CTET परीक्षा 2018: पियाजे का संज्ञानात्मक विकास सिद्धांत

CTET परीक्षा 2018: पियाजे का संज्ञानात्मक विकास सिद्धांत: केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (CTET) का आयोजन, केंद्र सरकार के स्कूलों जैसे-NVS/KVS/तिब्बती विद्यालय में उम्मीदवारों की शिक्षक के रूप में भर्ती के लिए, केन्द्रीय माध्यमिक माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा किया जाता है। यह प्रत्येक वर्ष आयोजित होने वाली एक अखिल भारतीय स्तर की प्रवेश परीक्षा है। इस बार, महीने की समाप्ति होने वाली है, लेकिन CBSE ने CTET परीक्षा 2017 के संबंध में कोई जानकारी अपडेट नहीं की है।

CTET 2018 की परीक्षा 9 दिसंबर को आयोजित की जानी है। बहुत से CTET उम्मीदवारों ने इसके लिए तैयारी पूर्ण कर ली होगी और अपने तैयारी की जांच कर रहे होंगे। तो, आइये इस लेख के माध्यम से पियाजे के संज्ञानात्मक विकास सिद्धांत को समझते हैं।

 

CTET परीक्षा 2018: पियाजे का संज्ञानात्मक विकास सिद्धांत

 पियाजे के संज्ञानात्मक विकास की संकल्पनाएं

1. संवेदी-पेशीय अवस्था (सेसंरी मोटर स्टेज)

यह अवस्था बालक में जन्म से लेकर दो वर्ष तक की अवधि में होती है। इस अवस्था में बालक अपनी इंद्रियों के अनुभवों और उन पर पेशीय कार्य करके समझ विकसित करते हैं, जैसे देखकर छूना, पैर मारना आदि। इसे संवेदी पेशीय अवस्था कहते हैं। शुरूआत में बालक प्रतिवर्ती क्रियाएं करता है, जैसे कि चूसना और धीरे-धीरे संवेदी पेशीय कार्य पैटर्न दिखाता है, जैसे बर-बार गिराना, जिनके गिरने की आवाज़ उसे रोचक लगे।

CTET मॉक टेस्ट सीरीज 2018

इस अवस्था में सबसे बड़ी उपलब्धि बालक द्वारा वस्तु स्थायित्व (Object Permanence) का संज्ञान होना है। इसके द्वारा बालक यह जान पाता है कि घटनाएं एवं वस्तुएं तब भी उपस्थित रहती हैं जब वे हमारे सामने (देखी, सुनी या महसूस) नहीं होती हैं। साथ ही बालक स्वयं व विश्व में (कि दोनों अलग अस्तित्व रखते हैं) अंतर स्पष्ट कर पाने की स्थिति कर पाने की स्थिति में आ जाता है।

2. प्राकसंप्रत्यात्मक अवस्था

पियाजे के अनुसार, दूसरी अवस्था लगभग 2 से 7 वर्ष तक होती है। इस अवस्था को पुन: दो भागों में बांटा जा सकता है।

  • प्राकसंप्रत्यात्मक
  • अंतर्दर्शी अवधि

प्राकसंप्रत्यात्मक : यह अवधि 2 से 4 वर्ष तक की होती है। इस अवधि में बालक वस्तु सामने न होने पर भी उसकी मानसिक छवि बना लेता है। बालक बाह्य जगत की विभिन्न वस्तुओं एवं व्यक्तियों की मानसिक उपस्थिति के लिए विभिन्न संकेतों का विकास कर लेता है।

भाषा का विस्तृत प्रयोग तथा आभासी क्रियाएं बच्चों में सांकेतिक विचारों के विकास को दिखाती है, जैसे लकड़ी को ट्रक समझकर चलाते हुए खेलना। इसके अलावा बच्चों के द्वारा की गई ड्राइंग में भी उनके द्वारा प्रयोग किए गए संकेतों को देखा जा सकता है।

अंतर्दर्शी अवधि : यह अवधि लगभग 4 से 7 साल की होती है। इस अवधि में बच्चों में प्रारंभिक तर्कशक्ति आ जाती है और इससे संबंधित विभिन्न प्रश्नों को जानना चाहता है। पियाजे ने इसे अंतर्दर्शी अवधि इसलिए कहा है कि क्योंकि बच्चा इस अवधि में अपने ज्ञान व समझ के बारे में पूर्णतया जानते हैं। उदाहरण के लिए वे गणितीय घटाना व गुणा कर पाते हैं, लेकिन कहां प्रयोग करना है और क्यों प्रयोग करना है इसे नहीं समझ पाते हैं।

3. मूर्त संक्रियात्मक की अवस्था

पियाजे के सिद्धांत के अनुसार, ज्ञानात्मक विकास की तरह यह तीसरी अवस्था लगभग 7 साल से प्रारंभ होकर 12 साल तक चलती है। हालांकि इस अवस्था में बच्चों के विचारों में संक्रियात्मक क्षमता आ जाती है और अंतर्दर्शी तर्कशक्ति की जगह तार्किकता (Logical Reasoning) आ जाती है। परन्तु बालक समस्या समाधान हेतू मूर्त परिस्थितियों पर ही निर्भर करता है। उदाहरण के लिए दो ठोस वस्तुओं से संबंधित समस्या के लिए बालक आसानी से मानसिक संक्रिया कर लेता है लेकिन यदि उन वस्तुओं को न देकर उनके बारे में शाब्दिक कथन दिए जाएं तो ऐसी समस्याएं अमूर्त होने के कारण वे इसे हल नहीं कर पाएंगे।

4. औपचारिक संक्रिया की व्यवस्था

पियाजे के अनुसार यह भी चौथी अवस्था है जो लगभग 11 वर्ष से आरंभ होती है और वयस्कावस्था तक चलती है। इस अवस्था में बालक का चिंतन अधिक अमूर्त, अधिक क्रमबद्ध, लचीला और तार्किक हो जाता है। औपचारिक संक्रिया अवस्था में चिंतन की अमूर्त गुणवत्ता, मौखिक कथनों की समस्या हल करने की क्षमता में देखी जा सकती है। उदाहरण के लिए यह तार्किक उत्तर कि अगर A=B और  A=C को उनके सामने कथन स्वरूप में रखा जाए तो वे आसानी से निष्कर्ष तक पहुंच जाते हैं। पियाजे क् अनुसार, इस अवस्था में बच्चे वैज्ञानिकों की तरह तार्किक सोच रखते हैं।

यहां हम अपने इस लेख को समाप्त करते हैं और उम्मीद करते हैं कि यह लेख आगामी परीक्षा की तैयारी करने में आपकी सहायता करेगा।

अब प्रत्येक परीक्षा के लिए अलग-अलग टेस्ट पैकेज खरीदने की कोई जरुरत नहीं है। सिर्फ 499 रुपये में TyariPLUS की सदस्यता लें और अनलिमिटेड मॉक टेस्ट्स पाएं। अपने मजबूत पक्ष, कमजोर पक्ष और सुधार क्षेत्रों को जानने के लिए फ्री मॉक टेस्ट दें और प्रत्येक टेस्ट देने  के बाद गहन विश्लेषण रिपोर्ट के साथ अपने लिए व्यक्तिगत प्रतिक्रियाएं और टेस्ट में सम्मिलित हुए छात्रों के मध्य रैंकिंग तुरंत प्राप्त करें।
Online TyariPLUS : Join Now !

CTET भर्ती परीक्षा 2018 के संबंध में और अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए हमसे जुड़े रहें। शिक्षण परीक्षाओं में उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए सर्वश्रेष्ठ शिक्षण परीक्षा तैयारी ऐप नि:शुल्क डाउनलोड करें।

Best Government Exam Preparation App OnlineTyari

1 REPLY

  1. Rajni thapliya

    Hello sir mene 2008(44.68%)me B.A.,2011me Bed j&k se kiya or fir 2013 me dobara hindi sanskrit se BA kiya jisme 53% Bani hai to kya me ctet ka form bar sakti hu please bataye,

    Reply

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.