयक 16-18 वर्ष के जुवेनाइल को गंभीर अपराध करने पर वयस्क जैसा व्यवहार करने की अनुमति प्रदान करता है। 16-18 वर्ष का जुवेनाइल जो कम या गंभीर अपराध करता है उसके साथ वयस्क जैसा व्यवहार तभी किया जा सकता है जब उसे 21 वर्ष की आयु के बाद पकड़ा जा सके।
  • जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड (JJB) औऱ बाल कल्याण कमेटी (CWC) प्रत्येक जिले में गठित किए जाएंगे। JJB एक प्रारंभिक जांच रखेगी ये जांचने के लिए कि जुवेनाइल अपराधी सुधार गृह में भेजा जाना चाहिए या वयस्कों जैसा व्यवहार किया जाना चाहिए। CWC सुरक्षा व देखभाल की ज़रूरत वाले बच्चों के लिए संस्थागत देखभाल निर्धारित करेगी।
  • गोद लेने वाले अभिभावक की पात्रता या गोद लेने की प्रक्रिया को विधेयक में शामिल किया गया है।
  • बच्चों के खिलाफ़ हिंसा का दंड, बच्चों को नशीला पदार्थ खिलाना या बच्चों की खरीद-फरोख्त के विषय में भी बताया गया है।
  • जुवेनाइल के साथ वयस्कों जैसा व्यवहार किया जाना चाहिए या नहीं इस पर कई विचार हैं। कुछ का मानना है कि मौजूदा कानून गंभीर अपराध करने वाले जुवेनाइल के लिए निवारक नहीं है। एक अन्य विचार यह भी है कि एक सुधार उन्मुख तरीके से ऐसे अपराधों को रोका जा सकता है।
  • गंभीर अपराध करने वाले जुवेनाइल के साथ पकड़ने की तिथि के आधार पर वयस्क जैसा व्यवहार करने के प्रावधान से अनुच्छेद 14 (समानता का अधिकार) औऱ अनुच्छेद 21 (कानून और प्रक्रियाएं सभी निष्पक्ष हैं) का उल्लंघन होगा। यह प्रावधान अनुच्छेद 20 (1) का भी उल्लंघन करता है, एक ही अपराध के लिए उच्च दंड देकर, यदि व्यक्ति को 21 वर्ष की आयु में पकड़ लिया जाता है।
  • बच्चों के अधिकारों पर UN कन्वेंशन में सभी हस्ताक्षर किए हुए राष्ट्रों को 18 वर्ष से नीचे बच्चों के साथ समान रूप से व्यवहार करना होगा। बच्चों के साथ वयस्कों जैसा व्यवहार करना इस कन्वेंशन का उल्लंघन है।
  • विधेयक में प्रदान किए गए कुछ दंड अपराध के सापेक्ष नहीं हैं। उदाहरण के लिए, बच्चों को बेचने का दंड, एक बच्चे को मादक या मनोवैज्ञानिक पदार्थ खिलाने से कम है।
  • विधेयक का परीक्षण करने वाली स्टैंडिंग कमेटी ने पाया कि जुवेनाइल अपराधों के लेकर एकत्रित डाटा में विधेयक ग़लत था और संविधान के कुछ प्रावधानों का उल्लंघन कर रहा है।

IAS All India Prelims Test Series

ओरिएंट आईएएस ऑल इंडिया आईएएस प्रीलिम्स टेस्ट सीरीज 2017

IAS परीक्षाओं की तैयारी हेतु अग्रणी संस्थान ओरिएंट आईएएस द्वारा ‘ऑल इंडिया आईएएस प्रीलिम्स टेस्ट सीरीज 2017’ को तैयार किया गया है। इस पुस्तक में 100 प्रश्नों वाले 16 टेस्ट सीरीज IAS प्रारंभिक परीक्षा के अनुरूप तैयार किए गए हैं। टेस्ट सीरीज में परम्परागत प्रश्न के साथ-साथ नवीन समसामयिकी को भी सम्यक स्थान दिया गया है। अभ्यर्थियों में उत्तर लेखन विकसित करने हेतु प्रत्येक प्रश्न का विश्लेषण सहित व्याख्यात्मक हल भी प्रदान किया गया है।

अभी ख़रीदे 

अब हम पहले विषय के विस्तार को विराम देंगे और अगले विषय यानि, सरोगैसी (नियंत्रण) विधेयक, 2016 टॉपिक के बारे में चर्चा करेंगे।

सरोगैसी (नियंत्रण) विधेयक, 2016

इस विधेयक का नाम सरोगैसी (नियंत्रण) विधेयक, 2016 है। यह स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के अधीन आता है जो कि पास किया जा चुका है।

उद्देश्य

  • यह विधेयक महिलाओं के शोषण को खत्म करने का उद्देश्य रखता है विशेषकर ग्रामीण और कबीलाई क्षेत्रों की महिलाओं के लिए।
  • यह विधेयक सरोगैसी के परिणामस्वरूप जन्में बच्चों के पितृत्व को सुनिश्चित करता है।
सरोगैसी का अर्थ:
  • विधेयक सरोगैसी को एक ऐसे अभ्यास के रूप में परिभाषित करता है जहां एक महिला किसी जोड़े के लिए बच्चे को जन्म देती है और जन्म के बाद बच्चे को उस जोड़े को सौंपने के लिए राज़ी हो जाती है जिन्हें बच्चा चाहिए।
  • सरोगैसी का अर्थ है कि जहां एक महिला एक बच्चे को जन्म देती है उनके लिए जिन्हें बच्चे की ज़रूरत होती है।
सरोगैसी कितने प्रकार की है?
  • सीधी (या पारंपरिक) सरोगैसी: सरोगेट माँ बच्चा चाहने वाले पिता के सहारे गर्भवती होने के लिए बोवाई किट का प्रयोग करती है। इसके बाद सरोगेट अंडे से गर्भवती हुआ जा सकता है।
  • मेज़बान (या गर्भकालीन) सरोगैसी : मेज़बाल सरोगैसी तब होती है जब IVF का प्रयोग किया जाता है, या तो बच्चा चाहने वाली माँ के अंडों के साथ या डोनर के अंडों के साथ। यही कारण है कि सरोगेट माँ अपने अंडों का प्रयोग नहीं करती है और आनुवांशिक रूप से बच्चे से संबंधित नहीं होती है। शारीरिक रूप से यह अधिक जटिल है और पारंपरिक सरोगैसी से अपेक्षाकृत काफ़ी महंगा है।

IAS Prelims Mock Test Series 2017

क्रॉनिकल ऑल इंडिया आईएएस प्रीलिम्स टेस्ट सीरीज 2017

क्रॉनिकल प्रकाशन सिविल सेवा परीक्षाओं की तैयारी के लिए एक जाना हुआ नाम है। प्रत्येक वर्ष काफी प्रश्न इसकी पुस्तकों से पूंछे जाते हैं।ऑल इंडिया आईएएस प्रीलिम्स टेस्ट सीरीज 2017’ इसी श्रेणी में एक अन्य पुस्तक हैं जो IAS परीक्षा 2017 को ध्यान में रखकर तैयार तैयार किया गया है। इस पुस्तक में NCERT आधारित, विषय विशेष और समसामयिकी आधारित टेस्ट पेपर रखा गया है और प्रत्येक टेस्ट सीरीज में 100 प्रश्न सम्मिलित किये गए है।

सामान्य अध्ययन पेपर-I के 9 टेस्ट और सीसेट पेपर-II के 5 टेस्ट भी सम्मिलित किये गए है। अभ्यर्थी में उत्तर लेखन विकसित करने हेतु प्रत्येक प्रश्न का विश्लेषण सहित व्याख्यात्मक हल भी प्रदान किया गया है।

अभी ख़रीदे

IAS Prelims All India Test Series 2017

क्रॉनिकल सिविल सर्विसेज करंट अफेयर मॉक टेस्ट सीरीज 2017

यह मॉक टेस्ट सीरीज IAS प्रीलिम्स 2017 के नवीनतम परीक्षा पैटर्न पर आधारित है और आईएस 2017 में प्रतिभाग करने वाले अभ्यर्थीयों के लिए विशेष उपयोगी है। इस ऑनलाइन मॉक टेस्ट सीरीज में आप अपने मोबाइल से भी प्रतिभाग कर सकते हैं और अपनी तैयारी की जांच कर सकते हैं।

सिविल सर्विसेज करंट अफेयर: मॉक टेस्ट सीरीज 2017 की शुरुवात क्रॉनिकल IAS के सहयोग से Online Tyari द्वारा आपको प्रदान किया जा रहा है।

अभी ख़रीदे

विधेयक की मुख्य विशेषताएं

  • व्यवसायिक सरोगैसी पर नया विधेयक पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगाता है लेकिन इच्छित अनुपजाऊ अभिभावकों के लिए नैतिक सरोगैसी की अनुमित देता है।
  • यह सिंगल पैरेंट्स, समलैंगिक जोड़ों और लिव-इन रिलेशनशिप में रहने वाले जोड़ों को परोपकारी सरोगैसी के लिए प्रतिबंधित करता है।
  • यह विधेयक विदेशियो को भारतीय सरोगैट माँ का प्रयोग करने से प्रभावीरूप से प्रतिबंधित करता है। इनमें, भारतीय मूल के विदेशी नागरिक (NRI) शामिल हैं। एक संबंधित प्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय सरोगैसी उद्योग करीब़ 1 खरब डालर प्रतिवर्ष का है जो कि बढ़ रहा है।
  • प्रस्तावित विधायिका के अनुसार, सरोगैसी के लिए सरोगैट माँ तक पहुंचने के लिए एक जोड़े को कम से कम 5 वर्षों के लिए विवाहित होना चाहिए। इसके अलावा, महिला को 23 से 50 वर्ष की आयु और पुरूष को 26-55 वर्ष की आयु का होना चाहिए।
  • एक सरोगैट बच्चे को सभी समान विरासत अधिकार होंगे एक आनुवांशिक या गोद लिए हुए बच्चे के रूप में।
  • सरोगैट माँ को एक करीबी संबंधी होना चाहिए।
  • एक सरोगैट बच्चे को छोड़ने और सरोगैट माँ के साथ सही बर्ताव ना करने के लिए 10 साल की सज़ा और 10 लाख तक का जुर्माना होगा।

IAS Prelims 2017 Best Books

भारतीय अर्थव्यवस्था: सिविल सेवा परीक्षा के लिए सफल मार्गदर्शिका – रमेश सिंह

अपने ज्ञान में विस्तार के लिए और सिविल सेवा परीक्षाओं में भारतीय अर्थव्यवस्था की तैयारी के लिए रमेश सिंह द्वारा लिखित और MC Graw Hill द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक का अध्ययन अवश्यक है। सामान्य अध्ययन के कौशल को विकसित करने में भी यह पुस्तक सहायक है और इसमें सिविल सेवा परीक्षाओं के पाठ्यक्रम के तहत अध्याय और सामग्री का संकलन किया गया है जिससे अभ्यर्थी को परीक्षा में सफलता पाना सरल हो जाएगा।

अभी खरीदें

IAS Prelims Best Books Best Price

भारत का भूगोल: माजिद हुसैन और रमेश सिंह

भारत का भूगोल पुस्तक में भारतीय भूगोल का विहंगम अध्ययन किया गया है। इस पुस्तक में भौगोलिक संरचना, नदी, मरुस्थल, पहाड़ और पठार, पहाड़ी श्रृंखला, नहर, कृषि, अभ्यारण, खनिज, उर्जा स्त्रोत, जलवायु, मिट्टी, राजनीतिक-भूगोल, भौगोलिक-संकृति आदि विषयों पर कवर किया गया है। यह पुस्तक सरल भाषा में सम्पूर्ण सिविल सर्विस परीक्षा के पाठ्यक्रम को कवर करती है इसलिए यह पुस्तक सभी हिंदी माध्यम से तैयारी करने वाले छात्रों के लिए विशेष उपयोगी बन गई है।

अभी खरीदें

ias pcs g.s. studies years solved papers

सामान्य अध्ययन : अध्यायवार विश्लेषण सहित हल प्रश्न-पत्र

इस पुस्तक में सामान्य अध्ययन विषय के अधिकतम प्रश्नों को शामिल किया गया है जिसका अध्ययन करना हर IAS उम्मीदवार के लिए बहुत लाभकारी सिद्ध होगा। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस पुस्तक में वर्ष 1990 से लेकर अब तक के सभी प्रश्न-पत्रों का हल सहित विवरण उपलब्ध है, जिसमें अध्यायवार विश्लेषण भी शामिल है। यह पुस्तक सरल भाषा में सिविल सर्विस परीक्षा के सामान्य अध्ययन विषय के सम्पूर्ण पाठ्यक्रम को कवर करती है इसलिए यह पुस्तक सभी हिंदी माध्यम से तैयारी करने वाले छात्रों के लिए विशेष उपयोगी बन गई है।

अभी खरीदें

IAS की प्रारंभिक परीक्षा 2017 में अपनी तैयारी के स्तर को जानने के लिए OnlineTyari प्लेटफॉर्म के माध्यम आयोजित कराए जा रहे अखिल भारतीय टेस्ट (AIT) के लिए ख़ुद को पंजीकृत करें।

IAS-Prelims-GS-Paper-1-All-India-Test-10-June-2017-Register-Now

यहां हम महत्वपूर्ण बिल और संशोधन पर इस लेख को विराम देते हैं। अन्य विषयों के लिए हमारे साथ बने रहिए जिनकी चर्चा हम दिन-प्रतिदिन करेंगे। सिविल सेवा परीक्षाओं में उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए सर्वश्रेष्ठ IAS परीक्षा तैयारी एप नि:शुल्क डाउनलोड करें।

Best Exam Preparation App OnlineTyari

अगर अभी भी आपके मन में किसी प्रकार की कोई शंका या कोई प्रश्न है तो कृपया नीचे दिए गए कमेंट सेक्शन में उसका ज़िक्र करें और बेहतर प्रतिक्रिया के लिए OnlineTyari Community पर अपने प्रश्नों को हमसे साझा करें।

1 REPLY

  1. Minakshi shukla

    I like this online app it is very useful for me it helps me for my preference for all exam thank you for the online app.

    Reply

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.