IAS प्रारंभिक परीक्षा 2016: कैसे करें भारतीय राज-व्यवस्था की तैयारी?

शुरू करने से पहले इस बात को स्पष्ट कर देना ज़रूरी है कि पॉलिटी, पॉलिटिक्स से काफी अलग है| जी हां, आपने सही सुना| और हम इस लेख में केवल IAS प्रारंभिक परीक्षा 2016 के लिए पॉलिटी (राज-व्यवस्था) पर बात करने वाले हैं। इसमें IAS Mains की कहीं कोई बात नहीं है। उसके लिए एक अलग ब्लॉग लिखा जाएगा|

किसी भी IAS आकांक्षी के लिए इंडियन पॉलिटी को पढ़ना अनिवार्य है| परीक्षा में सवालों का एक बड़ा हिस्सा इस विषय से पूछा जाता है और समय के साथ सीधे और सरल से लेकर मध्यम कठिनता वाले प्रश्न भी इस सेक्शन में पूछे जाते हैं|

 

     IAS प्रारंभिक परीक्षा 2016: इंडियन पॉलिटी से संबन्धित पूछे गए प्रश्न (2011-15)

    वर्ष  पूछे गए प्रश्नों की संख्या
 2011  17
 2012  25
 2013  18
 2014  11
 2015  13

आने वाली प्रारंभिक परीक्षा में किस तरह के प्रश्न पूछे जाएंगे, इस बात को लेकर आकांक्षियों के मन में हमेशा एक डर बना रहता है| विज्ञान और तकनीक, पर्यावरण और जैव विविधता जैसे विषयों में सवालों का अंदाज़ा लगा पाना काफी मुश्किल होता है लेकिन इंडियन पॉलिटी एक ऐसा हिस्सा है, जिसमें अच्छी तैयारी के बाद आप ऐसे किसी भी डर से पार पा सकते हैं| आप अधिकतर प्रश्नों का जवाब आसानी से दे पाएंगे, अगर आपने इंडियन पॉलिटी – एम लक्ष्मीकान्त अच्छे से पढ़ी हो|

 

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2016: इंडियन पॉलिटी की तैयारी के लिए सुझाव व दिशा-निर्देश

IAS की परीक्षा में सफलता का राज़ आपकी तैयारी में ही छुपा होता है| आपको एक-एक कदम लेते हुए प्रतिदिन काम करते हुए खुद की कमियों को सुधारते हुए तैयारी करनी है|

हमारे पास एक-दो चरणों वाला पुख्ता प्लान है, जो आपको IAS प्रारंभिक परीक्षा 2016 के लिए आपकी इंडियन पॉलिटी की समझ को विकसित करने में सहायता करेगा|

1. किताबों और नोट्स का चयन

अन्य किसी भी किताब की सहायता लेने से पहले OnlineTyari हमेशा आपको कम से कम एक बार NCERT की किताबों से गुज़रने की सलाह देता है| ऐसा ही इंडियन पॉलिटी के साथ भी है| अगर आपके पास समय है तो आपको NCERT की कक्षा 6-12 तक की सभी किताबों को पढ़ना चाहिए| इनके नाम कुछ इस तरह हैं:

  1. Social and Political Life I
  2. Social and Political Life II
  3. Social and Political Life III
  4. Democratic Politics I
  5. Democratic Politics II
  6. Indian Constitution at Work

या आप सिर्फ NCERT की कक्षा 11 की किताब Indian Constitution at Work भी पढ़ कर काम चला सकते हैं|

NCERT की किताबों की एक सबसे खास बात है इनकी आसानी से समझ में आने वाली भाषा और दूसरी की ये पाठक का बहुत अधिक समय नहीं लेतीं, अगर आप एक अच्छे पाठक हैं| कुछ लोग NCERT की किताबों को बिलकुल ही नकार देते हैं| हालांकि ये किसी भी व्यक्ति के निजी चुनाव पर निर्भर करता है| लेकिन अगर आप NCERT की किताबें पढ़ रहे हैं, तो ज़रूरी पॉइंट्स को भली भांति रेखांकित और चिन्हित करना न भूलें|

आपकी तैयारी का अगला पड़ाव है, एक ऐसी किताब से अध्ययन करना जो पॉलिटी के सभी विषयों को कवर करती हो| ऐसे कई लेखक हैं, जिनका नाम अपने अवश्य ही सुना होगा| ये हैं एम लक्ष्मीकान्त, सुभाष कश्यप और डीडी बसु|

अपनी तैयारी का स्तर और अच्छा करने के लिए डीडी बसु की ‘Introduction to the Constitution of India’ पढ़ें| अगर आप इंडियन पॉलिटी को विस्तार से जानना चाहते हैं, तो ऐसे में यह किताब बहुत अच्छी मानी जाती है| ये किताब हर उस पहलू को छूती है, जो भारतीय संविधान से जुड़ा है|

हालांकि, ये किताब इंडियन पॉलिटी के IAS प्रारंभिक परीक्षा 2016 से जुड़े सभी मुद्दों को कवर नहीं करती है| शुरुआत करने के लिहाज से, इस किताब को थोड़ा कठिन माना जाता है जिसे एक बार में समझ पाना टेढ़ी खीर है|

सुभाष कश्यप द्वारा लिखी गई 3 किताबों की सीरीज Our Constitution, Our Parliament and Our Political System आसान भाषा में लिखी गई किताबें हैं| इन्हें समझना आसान है| हालांकि, इस किताब के साथ भी वही दिकक्त है कि ये भी सिविल सर्विसेज़ के सभी विषयों को कवर नहीं कर पाती है| OnlineTyari संविधान की तैयारी के लिए आपको डीडी बसु या सुभाष कश्यप की किताबों में से एक की मदद लेने की सलाह देता है|

IAS प्रारंभिक परीक्षा के लिहाज से सबसे कारगर किताब अगर कोई है तो वो है एम लक्ष्मीकान्त की किताब| ये किताब सिलेबस से जुड़े लगभग सभी विषयों को कवर करती है| इसे बहुत अच्छी तरह से लिखा गया है। इसमें दिए गए पाठ छोटे और कारगर हैं। इसके साथ ही इसमें अभ्यास पत्र भी दिए गए हैं| इस किताब की भाषा बहुत सहज होते हुए भी तथ्यात्मक है| किसी भी IAS आकांक्षी के पास ये किताब ज़रूर होनी चाहिए|

OnlineTyari सभी IAS आकांक्षियों को सहायता के लिए 2 किताबें रखने की सलाह देता है|

एम लक्ष्मीकान्त की Indian Polity का होना बहुत ज़रूरी है| इसके साथ ही आप डीडी बसु की ‘Introduction to the Constitution of India’ या फिर सुभाष कश्यप की ‘Our Constitution’, ‘Our Parliament’ and ‘Our Political System’ से अध्ययन कर सकते हैं|

 

2. सही सोच

आपको भारतीय संविधान के सभी 450 अनुच्छेदों को रटने की ज़रूरत नहीं है|

जी हाँ, आपने सही पढ़ा|

सबसे पहले तो सिर्फ कुछ ही महत्वपूर्ण अनुच्छेद ही ज़रूरी हैं| दूसरी बात ये की अगर आपने बुनियादी चीजों को समझते हुए पर्याप्त बार पढ़ा है तो ज़रूरी अनुच्छेद आपको खुद ही अंगुलियों पर याद रहेंगे|

क्या विषयों को क्रमबद्ध तरीके से पढ़ना मायने रखता है?

शुरुआत उन विषयों से करें, जिनमें आपकी रुचि हो|

आपको किसी क्रमवार तरीके से शुरुआत करने की ज़रूरत नहीं है| उदाहरण के लिए, यदि आपको मूलभूत अधिकारों और जिम्मेदारियों के विषय में पढ़ने में रूचि है तो आप उसी से शुरू करिए, बजाय इसके की आप संविधान की निर्माण प्रक्रिया को पढ़ें| हालांकि, जैसे जैसे आप अपने अध्ययन में आगे बढ़ेंगे, आप पाएंगे कि ऐसे कुछ विषय हैं, जिन्हें एक साथ पढ़ना ही बेहतर है|

उदाहरण के लिए, केंद्र और उसकी कार्यशैली को पढ़ने के बाद, आपके लिए राज्यों और उनकी कार्यशैली को पढ़ना अच्छा रहेगा|

इस तरह से अध्ययन करते हुए आप अपने लिए बहुत सा समय बचा पाएंगे| अगर हरेक भाग में ऐसा संभव ना भी हो तो ज़्यादातर हिस्सों को इसी तरह से पढ़ने का प्रयास करें और आप पाएंगे की आप काफी समय बचा रहे हैं|

किताबों को अनेकों बार पढ़ना   

कभी भी किसी किताब को पहली ही बार पढ़ लेने पर हर चीज़ को याद कर लेने की चिंता न करें|

इस बात को सुनिश्चित करें कि आपने जो कुछ भी पढ़ा है, उसे आप भली भांति समझ रहे हैं| दूसरी बार पढ़ने पर नोट्स बनाना शुरू करें| सुनिश्चित कर लें कि परीक्षा देने से पहले आप किताबों को कई बार पढ़ चुके हों| हर बार पढ़ने पर आपको पिछली बार से कम समय लगना चाहिए|

समकालीन घटनाओं पर नज़र बनाए रखें

सिविल सर्विसेज़ में पूछे जाने वाले सवाल स्थायी और बदलते रहने वाले दोनों ही तरह के मुद्दों पर पूछे जाते हैं|

ये दोनों ही प्रश्न पहले हुई घटनाओं या मौजूदा बहस से जुड़े विषयों पर पूछे जा सकते हैं| नई घटनाओं, जैसे कोई नया बिल, कानून या नीति के विषय में आपको हमेशा अवगत रहना चाहिए और उनसे संबन्धित मुद्दों को आप अपनी किताबों की सहायता से समझ सकते हैं|

उदाहरण के तौर पर अगर, सर्वोत्तम न्यायालय ने अभिव्यक्ति की स्वतन्त्रता से संबन्धित कोई  फैसला सुनाया है, जो मील का पत्थर साबित हो सकता है, तो ऐसे में आपको अपने आप ही समझ आ जाना चाहिए कि आपको तुरंत मूलभूत अधिकारों से जुड़े पाठों को संबन्धित किताबों में देखना है|

जीतना संभव हो, टेस्टों को हल करें

जब आपने पाठ्यक्रम से जुड़े सभी विषय पूरे कर लिए हों, तब पिछले वर्षों में पूछे गए हर पाठ से संबन्धित प्रश्नपत्रों को हल करें|

सवालों के पूछे जाने की पद्धति को बहुत ध्यान से देखें| सवाल बहुत कठिन लग सकते हैं लेकिन वो सिर्फ ध्यान भटकाने के लिए होते हैं| “नहीं” जैसे शब्दों को पढ़ना कभी भी न भूलें|

उदाहरण के लिए ,किसी सवाल में, जब आपसे उन चीजों का चयन करने को कहा जाता है जो भारत की नीति-निर्धारण का हिस्सा नहीं है, ऐसे में ध्यान न देने पर मुमकिन है कि आप उन चीजों का चयन कर दें, जो नीति-निर्धारण का हिस्सा हैं|

सुनिश्चित करें कि आप परीक्षा से पहले जितना हो सके, उतने प्रश्नपत्र हल करें| ये आपकी याद्दाश्त को बेहतर करते हैं और टाली जा सकने वाली गलतियां करने से बचाते हैं|

इंडियन पॉलिटी स्कोर करने के लिहाज़ से एक महत्वपूर्ण और पढ़ने के लिहाज़ से एक रोचक विषय है| अगर आपकी तैयारी अच्छी है, तो मुमकिन है कि आप इसमें शत प्रतिशत स्कोर करें|

हम IAS प्रारंभिक परीक्षा 2016 के लिए इंडियन पॉलिटी पर अपने इस लेख को यहीं विराम देते हैं| बाकी अपडेट्स के लिए हमें बुकमार्क करें|

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.