SSC CGL टीयर-1 परीक्षा 2018 : क्वांटिटेटिव एप्टीट्यूड तैयारी टिप्स !

SSC CGL टीयर-1 परीक्षा 2018 : क्वांटिटेटिव एप्टीट्यूड तैयारी टिप्स –विभिन्न सरकारी संस्थानों में ग्रुप-B और ग्रुप-C उम्मीदवारों की भर्ती के लिए कर्मचारी चयन आयोग प्रतिवर्ष SSC संयुक्त स्नातक स्तरीय परीक्षा 2018 का आयोजन करता है। SSC CGL भारत की सबसे लोकप्रिय भर्ती परीक्षा है जिसमें प्रत्येक वर्ष लाखों उम्मीदवार आवेदन करते हैं।

इस वर्ष हेतु SSC CGL के आवेदन भरे जा चूके हैं और आवेदन करने वाले उम्मीदवारों ने अपनी अपनी तैयारी भी शुरू कर दी होगी। उनकी तैयारी में सहायता करने के लिए आज हम SSC CGL के लिए क्वान्टिटेटिव ऐप्टीट्यूड की तैयारी कैसे करें, की जानकारी प्रदान करेंगे।

CGL टीयर I परीक्षा 2018 : परीक्षा पैटर्न

इससे पहले की हम आपको क्वान्टिटेटिव ऐप्टीट्यूड की तैयारी कैसे करें, की जानकारी प्रदान करें, उससे पहले हम SSC CGL परीक्षा पैटर्न से अवगत हो लेते हैं।

विषय  प्रश्न  अंक 

समयावधि 

जनरल इंटेलीजेंस और रीज़निंग 25 50 1 घंटा
सामान्य जागरूकता 25 50
क्वांटिटेटिव ऐप्टिटूड 25 50
अंग्रेजी भाषा 25 50
कुल 100 200

जनरल इंटेलीजेंस और रीज़निंग के तहत 25 प्रश्न पूछे जाते हैं। सम्पूर्ण परीक्षा को हल करने के लिए उम्मीदवार को 1 घंटे का समय प्राप्त होता है। प्रत्येक प्रश्न 2 अंक भार का होता है और गलत उत्तर देने पर 1/4 अंक काटे जाने का भी प्रावधान होता है।

Free SSC CGL Mock Test

SSC CGL टीयर-1 परीक्षा 2018 : क्वांटिटेटिव एप्टीट्यूड तैयारी कैसे करें !

क्वांटिटेटिव एप्टीट्यूड सेक्शन उन छात्रों के लिए आसान होता है जिसे गणित विषय में रुची हो और वह प्रश्नों को हल करने में सहज महसूस करते हैं और जिनके पास इस विषय को तैयार करने हेतु जानकारी है। पर ऐसे काफी अधिक छात्र हैं जिन्हें गणित का नाम सुनते ही असहजता महसूस होने लगती है। यहाँ हम आपको कुछ ऐसे टिप्स देंगे जिनका प्रयोग करके आप इस विषय में अच्छे अंक प्राप्त कर सकेंगे।

उम्मीदवारों के लिए यह अनिवार्य है की वह चयन प्रक्रिया में आगे बढ़ने के लिए सभी 4 विशिष्ट सेक्शन में न्यूनतम कट ऑफ अंक को प्राप्त करे। अतः SSC CGL परीक्षा 2018 में अच्छे अंक लाने के लिए क्वांटिटेटिव एप्टीट्यूड खंड बहुत महत्वपूर्ण है। आइए अब हम SSC CGL परीक्षा 2018 के क्वांटिटेटिव एप्टीट्यूड सेक्शन की तैयारी की रणनीतियों पर अपना ध्यान केन्द्रित करते हैं।

SSC CGL के क्वॉन्टिटेटिव एप्टिट्यूड का टॉपिक-वाइज पाठ्यक्रम  

SSC CGL टियर-1 में क्वॉन्टिटेटिव एप्टिट्यूड के सबसे महत्वपूर्ण विषय इस प्रकार हैं:

  • अंकगणित : नम्बर सिस्टम, प्रतिशत, लाभ और हानि, सिंपल इंट्रेस्ट, कम्पाउंड इंट्रेस्ट, एवरेज, रेश्यो, प्रपोर्शन, पार्टनरशिप, मिक्शर और एलीगेशन, समय और काम, पाइप्स और सिस्टर्न्स, समय, गति और दूरी, ट्रेन पर सवाल और नाव व स्ट्रीम पर सवाल।
  • ज्यामिति : ज्यामिति की मूल बातें, त्रिभुज, पॉलिगन, सर्किल और मिश्रित।
  • क्षेत्रमिति : त्रिभुज, चतुर्भुज, आयत, आयत में मार्ग, स्केवयर रॉम्बस, ट्रेपेज़ियम, सर्किल, सेमि-सर्किल, रिंग (छायांकित क्षेत्र), सर्किल का सेक्टर, क्यूब, क्यूबॉयड, सिलेंडर, कोन, स्फियर, अर्ध-स्फियर, फ्रस्टम, सही प्रिज़्म, पिरामिड और चतुर्पाश्वीय (Tetrahedron).
  • डेटा इंटरप्रिटेशन : मूल कॉन्सेप्ट, बार ग्राफ़, पाई चार्ट, टेबल चार्ट और लाइन ग्राफ़।
  • त्रिकोणमिति : त्रिकोणमितिय अनुपात की पहचान, समान कोणों के लिए त्रिकोणमितिय मूल्य, त्रिकोणमितिय अनुपात का साइन, त्रिकोणमितिय अनुपात की रेंज, msinƟ ± ncosƟ , विभिन्न त्रिकोणमितिय सीरीज़ का मूल्य, बहु कोण और यौगिक कोण का अनुपात।
  • ऊंचाई और दूरी : ऊंचाई का कोण, अवसाद का कोण और मिश्रित।

अब जब आप क्वांटिटेटिव एप्टीट्यूड के लिए महत्वपूर्ण टॉपिक्स को जान चुके हैं तो अब हम क्वॉन्टिटेटिव एप्टिट्यूड की तैयारी टिप्स से अवगत होंगे।

SSC CPO परीक्षा 2018 : क्वांटिटेटिव एप्टीट्यूड की तैयारी के टिप्स

क्वांटिटेटिव एप्टीट्यूड तैयारी के लिए महत्वपूर्ण टिप्स निम्न हैं-

  1.  सिलेबस की जानकारी : प्रत्येक परीक्षा के गणित सेक्शन का सिलेबस आपको पता होना चाहिए। सिलेबस से अवगत रहने से आपको अपने मजबूत और कमज़ोर पक्षों की जानकारी होती है।
  2. फॉर्मूलों को याद  रखें :  मैथ के प्रस्नो को हल करने के लिए फॉर्मूलों का याद होना अति आवश्यक है। इसलिए फॉर्मूले याद करे।
  3. रीडिंग नही प्रैक्टिस करे : कई छात्र ऐसे होते है जो गणित के प्रश्नों को पढ़ते है। यह गणित सिखने का सबसे गलत तरीका है। गणित विषय पर आपकी पकड़ तभी बन सकती है। आप इसकी ज्यादा से ज्यादा प्रैक्टिस करे। क्योकि गणित विषय को आपको रटना या याद करना नही पड़ता। इसलिए गणित विषय की ज्यादा से ज्यादा प्रैक्टिस करे।
  4. प्रश्नों को हल करने की गति पर ध्यान दें : गणित पेपर को हल करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण टिप है कि आप अपनी गति को सुधारें। गणित में आपकी गति तभी ठीक होगी जब आप नियमित अभ्यास की आदत बनायेंगे और साथ ही अभ्यास प्रश्नों को समय प्रबंधन करना सुनिश्चित करने में आप कामयाब हों।
  5. विगत वर्ष के प्रश्न पत्र हल करें : पिछले वर्षों के पेपर हल करें। इससे प्रश्नों के पैटर्न को समझने में और उन्हें हल करने में काफ़ी मदद मिलती है। इससे आप प्रत्येक विषय की कठिनाई का स्तर भी जान पाएंगे।
  6. पहाड़े, वर्ग और घन मूल जैसे बुनियादी तथ्यों को याद करें : 25 तक पहाड़े, 50 तक के वर्गमूल, 15 तक के घन, 15 तक के घन मूल और बुनियादी एल्जेब्रा के फॉर्मूले याद कर लें। साथ ही जरुरत है की आपको दो संख्या के बीच की अभाज्य संख्या निकालना, भाज्यता की जांच, भिन्न शांत है या अशांत, लघुत्तम, महत्तम जैसे बुनियादी बातें आना आवश्यक है।
  7. बुनियादी कॉन्सेप्ट अवश्य समझे : उन विषयों के बुनियादी कॉनसेप्ट को समझें जिनका उल्लेख सिलेबस में किया गया है। यदि आप कहीं किसी विषय पर अटक जाते हैं तो संदर्भ पुस्तकों का सहारा लें और इसके लिए आप किसी शिक्षक की मदद ले सकते हैं या कोई अच्छे प्रकाशक की पुस्तक अवश्य पढ़ें । कोई भी विषय ना छोड़ें तब भी जब आपको लगे कि अपेक्षाकृत अधिक महत्वपूर्ण नहीं है क्योंकि प्रश्न कहीं से भी पूछे जा सकते हैं।
  8. शॉर्टकट तरीके का अधिक उपयोग करें : कोशिश करें कि अपने ही शॉर्टकट तरीके अपनाएं। अंकगणित के लिए आप वैदिक गणित, शॉर्टकट तरीके से प्रश्न हल सिखाने वाली पुस्तक आदि का सहारा लें। जिससे अंकगणित में गणना करना आसान हो जाये।
  9. ऑनलाइन मॉक टेस्ट से अभ्यास करें : जहाँ तक सम्भव हो बाजार या ऑनलाइन उपलब्ध मॉक टेस्ट और प्रश्न बैंक को हल करें। इससे आपको पता चलता है कि किस प्रकार प्रश्नों को सेट किया जाता है। नए ट्रिक्स और याद करने के स्मार्ट तरीके अपनाएं ताकि आप समय और परिश्रम का कुशल प्रयोग कर सकें।
  10. गलतियों को दूर करें : परीक्षा पूर्व आप उन गलतियों को जरुर दूर करने की कोशिश करें जिसमे आप अपने आपको असहज महसूस करते हों और इसके लिए यह आवश्यक है कि अपनी सभी गलतियों की एक लिस्ट बनायें। करणी पर आधारित सवालों में अक्सर छात्र गलती करते हैं, साथ ही बीजगणित में अचर और चर को लोग जोड़ने की गलती भी करते दिखते हैं। द्विघात समीकरण के सवाल में भी दो मूल लेने के बजाय कई बार एक धनात्मक मूल लेने की भूल कर अपने अंक गँवा लेते है ऐसी अनेकों गलतियों से आप सावधानीपूर्वक बच सकते हैं।
  11. त्रिकोणमिति के मान कण्ठस्य करें : त्रिकोणमिति के सभी सूत्र और कोणों के मान – 30, 45, 60, 90 का मान सभी निष्पति – sin, cos, tan, cot, sec, cosec के लिए याद कर लें। साथ ही पाइथागोरस ट्रिक (3,4,5), (6,8,10), (7, 24, 25), (8, 15,17), (9, 40, 41)… याद करें जिससे त्रिकोणमिति के सूत्र निकालने में आपको आसानी होगी।
  12. अधिक ध्यान दें : अंकगणित में आप  लाभ और हानि, साधारण और चक्रवृद्धि व्याज, समय, दूरी और काम, लघुत्तम, सांख्यिकी, प्रायिकता जैसे ऐसे सवाल हैं जो परीक्षा में अवश्य आते है और इन्हें थोड़ा सा ध्यान देकर सीखा जा सकता है।
  13. मेंसुरेशन के सूत्र याद रखें : क्षेत्रमिति के सवाल अधिकांशतः सूत्र पर आधारित होते है जिसके लिए किसी विशेष योग्यता की आवश्यकता नहीं है, अगर आपको सूत्र में पकड़ है और आप थोड़ी सी सावधानी बरतें तो अवश्य ही इस प्रकार के प्रश्नों को हल कर पाएंगे।

Free SSC CGL Mock Test Series 2018

SSC भर्ती परीक्षा 2018 से संबंधित अधिक जानकारी के लिए हमसे जुड़े रहें। SSC CGL परीक्षा में उत्कृष्टता हासिल करने के लिए, सर्वश्रेष्ठ SSC CGL परीक्षा तैयारी एप नि:शुल्क डाउनलोड करें।

Best-Government-Exam-Preparation-App-OnlineTyari

अगर अभी भी आपके मन में किसी प्रकार की कोई शंका या कोई प्रश्न है तो कृपया नीचे दिए गए कमेंट सेक्शन में उसका ज़िक्र करें और बेहतर प्रतिक्रिया के लिए OnlineTyari Community पर अपने प्रश्नों को हमसे साझा करें।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.