सरकारी परीक्षा में सफलता के लिए अपना स्कोर और एक्यूरेसी कैसे बढ़ाएं !

सरकारी परीक्षा में सफलता के लिए अपना स्कोर और एक्यूरेसी कैसे बढ़ाएं –प्रत्येक वर्ष बहुत बड़ी संख्या में उम्मीदवार सरकारी नौकरी के लिए तैयारी करते हैं और IBPS, SSC, IAS, PCS, Police आदि परीक्षाएं देते हैं इस उम्मीद में कि उनका “सरकारी नौकरी” पाने का सपना पूरा हो जाएगा। सरकारी नौकरियों की मांग सदाबहार होती है और नौकरी की सुरक्षा प्रदान करती है। प्राइवेट सेक्टर की अपेक्षा बैंकिंग और प्रशासनिक सेवाओं में नियमित पे-स्केल, भत्ते और अन्य लाभ दिए जाते हैं।

YouTube Subscribe

लेकिन सरकारी परीक्षाओं में सफलता पाने के लिए, आपको अपनी तैयारी बेहतर करनी होगी। अधिकतर सरकारी नौकरियों में कई स्तरीय परीक्षाएं होती हैं जिनमें चुने हुए उम्मीदवार साक्षात्कार स्तर तक पहुंचते हैं। इसलिए, आपका पहला पड़ाव है प्रारंभिक परीक्षा को पार करने का। स्वाध्याय के बजाए अधिकतर उम्मीदवार कोचिंग संस्थानों में जाना पसंद करते हैं। इस गला-काट प्रतियोगिता के दौर में सटीक रणनीति और कठिन परिश्रम ही किसी भी सरकारी परीक्षा को पार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

सरकारी परीक्षा में सफलता के लिए अपना स्कोर और एक्यूरेसी कैसे बढ़ाएं !

प्रत्येक व्यक्ति के सीखने की पद्धति अलग होती है। आप स्वयं सर्वश्रेष्ठ रूप में कैसे सीख सकेंगे ये स्वयं समझना होगा।आपको यह भी समझना होगा सफलता की कुंजी पुनरावृत्ति (रीविजन) है और यह एक निरंतर चलने वाली प्रक्रिया है। हमारी कोशिश परीक्षा पाठ्यक्रम को सही तकनीक (प्रक्रिया) से तैयार करने में आपकी सहायता करना है। नोट्स लेने के कौशल को बेहतर करना है, परीक्षा के लिए रणनीति क्या हो और तयशुदा समय में प्रश्न-पत्र के प्रश्नों को सुलझाने की क्षमता को बढ़ाने की है। आइए हम कुछ महत्त्वपूर्ण तथ्यों पर नजर डाल लेते हैं जिससे आप अपनी परीक्षा में अपना स्कोर बढ़ा सकते हैं और प्रश्नों को हल करने की गति के साथ-साथ गलतियों को कम कर सकते हैं-

(1) परीक्षा पैटर्न और पाठ्यक्रम : सबसे महत्त्वपूर्ण है आप जिस परीक्षा में सम्मिलित होने जा रहे हैं उस परीक्षा स्ट्रक्चर को गहनता से समझे। ऐसा न हो कि आपकी मेहनत बिना किसी वजह के हो क्योंकि प्रतियोगी छात्रों को किसी भी विषय में शोध नहीं करना है बल्कि उन्हें विषय की आधारभूत समझ के साथ सिलेबस के आधार पर अपनी जानकारी को परिपूर्ण करना है इसलिए उम्मीदवारों को सिलेबस सिर्फ देखना नहीं है बल्कि उसे जज्ब कर लेना है। इससे आप अतिरिक्त पढ़ाई से बच जाएंगे और पाठ्यक्रम को भी समय से ख़त्म कर पाएंगे।

(2) शान्तमय और प्रकाशमय हो पढ़ाई का स्थान :  पढ़ाई के लिए एक शांत एवं एक प्रकाशपूर्ण स्थान चुने, यह आवश्यक है कि आप खुद को अनावश्यक बाधाओं से अलग कर लें, दूसरों से स्पष्ट कहें कि आप पढ़ाई कर रहे हैं एवं एकांत चाहते हैं और पढ़ाई के बाद आप उनसे मिलेंगे। पढ़ाई के लिए आप टेबल अथवा डेस्क का उपयोग करें। पढ़ाई  के लिए आप बिस्तर या आराम कुर्सी पर बिलकुल न लेटें, अगर आप चाहें तो बीच-बीच में कुछ देर के लिए विश्राम लें।

(3) पढ़ाई का समय निश्चित और नियत करें : स्वयं अकेले अध्ययन करें ताकि आप अवधारणा/मूल तथ्यों और जानकारियों को आत्मसात कर सकें। समूह में भी अध्ययन करें ताकि आप अपना सही आंकलन कर सकें, खुद का मूल्यांकन कर सकें। पढ़ाई के लिए दिन का सबसे अच्छा समय चुनें। कोई हो सकता है रात भर पढ़ें और दिन में सोए। हो सकता है कि यह दिनचर्या उसके लिये सहज हो पर आपके लिए सहज न हो। इसी तरह, कोई हर रोज़ तीन-चार विषय एक साथ पढ़ता हो जबकि हो सकता है कि आपकी सहजता एक बार में एक विषय पढ़ने में हो। ऐसी स्थिति में आपको अपने स्वभाव के अनुसार ही रणनीति बनाई चाहिये। जिसमें दिन का सबसे बेहतर समय चुने जिसमें एकाग्रता से अपनी पढ़ाई पूरी कर सकें। कुछ घंटे गंभीर अध्ययन के लिए निश्चित कर लें एवं उसका कड़ाई से पालन करें। अगर आप एक साथ कई घंटे नहीं पढ़ सकते तो छोटे विराम लें। कहा जाता है व्यक्ति 30 मिनट पूरी एकाग्रचित हो सकता है उसके बाद उसकी एकाग्रता कम होने लगती है। जब आप महसूस करें कि अब आप पूरी तरह से एकाग्र नही हो पा रहे तो उठें, कुछ देर टहलें, कुछ पियें (फलों का रस, कॉफी, दूध, चाय, शर्बत इत्यादि) और फिर बैठें।

(4) प्रत्येक टॉपिक क्लियर करते चलें- आपने किसी विषय की अध्ययन सामग्री पढ़ी और उसे ठीक तरीके से न समझ पाए तो उसे फिर से न पढ़ें और समझने की कोशिश करें, न समझ में आएं तो शिक्षक, मित्रों से परामर्श लें। उस पर अपने साथियों से चर्चा करें, इन्टरनेट पर खोज कर उसकी धारणा को स्पष्ट कर लें, तब आगे बढ़ें। उसे छोड़कर आगे न बढ़ें।स्वयं को हमेशा और बेहतर करने के लिए चुनौती देते रहें, इससे आप में खुद ही प्रतिस्पर्धात्मक योग्यता विकसित हो जाएगी। आप सकारात्मक होकर बेहतर करने के लिए खुद को प्रेरित रख पाएंगे और आपका आत्मविश्वास भी प्रबल रहेगा।परीक्षा के समय यही सकारात्मकता आपको तनाव और घबराहट से बचाती है। जो भी पढ़ें उसके शोर्टनोट बनाते चलें, जिससे रिवीजन में आसानी हो अन्यथा जहाँ पढ़ रहे हैं उसके महत्त्वपूर्ण बिंदु को हाईलाइट भी कर सकते हैं। गणित और रीजनिंग को समझ कर अभ्यास करने पर अधिक बल दें। इन्हें सिर्फ पढ़ने से काम नहीं चलेगा।

(5) रीविजन करें : टाइम टेबल में पुनरावृत्ति के लिए पर्याप्त वक्त रखें, जिससे आखिरी समय में परेशानी न हो। जैसे ही कोचिंग समाप्त होती है अपने क्लास नोट्स की पुनरावृत्ति कर लें। अगर आप कोचिंग नहीं लेते तो कल के पढ़ें हुए अध्ययन को दोहरा लें और फिर नया अध्ययन करें। दोहराने की प्रक्रिया अगले दिन अध्ययन शुरू होने से पहले और फिर सप्ताह के अंत में और फिर महीने भर में जितना पढ़ा उसे दुहराने की होनी चाहिए। अलग-अलग तरीकों से पुनरावृत्ति करें ताकि आपको पढ़ने में भी मजा आए।  इससे आप पढ़ी हुए सामग्री को भूलेंगे नहीं। कई बार दूसरों के साथ अध्ययन करने पर आप यह जान सकते हैं कि विषय को पूरी तरह से समझ पायें हैं या नहीं। यदि आपने प्रश्नों के सही उत्तर दिए हैं और उसे आप दूसरों को अच्छी तरह समझा पाने में सफल हो गए तो समझिए कि आपके द्वारा अध्ययन किये गए विषय को आपने आत्मसात कर लिया। वरना आप महसूस करेंगे कि अभी कुछ और मेहनत करना जरूरी है।

(6) कैसे पढ़ें : किसी पाठ्य-सामग्री या पुस्तक को सिर्फ सीधे-सीधे पढ़ने के बजाय उसे और दिलचस्प बनाईये जैसे कि महत्त्वपूर्ण अंश को चिन्हांकित करने के लिए हाइलाईटर का उपयोग करें। महत्त्वपूर्ण अंश के छोटे-छोटे ट्रिक बनाकर नोट करें। जिस पाठ को न समझ जाएं उसके प्रश्न बनाकर नोट करें। पैराग्राफ या विभाग को प्रश्न में परिवर्तित करके पढ़ने, समझने के बाद उत्तर लिखें। आप वही पढ़ रहे हैं जो परीक्षा के लिए अनिवार्य है और वह आपका लक्ष्य है ऐसा सोच कर  पढ़ने से परीक्षा का तनाव कम होगा और हम एकाग्र होकर अपना अध्ययन कर सकेंगे।

(8) विगत वर्ष के प्रश्न पत्र का करें अवलोकनपरीक्षा में पूछे जा रहे प्रश्नों पर पैनी नजर रखें कि किस तरह के प्रश्न पूछे जा रहे हैं और उनका कठिनाई स्तर क्या है, क्या आप अधिकतर प्रश्नों को हल करने में सक्षम हैं? क्या आपके उत्तर लेखन का ढंग वह है जो परीक्षा उम्मीदवारों से मांग करती है?

(9) मॉक टेस्ट में सम्मिलित हों : परीक्षा की तैयारी का एक अहम हिस्सा है सेल्फ असाइनमेंट और मॉक टेस्ट। निश्चित समय-सीमा में मॉक टेस्ट देने के लिए आप स्टॉप वॉच का इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे आपका आत्मविश्वास भी बढ़ेगा और स्पीड भी। विभिन्न प्लेटफ़ॉर्म द्वारा आयोजित होने वाले मॉक टेस्ट में सम्मिलित होकर दूसरें छात्रों के साथ तुलना कर अपना आत्मवलोकन करते रहिए। कमियों को दूर कीजिए। ऑनलाइन मॉक टेस्ट में सम्मिलित होकर अपनी ऑल इंडिया रैंक प्राप्त कर जानिए कि आपकी तैयारी का स्तर क्या है। अभी किस सेक्शन या किस विषय पर आपको और अध्ययन की जरुरत है? उन सेक्शन/विषय पर अपनी पकड़ मजबूत करें।

कोशिश करें कि प्रतिदिन 2 मॉक टेस्ट या सेक्शनल टेस्ट पेपर हल करें। इससे आपके स्कोर में प्रभावी सुधार होगा। क्वांटेटिव एनालिसिस और रीजिंनग के लिए तो इस तरह का नियमित अभ्यास बहुत ही जरूरी है। जीके, कम्प्यूटर, हिंदी/अंग्रेजी  सेक्शन की उपेक्षा न करें ये दोनों खंड कम समय लेते हैं और इनमें आप आसानी से स्कोर कर सकते हैं।

OnlineTyari प्लेटफॉर्म पर हमने यह पाया है कि वह उम्मीदवार जो अपनी परीक्षा का 10-15 टेस्ट से अभ्यास करते हैं उनके स्कोर में 30-40% का सुधार नजर आता है और वह उम्मीदवार वास्तविक परीक्षा में अच्छा स्कोर प्राप्त करते हैं।

IBPS RRB परीक्षा 2018: जानें चंदू पासुपुला ने कैसे अपना स्कोर 22 से 84 सुधारा(9) प्रमुख समाचार पर नजर रखें: प्रतिदिन अख़बार अवश्य पढ़ें। उम्मीदवार सिर्फ राजनीतिक समाचार न पढ़ें बल्कि आर्थिक, सामाजिक, खेल संबंधी और अंतर्राष्ट्रीय समाचार भी पढ़ें और समझने की कोशिश करें। संपादकीय पृष्ठ पर भी ध्यान दें। संपादकीय पृष्ठ पर बाईं तरफ दो या तीन छोटे-छोटे लेख (टिप्पणी के आकार में) छपते हैं। इन्हें ही पढ़े। संपादकीयों तथा लेखों में किये गए विश्लेषण के स्तर तक पहुँचने की कोशिश करें। अगर आपके पास रोज़ाना अख़बार पढ़ने का समय या धैर्य न हो तो आप उसकी भरपाई एक अच्छी मासिक पत्रिका पढ़कर कर सकते हैं। वैसे, मासिक पत्रिका उनके लिये भी ज़रूरी है जो रोज़ अख़बार पढ़ते हैं क्योंकि पत्रिका के माध्यम से उनकी पूरे महीने के अख़बारों की रिवीज़न हो जाती है। पत्रिका पढ़ने का एक लाभ यह भी होता है कि जो अख़बार आपने नहीं पढ़े हैं, आपको उनका सार भी इनमें मिल जाता है।

अन्य महत्त्वपूर्ण बातें-

  • बहुत ज्यादा चाय, कॉफी या ठन्डे पेय न लें। स्वास्थ्यप्रद खाना समय पर खाएं। भोजन के पोषक तत्त्व आपके दिमाग को तेज रखने में सहायक होंगे।
  • नियमित व्यायाम, पर्याप्त भोजन, पर्याप्त नींद आपमें ऊर्जा के स्तर को बढ़ाएगा, आपके दिमाग को साफ़ रखेगा और तनाव कम करेगा।
  • बहुविकल्पी परीक्षा में उत्तर देते समय ध्यान से ओएमआर(OMR) शीट में गोले भरे और ऑनलाइन परीक्षा (CBT) में विकल्प का चयन करें, हड़बड़ी में गलत विकल्प को चिन्हित न करें।
  • अगर परीक्षा लिखित हो तो कोई भी प्रश्न घबराहट में न लिखें, पहले उसके बारे में अच्छे से सोंच कर फ्रेमवर्क तैयार कर लें फिर लिखें। उत्तर लिखते समय पैराग्राफ (अनुच्छेद) चेंज कर लिखें और शोर्टफॉर्म (अप्रचलित) का प्रयोग न करें। उत्तर के बीच में ही निष्कर्ष नही दें, क्रमानुसार दें। एक प्रश्न में बहुत अधिक समय न लगाएं। उन विषय पर बात न करें, जिसे प्रश्न में नही पुछा गया हो।

    टॉप 35 GK (नवंबर-दिसंबर): IAS,PCS, रेलवे, SSC, IB, पुलिस, टीचिंग आदि परीक्षाओं के लिए

OnlineTyari के परीक्षा विशेषज्ञ के द्वारा परीक्षा पैटर्न और पाठ्यक्रम के अनुरूप निर्मित बेहतरीन मॉक टेस्ट से अपनी परीक्षा तैयारी को जांचें –

SSC CGL प्रारंभिक परीक्षा 2018 यहाँ क्लिक कर मॉक टेस्ट अटेम्प्ट करें !
SSC CHSL प्रारंभिक परीक्षा 2018 यहाँ क्लिक कर मॉक टेस्ट अटेम्प्ट करें !
SSC JHT प्रारंभिक परीक्षा 2018 यहाँ क्लिक कर मॉक टेस्ट अटेम्प्ट करें !
SSC स्टेनोग्राफर प्रारंभिक परीक्षा 2018 यहाँ क्लिक कर मॉक टेस्ट अटेम्प्ट करें !
IBPS Clerk मुख्य परीक्षा 2018 यहाँ क्लिक कर मॉक टेस्ट अटेम्प्ट करें !
रेलवे ALP CBT 2 परीक्षा 2018: पार्ट A  यहाँ क्लिक कर मॉक टेस्ट अटेम्प्ट करें !
रेलवे ALP CBT 2 परीक्षा 2018: पार्ट B  यहाँ क्लिक कर मॉक टेस्ट अटेम्प्ट करें !
SSC GD कांस्टेबल परीक्षा 2018 यहाँ क्लिक कर मॉक टेस्ट अटेम्प्ट करें !
UP पुलिस कांस्टेबल परीक्षा 2018  यहाँ क्लिक कर मॉक टेस्ट अटेम्प्ट करें !
IB सिक्यूरिटी असिस्टेंट परीक्षा 2018 यहाँ क्लिक कर मॉक टेस्ट अटेम्प्ट करें ! 
RPF SI परीक्षा 2018 यहाँ क्लिक कर मॉक टेस्ट अटेम्प्ट करें !

हमें आशा है आप ‘परीक्षा के लिए अपना स्कोर और एक्यूरेसी कैसे बढ़ाएं’ के तहत प्राप्त आवश्यक तथ्यों से परिचित हुए होंगे और यह प्रदत्त तथ्य आपकी सफलता में भी सहायक होंगे। तो एकाग्रचित्त होकर पढ़ाई में जुट जाइए और तब तक न रुकें जब तक मुक़ाम हासिल न हो जाए।

TyariPLUS जॉइन करें !
अपनी आगामी सभी परीक्षाओं की तैयारी के लिए अब सिर्फ TyariPLUS की सदस्यता लें और वर्ष भर अपनी तैयारी जारी रखें-
TyariPLUS सदस्यता के फायदे

  • विस्तृत परफॉरमेंस रिपोर्ट
  • विशेषज्ञों द्वारा नि: शुल्क परामर्श
  • मुफ्त मासिक करेंट अफेयर डाइजेस्ट
  • विज्ञापन-मुक्त अनुभव और भी बहुत कुछ

परीक्षा के लिए आवेदन करने वाले सभी उम्मीदवार अपनी परीक्षा के लिए तैयारी जारी रखें और मॉक टेस्ट से अपनी तैयारी को जांचते रहें। अनलिमिटेड मॉक टेस्ट से अभ्यास करने के लिए अभी TyariPLUS जॉइन करें।
TyariPLUS

अगर आप को यह लेख पसंद आया हो तो इसे लाइक करें, शेयर करें और कमेंट करना न भूलें। अगर आप का कोई प्रश्न हो तो हमें कमेंट बॉक्स में लिखें, हम आपकी परेशानी से निजात दिलाने में मदद करेंगे। 

प्रतियोगी भर्ती परीक्षा से संबंधित अधिक जानकारी के लिए हमसे जुड़े रहें। सरकारी नौकरी की प्रतियोगी परीक्षा में उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रतियोगी परीक्षा तैयारी एप नि:शुल्क डाउनलोड करें।

Best-Government-Exam-Preparation-App-OnlineTyari

9 REPLIES

  1. Arpit Verma

    Thanku online tayari team .. please keep motivate us like this . Sir मेरी समस्या है कि जब एक साथ कई exams लगे हुए हों तो उनकी preparation कैसे करूं , या केवल एक ही exam पर focus करूं । धन्यवाद। plz reply .

    Reply
    1. Ajay K. Tripathi Post author

      जब आपके कई exam एक साथ लगे हों, तो रणनीति यह होनी चाहिए की आप मुख्य exam पर फोकस कर परीक्षा दें.

      Reply
  2. Jyoti shukla

    Bahut acha lga is blog ko pad kar thanku sir.
    I asked one Question sir, sir mai MTS post me job krti hu 8 ghante fir ghar ka bi kaam to mai kis type se apna focus study pe kru aur compatative exam nikal saku?

    Reply
    1. Ajay K. Tripathi Post author

      आपने SSC MTS में सफलता प्राप्त की है तो यह माना जा सकता है कि आपने परीक्षा के बुनियादी समझ बना ली होगी. अब आपको सुबह और रात में 2-2 घंटे कम-से-कम निकालने हैं और उन घंटों में तैयारी करने की कोशिश करनी है. घर वालों को भी इस बात से अवगत कराएं ताकि वह भी आपके काम में सहयोग कर आपके पढ़ाई के वक्त आपको डिस्टर्ब न करें. वक्त मिलने पर (जब भी मिले) आपको करेंट अफेयर पर फोकस करना चाहिए.

      Reply
    1. Ajay K. Tripathi Post author

      आपको हमारा यह लेख पसंद आया, यह जानकार हमें प्रसन्नता हुई, कि हमारा लेखन सार्थक रहा.

      Reply

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.