IAS प्रारंभिक परीक्षा 2017: इतिहास खंड हेतु संभावित प्रश्न

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2017: इतिहास खंड हेतु संभावित प्रश्न: आप सीसैट सम्मिलित प्रारंभिक परीक्षा के सामान्य अध्ययन पाठ्यक्रम के अनुरूप और महत्पूर्ण भाग- ‘इतिहास’ विषय हेतु अपनी तैयारी की जांच करेंगे। परीक्षा में इस भाग के रखे जाने का औचित्य यह जानना है अभ्यर्थी यह जाने कि इतिहास क्‍या है, उसका प्रयोजन क्‍या है, उसका हमारे आज से क्‍या सम्‍बन्‍ध है, और इतिहास को हमारे परिवेश से जोड़कर कैसे देखा जाए। अभ्यर्थी यह जाने कि इतिहास के सिद्धांतों को सामान्यता तथा व्यापकतर स्तर पर व्यवहृतर कैसे किया जाय। इतिहास के अध्ययन से मानव समाज के विविध क्षेत्रों का जो व्यावहारिक ज्ञान प्राप्त होता है उससे मनुष्य की परिस्थितियों को आँकने, व्यक्तियों के भावों और विचारों तथा जनसमूह की प्रवृत्तियों आदि को समझने के लिए बड़ी सुविधा और अच्छी खासी कसौटी मिल जाती है।

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2017: इतिहास खंड हेतु संभावित प्रश्न

यदि आप प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा दोनों में अच्छा स्कोर करना चाहते हैं, तो यह काफी हद तक आपकी इतिहास की तैयारी पर निर्भर करता है।  इस लेख में हम UPSC प्रारंभिक परीक्षा के एक खण्ड के रूप में इतिहास की तैयारी हेतु आपकी जांच करेंगे।

यहां इतिहास संवर्ग के महत्वपूर्ण सवालों की एक सूची दी गई है जिनका इस वर्ष की परीक्षा में आने की उम्मीद है। अभ्यर्थी इन प्रश्नों को हल कर अपनी तैयारी की जांच कर सकते हैं और  यह प्रश्न आपको UPCS 2017 में अधिक स्कोर करने में भी मदद करेंगे, हमें यह आशा है।

Indian Art and Culture

भारतीय कला एवं संस्कृति, नितिन सिंघानिया, MC Graw Hills

भारतीय कला और संस्कृति भारतीय इतिहास का महत्वपूर्ण  भाग है। भारत में गीत-संगीत, नृत्य, नाटक-कला, लोक परंपराओं, कला-प्रदर्शन, धार्मिक-संस्कारों एवं अनुष्ठानों, मेलों, चित्रकारी एवं लेखन के क्षेत्रों के अतिरिक्त भारत की सांस्कृतिक विरासत, प्राचीन स्मारकों, साहित्य, दर्शन, विभिन्न योजनाओं, कार्यक्रमों, कलाप्रदर्शनों, मेले, त्यौहारों एवं हस्तकला के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान की गई है। नितिन सिंघानिया द्वारा लिखित यह पुस्तक MC Graw Hills प्रकाशन से प्रकाशित की गई है।

अभी खरीदें

Indian History and National Movement best book

भारत का इतिहास एवं भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन, अरिहंत प्रकाशन

पुस्तक में भारत के इतिहास पर समग्र, सारगर्भित एवं परीक्षोपयोगी तथ्य दिए गए हैं। भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन, ब्रिटिश कालीन सामाजिक एवं सांस्कृतिक विकास के साथ-साथ पुस्तक में भारत की सांस्कृतिक विरासत को भी कवर किया गया है। यह पुस्तक केन्द्रीय और राज्य सिविल सेवा परीक्षाओं के साथ अन्य परीक्षाओं के लिए भी विशेष महत्वपूर्ण  है।

अभी खरीदें

Indian History -Ghatna chakra

सामान्य अध्ययन पूर्वालोकन-2 (भारतीय इतिहास: भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन सहित),     सम-सामयिक घटना चक्र

सम-सामयिक घटना चक्र की सामान्य अध्ययन पूर्वालोकन-2 पुस्तक में केन्द्रीय और राज्य सिविल सेवा परीक्षाओं के सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र के तहत विगत वर्षों (1990 से दिसंबर 2016 तक) पूछे गए भारतीय इतिहास सम्बंधित प्रश्नों का अध्यायवार व्याखात्मक हल दिया गया है। पुस्तक में UPPCS मुख्य परीक्षा सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र को भी शामिल किया गया है। इतिहास सम्बन्धी महत्वपूर्ण प्रश्नों का संकलन होने के कारण यह पुस्तक सभी प्रतियोगी छात्रों के लिए उपयोगी हैं।

अभी खरीदें

प्रश्न.1) निम्न नृत्यों में से किस एक में एकल नृत्य होता है-
a. भरतनाट्यम
b. मोहिनीअट्टम
c. कुचीपुड़ी
d. ओडीसी
उत्तर-b

प्रश्न.2) निम्नलिखित पर विचार कीजिए:
1. कलकत्ता यूनियन कमिटी (Calcutta Unitarian Committee)
2. टेबेरनेकल ऑफ़ न्यू डिस्पेंसेशन (Tabernacle of New Dispensation)
3. इंडियन रिफार्म असोसिएशन (Indian Reform Association)
केशब चन्द्र सेन (Keshab Chandra Sen) का सबंध उपर्युक्त में से किसकी/किनकी स्थापना है?
a) केवल 1 और 3
b) केवल 2 और 3
c) केवल 3
d) 1, 2 और 3
उत्तर-b
व्याख्या: कलकत्ता यूनियन कमिटी (Calcutta Unitarian Committee) की स्थापना राजा राम मोहन राय ने की थी.

प्रश्न.3) भारतीय रियासतों ने स्वतंत्रता संघर्ष के सन्दर्भ में, 1939 में कांग्रेस के त्रिपुरी अधिवेशन में क्या घोषित किया?
a) इसमें आल इंडिया स्टेट पीपुल कॉन्फ्रेंस की स्थापना करने का आह्वान किया।
b) इसमें विभिन्न भारतीय रियासतों में कांग्रेस की इकाई स्थापित करने की घोषणा की।
c) इसमें कांग्रेस के नेताओं ने भारतीय रियासतों निवासियों की मांगों को उठाने से सावधान किया।
d) यहाँ इन सभी अवरोधों को हटा दिया गया जिन्हें कांग्रेस ने भारतीय रियासतों की मांगों को उठाने के लिए स्वयं पर अधिरोपित किया था।
उत्तर – d
व्याख्या: भारतीय रियासतों के प्रति कांग्रेस ने त्रिपुरी अधिवेशन में अपनी नयी नीति को घोषित करते हुए एक प्रस्ताव पारित किया।
इसने उन सभी अवरोधों को हटाने की घोषणा की गई जिन्हें पूर्व में कांग्रेस ने भारतीय रियासतों की मांगों को उठाने के लिए स्वयं पर अधिरोपित किया। 1939 के अधिवेशन में जवाहरलाल नेहरू ने अध्यक्ष के रूप में निर्वाचन के रूप में उनके मनोरथ को बल दिया था।

प्रश्न.4) भारत के सांस्कृतिक इतिहास के सन्दर्भ में इतिव्रतों, राजवंशीय इतिहासों तथा वीरगाथाओं को कंठस्थ करना निम्नलिखित में से किसका व्यवसाय था?
a) श्रमण
b) परिव्राजक
c) अग्रहारिक
d) मागध (Maagadha)
उत्तर- d
व्याख्या:
श्रमण: श्रमण जैन और बौद्ध परम्परा के संन्यासियों को श्रमण कहा जाता था।
परिव्राजक: परिव्राजक संन्यासियों को कहते थे।
अग्र्हारिक: ये वे ब्राह्मण थे जिनको राजा के द्वारा अग्रहार अर्थात् लगान मुक्त ग्राम दान किया जाता था।
मागध: प्राचीन और मध्यकाल में भारत के राजाओं के दरबार में कुछ व्यक्ति होते थे जो राजा की वीरगाथा का गान किया करते थे. जिन्हें मागध कहा जाता था।

प्रश्न. 5) अजंता और महाबलीपुरम (Ajanta and Mahabalipuram) के रूप में ज्ञात दो ऐतिहासिक स्थानों में कौन-सी बात/बातें समान है/हैं? (Ancient India/ प्राचीन भारत)
1. दोनों एक ही समयकाल में निर्मित हुए थे।
2. दोनों का एक ही धार्मिक सम्प्रदाय से सम्बन्ध है।
3. दोनों में शिलाकृत स्मारक हैं।
नीचे दिए गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिए-
a) केवल 1 और 2
b) केवल 3
c) केवल 1 और 3
d) उपर्युक्त में से कोई नहीं
उत्तर-b
व्याख्या: अजंता की गुफाएँ ईसाकाल से पूर्व से ही बनने लगी थीं जबकि महाबलीपुरम मुख्यरूप से 8वीं शताब्दी में तैयार हुए. अजन्ता मुख्यतः बौद्ध धर्म से सम्बंधित है जबकि महाबलीपुरम की मूर्तियाँ पौराणिक हिन्दू गाथाओं से सम्बंधित हैं।

प्रश्न. 6) निम्नलिखित में से कौन सा कथन सूर्य मंदिर के सन्दर्भ में सही नहीं है-
1. असरवल्ली, अमरकंटक और ओंकारेश्वर
2. कोणार्क मंदिर, मार्तंड मंदिर और मोढ़ेरा मंदिर
3. बेलाउर मंदिर, झालरापाटन मंदिर
4. रणकपुर, औंगारी और बडग़ांव
नीचे दिए गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिए-
a) केवल 1
b) केवल 4
c) 1, 2 और 3
d) उपर्युक्त में से कोई नहीं
उत्तर-a
व्याख्या: सूर्य मंदिर असरवल्ली में तो है पर अमरकंटक और ओंकारेश्वर में कोई ऐतिहासिक सूर्य मंदिर नहीं है।

Ancient Indian History in hindi

Ancient Indian History (हिंदी में)

IAS जैसी प्रतियोगी परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के लिए इस ई-बुक को पढ़ें। इस ई-बुक के माध्यमसे आप वास्तविक परीक्षा के लिए बेहतर तैयारी कर सकेंगे। इसके अलावा इस मॉक टेस्ट का अभ्यास नियमित तौर पर करना आपके लिए परीक्षा में सफलता के लिए आपका मार्ग प्रशस्त करेगा।

अभी खरीदें

Madhyakallen Bharat in hindi

Madhyakaleen Bharat (हिंदी में)

IAS जैसी प्रतियोगी परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के लिए इस ई-बुक को पढ़ें। इस ई-बुक के माध्यमसे आप वास्तविक परीक्षा के लिए बेहतर तैयारी कर सकेंगे। इसके अलावा इस मॉक टेस्ट का अभ्यास नियमित तौर पर करना आपके लिए परीक्षा में सफलता के लिए आपका मार्ग प्रशस्त करेगा।

अभी खरीदें

IAS IAS Pre 2017 Books

IAS प्री. 2017: NCERT प्राचीन और मध्यकालीन इतिहास, क्रॉनिकल प्रकाशन

पुस्तक को NCERT आधार पर बना कर टेस्ट पेपर बनाए गए हैं। जिसमें प्राचीन भारत से मध्यकालीन इतिहास को कवर किया गया है। इस टेस्ट पेपर में आप  ऑनलाइन प्रतिभाग कर सकते हैं। यह पुस्तक सिविल सेवा हेतु नामचीन प्रकाशन ‘क्रॉनिकल प्रकाशन’ के विषय विशेषज्ञों द्वारा लिखी गई है। पुस्तक में 100 प्रश्नों  के कई टेस्ट पेपर भी संकलित किये गए है। जिससे अभ्यर्थी अपनी तैयारी की जांच कर सकते हैं।

अभी खरीदें

प्रश्न.7) प्राचीन भारत की निम्नलिखित पुस्तकों में से किस एक में शुंग राजवंश (Shunga Emperor) के संस्थापक के पुत्र की प्रेम की कहानी है? (Ancient History/ प्राचीन भारत)
a) स्वप्नवासवदत्ता
b) मालविकाग्निमित्र
c) मेघदूत
d) रत्नावली
उत्तर-b
व्याख्या:
स्वप्नवासवदत्ता: – यह भास रचित नाटक है जिसमें नायक उदयन और नायिका वासवदत्ता की पुनर्मिलन की कहानी है।
मेघदूत: यह एक गीति काव्य है जो कालिदास द्वारा रचित है। यह किसी पौराणिक अथवा ऐतिहासिक कथा पर आधारित नहीं है।
रत्नावली: यह हर्ष रचित ग्रन्थ है जो सांतवीं शताब्दी में लिखा गया था।

प्रश्न.8) सम्राट अशोक के राजादेशों का सबसे पहले विकूटन (डिसाइफर) किसने किया था? (Ancient India/ प्राचीन भारत)
a) जॉर्ज बुह्लर
b) जेम्स प्रिंसेप (James Prinsep)
c) मैक्स मूलर
d) विलियम जोन्स
उत्तर-b
व्याख्या: बनारस टकसाल में काम करने वाले इंग्लैंड के जेम्स प्रिन्सेप ने ब्राह्मी लिपि और खरोष्ठी लिपि पहली बार पढ़ी थी। अशोक के राजादेश इन्हीं लिपियों में थे।

प्रश्न.9) ‘कारागम’ धार्मिक लोक नृत्य सम्बंधित है-
a. तमिलनाडु से
b. केरल से
c. आंध्र प्रदेश से
d. कर्नाटका से
उत्तर-a 

प्रश्न.10) भारत के धार्मिक इतिहास के सन्दर्भ में निम्नलिखित कथनों विचार कीजिए: (Ancient India/ प्राचीन भारत)
1. बोधिसत्त्व (Bodhisattva), बौद्धमत के हीनयान (Hinayana) सम्प्रदाय की केन्द्रीय संकल्पना है।
2. बोधिसत्त्व अपने प्रबोध के मार्ग पर बढ़ता हुआ करुणामय है।
3. बोधिसत्त्व समस्त सचेतन प्राणियों को उनके प्रबोध के मार्ग पर चलने में सहायता करने के लिए स्वयं की निर्वाण प्राप्ति विलंबित करता है।
उपर्युक्त कथनों में कौन-सा/से सही है/हैं?
a) केवल 1
b) केवल 2 और 3
c) केवल 2
d) 1, 2 और 3
उत्तर-b 
व्याख्या: बोधिसत्त्व, बौद्धमत के महायान (Mahayana)और हीनयान दोनों सम्प्रदाय में है परन्तु एक ओर जहाँ हीनयान में बुद्ध के पुराने जन्मों के रूप को बोद्धिसत्व कहा गया है वहीं महायान में यह कल्पना है कि प्रत्येक मोक्ष का इच्छुक एक बोद्धिसत्व है जो कई चरणों को पार करते हुए बुद्धत्व को प्राप्त होता है।

प्रश्न.11) मध्यकालीन भारत के आर्थिक इतिहास के सन्दर्भ में शब्द “अरघट्टा (Arghatta)” किसे निरुपित किया जाता है?
a) बंधुआ मजदूर
b) सैन्य अधिकारियों को दिए गए भूमि अनुदान
c) भूमि की सिंचाई के लिए प्रयुक्त जलचक्र (Water Wheel)
d) कृषि भूमि में बदली गई बंजर भूमि
उत्तर-c
व्याख्या: मध्य एशिया के शक लोगों ने वापी (Stepped Well) तथा अरघट्टा या रहट (Persian wheel) का निर्माण किया।

प्रश्न.12) भारतीय इतिहास के मध्यकाल में बंजारे (Banjaras) सामान्यतः क्या थे?
a) कृषक
b) योद्धा
c) बुनकर
d) व्यापारी
उत्तर-d
व्याख्या: बंजारे मध्यकाल के घुमंतू व्यापारी थे जो गाँव-गाव शहर-शहर घूम कर अपना माल बेचते थे. 

IAS General Studies paper-1 in hindi

IAS General Studies Paper-1 (हिंदी में)

IAS जैसी प्रतियोगी परीक्षा में सफलता प्राप्त करने के लिए इस ई-बुक को पढ़ें। इस ई-बुक के माध्यमसे आप वास्तविक परीक्षा के लिए बेहतर तैयारी कर सकेंगे। इसके अलावा इस मॉक टेस्ट का अभ्यास नियमित तौर पर करना आपके लिए परीक्षा में सफलता के लिए आपका मार्ग प्रशस्त करेगा।

अभी खरीदें

IAS-Prelims-2016-Indian-History-Culture-Exam-Preparation

प्रश्न.13) मध्यकालीन भारत के सांस्कृतिक इतिहास के सन्दर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये-
a) तमिल क्षेत्र के सिद्ध (सित्तर, Siddhas/sittars) एकेश्वरवादी थे तथा मूर्तिपूजा की निंदा करते थे
b) कन्नड़ क्षेत्र के लिंगायत पुनर्जन्म के सिद्धांत पर प्रश्न चिह्न लगाते थे तथा जाति अधिक्रम को अस्वीकार करते थे
उपर्युक्त कथनों में कौन सा/से सही है/हैं?
a) केवल 1
b) केवल 2
c) 1 और 2 दोनों
d) न तो 1, न ही 2
उत्तर-c
व्याख्या: दक्षिण भारत के सिद्ध एकेश्वरवादी थे। वे मुख्यतः शिव के उपासक थे। परन्तु वे शिव लिंग की उपासना के विरोधी थे। कन्नड़ क्षेत्र के सिद्ध लिंगायत शाखा के जनक बासवान के इस सिद्धांत को मानते थे कि पुनर्जन्म नहीं होता है और जातिप्रथा के भी विरोधी थे। 

प्रश्न.14) वर्ष 1907 में सूरत में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के विभाजन (Surat Split of 1907) का मुख्य कारण क्या था?
a) लॉर्ड मिन्टो द्वारा भारतीय राजनीति में साम्प्रदायिकता का प्रवेश करना
b) अंग्रेजी सरकार के साथ नरमपंथियों की वार्ता करने की क्षमता के बारे में चरमपंथियों में विकास का अभाव (Wikipedia: Surat Split)
c) मुस्लिम लीग की स्थापना
d) भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का अध्यक्ष निर्वाचित हो सकने में अरविन्द घोष की असमर्थता
उत्तर-b
व्याख्या: नरमपंथी अपनी मांगों को मनवाने के लिए विचार-विमर्श करके सरकार के साथ छोटे मुद्दों के निपटारे की नीति में विश्वास करते थे और दूसरी तरफ चरमपंथी आंदोलन, हड़ताल और बहिष्कार में विश्वास करते थे। चरमपंथी के अग्रदूत लोकमान्य तिलक नरमपंथियों के इस नरम व्यवहार से खुश नहीं थे। दोनों गुटों के बीच वर्चस्व की लड़ाई के कारण 1907 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का विभाजन हो गया।

प्रश्न.15) सर स्टैफर्ड क्रिप्स की योजना (Plan of Sir Stafford Cripps) में यह परिकल्पना थी कि द्वितीय विश्व युद्ध के बाद-
a) भारत को पूर्ण स्वतंत्रता प्रदान की जानी चाहिए
b) स्वतंत्रता प्रदान करने के पहले भारत को दो भागों में विभाजित कर देना चाहिए
c) भारत को इस शर्त के साथ गणतंत्र बना देना चाहिए कि वह राष्ट्रमंडल में शामिल होगा
d) भारत को डोमिनियन स्टेटस दे देना चाहिए
उत्तर-d
व्याख्या: क्रिप्स मिशन ने पूर्ण स्वतंत्रता के स्थान पर भारत को dominion status देने का प्रस्ताव दिया था अर्थात् भारत का राष्ट्र प्रमुख ब्रिटेन का राजा या रानी ही होते।

प्रश्न.21) बोधिसत्त्व पद्मपाणि की मशहूर चित्रित चित्रकारी कहाँ देखी जा सकती है-
a) अजंता गुफाएं
b) एलोरा गुफाएं
c) उदयगिरी गुफाएं
d) बाराबर गुफाएं
उत्तर-a
व्याख्या:  गुफा एक की बोधिसत्व पद्मपाणि की चित्रकला अजन्ता चित्रकला की श्रेष्ठ कला-कृतियों में से एक है जिसे छठी शताब्दी ईसवी सन् के अन्त में निष्पादित किया गया था । उसने राजसी शैली में एक नीलम जडित मुकुट पहना हुआ है, उसके लम्बे काले बाल मनोहारी रूप से झुक रहे हैं । रमणीय रीति से अलंकृत यह आकृति आदमकद से भी बड़ी है और इसमें उसके दाहिने हाथ कुछ-कुछ रुके हुए तथा कमल के एक पुष्प को पकड़े हुए दर्शाया गया है।  कंधों और भुजाओं का सुदृढ़ प्रत्यक्ष आरेखण कुशलतापूर्वक अपने साधारण रूप में है । भौहें, जिन पर चहरे की अभिव्यक्ति काफी कुछ निर्भर करती है, साधारण रेखाओं द्वारा खींची गई हैं । कमल के पुष्प, को पकड़ने और हाथों की मुद्राओं को यहां जिस रूप में दिखाया गया है, अजन्ता के कलाकारों की महानतम उपलब्धि है।

प्रश्न.17) भारत के इतिहास के सन्दर्भ में निन्मलिखित युग्मों पर विचार करें.
शब्द: विवरण
१. एरिपत्ति (Eripatti): भूमि जिससे मिलने वाला राजस्व अलग से ग्राम जलाशय के रख-रखाव के लिए निर्धारित कर दिया जाता था (Link)
२. तनियूर (Taniyurs): एक अकेले ब्राह्मण अथवा एक ब्राह्मण-समूह को दान में दिए गए ग्राम (Link)
३. घटिका (Ghatika): प्रायः मंदिरों के साथ सम्बद्ध विद्यालय
उपर्युक्त में कौन-सा/से युग्म सही सुमेलित है/हैं?
a) 1 और 2
b) केवल 3
c) 2 और 3
d) 1 और 3
उत्तर-d
व्याख्या:
1. एरिपत्ति (Eripatti): जलाशय को पुनर्निमाण के लिए लगाया हुआ कर।
2. तनियूर (Taniyurs): ब्राह्मणों को दिए ग्राम ब्रह्म्देय कहलाते थे. इनमें जो अधिक महत्त्वपूर्ण ब्रह्म्देय थे, मात्र उन्हीं को तनियूर का दर्जा मिलता था। इसलिए यह गलत होगा कि ब्राह्मणों को दिए गए सभी ग्राम तनियूर कहलाते थे।
3. घटिका (Ghatika): प्रायः मंदिरों के साथ सम्बद्ध विद्यालय

प्रश्न.18) सत्य शोधक समाज (Satya Shodhak Samaj) ने संगठित किया (Modern History/आधुनिक भारत)
a) बिहार में आदिवासियों के उन्न्यन का एक आन्दोलन
b) गुजरात में मंदिर-प्रवेश का एक आन्दोलन
c) महाराष्ट्र में एक जाति-विरोधी आन्दोलन
d) पंजाब में एक किसान आन्दोलन
उत्तर-c
व्याख्या: सत्य शोधक की स्थापना महाराष्ट्र के ज्योतिबा फूले द्वारा जाति-व्यवस्था और ब्राह्मणों के वर्चस्व के विरोध में की गयी थी. इस समाज में कई गैर-ब्राह्मण जातियों के लोग सदस्य बनें। इस समाज ने मूर्ति-पूजा का भी विरोध किया।

प्रश्न.19) बटलर समिति रिपोर्ट के सन्दर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए-
1. भारत की देशी रियासतों तथा सर्वोच्च (ब्रिटिश) सत्ता के सम्बन्धों की जाँच करना इस समीति का मुख्य विषय नहीं था।
2. भारत में सर्वोच्च (ब्रिटिश) सत्ता और देशी रियासतों के तत्कालीन सम्बन्धों की जाँच करने के उपरान्त समिति ने दोनों के वित्तीय एवं आर्थिक सम्बन्धों को व्यवस्थित करने के विषय में अपनी सिफ़ारिशें प्रस्तुत कीं।
3. इसकी आधारभूत सिफ़ारिश थी कि सर्वोच्च सत्ता और देशी राजाओं के बीच ऐतिहासिक सम्बन्धों को ध्यान में रखा जाये।
4. देशी राजाओं को उनकी सहमति के बिना भारतीय विधान मंडल के प्रति उत्तरदायी नयी सरकार से सम्बन्ध स्थापित करने के लिए विवश न किया जाये।
उपर्युक्त कथनों में कौन सा/से कथन संगत नहीं है/हैं?
a) केवल 1
b) केवल 2
c) 1 और 2 दोनों
d) न तो 1, न ही 2
उत्तर-a
व्याख्या: इसके गठन का उद्देश्य सर्वोच्च (ब्रिटिश) सत्ता और भारतीय राजाओं के मध्य के संबंधों की जाँच करना और उनके मध्य के इन संबंधों की बेहतरी के लिए सुझाव देना था ताकि ब्रिटिश भारत और देशी रियासतों के बीच संतोषजनक संबंधों की स्थापना की जा सके|

प्रश्न.20) विजयनगर के शासक कृष्णदेव की कराधान व्यवस्था (Krishna Deva’s taxation system) से सबंधित निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
a) भूमि की गुणवत्ता के आधार पर भू-राजस्व की दर नियत होती थी।
b) कारखानों के निजी स्वामी एक औद्योगिक कर देते थे।
उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?
a) केवल 1
b) केवल 2
c) 1 और 2 दोनों
d) न तो 1, न ही 2
उत्तर-c
व्याख्या: कारखानों के निजी स्वामी औद्योगिक कर देते थे। इन करों की वसूली श्रेणियों (guilds) के माध्यम से होती थी।

अब हम UPSC प्रारंभिक परीक्षा 2017 के इतिहास खंड हेतु संभावित प्रश्न विषयक अपना लेख समाप्त करते हैं। आशा है यह लेख आपको पसंद आया होगा और आपके ज्ञान वृद्धि एवं परीक्षा की तैयारी में सहायक रहा होगा।

UPSC सिविल सेवा भर्ती परीक्षा 2017 से संबंधित अधिक जानकारी के लिए हमसे जुड़े रहें। सिविल सेवा परीक्षाओं में उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए सर्वश्रेष्ठ IAS परीक्षा तैयारी एप नि:शुल्क डाउनलोड करें।

Best Government Exam Preparation App OnlineTyari

अगर अभी भी आपके मन में किसी प्रकार की कोई शंका या कोई प्रश्न है तो कृपया नीचे दिए गए कमेंट सेक्शन में उसका ज़िक्र करें और बेहतर प्रतिक्रिया के लिए OnlineTyari Community पर अपने प्रश्नों को हमसे साझा करें।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.