जॉब करते हुए कैसे करें IAS की तैयारी ?

UPSC की तैयारी करने वालों द्वारा सबसे ज़्यादा पूछे जाने वाला प्रश्न यही है – “जॉब करते वक्त IAS की तैयारी कैसे करें?” क्या आपके मन में भी यह सवाल चलता रहता है? IAS की परीक्षा देने के लिए तय मानदंड के तहत एक निश्चित आयु वर्ग (कम-से-कम 21 वर्ष) निर्धारित किया गया है। हालांकि कई IAS उम्मीदवार पहले से ही किसी कंपनी में जॉब करते रहते हैं। आंकड़ों को देखें तो IAS प्रारंभिक परीक्षा (IAS Prelims) के कई उम्मीदवार जॉब कर रहे होते हैं। फिर भी इनमें से कई लोग चयन प्रक्रिया और IAS की परीक्षा उत्तीर्ण कर जाते हैं।

इस आर्टिकल में हम इसी महत्वपूर्ण विषय पर चर्चा करेंगे – “क्या आप 9 से 5 की नौकरी करने के साथ-साथ IAS की परीक्षा उतीर्ण कर सकते हैं?” चर्चा शुरू करने से पहले हम दो प्रारंभिक कारकों पर गौर करेंगे:

  1. अपनी नौकरी और उसके दायरों को समझना।
  2. UPSC IAS परीक्षा को समझना।

इससे पहले कि आप IAS की तैयारी शुरू करें, इस पर कोई रणनीति बनाएं, हम सलाह देते हैं कि पहले निम्न कारकों पर अच्छे से गौर करें।

 

अपनी नौकरी और उसके दायरों को समझें

चीज़ो को सहज रखने के लिए ईमानदारी से इन प्रश्नों का उत्तर दें:

  • क्या आप अपनी मौजूदा जॉब प्रोफ़इल से खुश हैं ?
  • क्या आपको मिलने वाला वेतन आपकी जीवन शैली के लिए पर्याप्त है ?
  • एक कर्मचारी के तौर पर आप अपने ज्ञान और दक्षता को कैसे आंकते हैं?
  • क्या आप अपने निजी कामों या अपनी ज़िन्दगी के लिए अतिरिक्त समय निकाल पाते हैं ?

इन प्रश्नों का जवाब ईमानदारी से देना अत्यंत आवश्यक है। और क्या ये प्रश्न IAS परीक्षा की तैयारी के लिए प्रासंगिक हैं ? जी हां, बिल्कुल है!

आपकी मौजूदा नौकरी और वेतन से असंतुष्टी ही अन्य अवसरों के लिए आपकी इच्छा को प्रभावित करेगी। एक बेहद संतुष्ट कर्मचारी स्वयं को IAS परीक्षा की जोखिम भरी तैयारी के लिए कभी भी प्रेरित नहीं करेगा। लेकिन यहां सबसे बड़ा प्रश्न है – समय।

आपको अपने दैनिक कार्यों और उसमें लगने वाले समय का गहरा विश्लेषण करना होगा क्योंकि अब 9 से 5 की कोई नौकरी नहीं होती। सामान्यतः आपका दिन सुबह 7 बजे शुरू होता है और कई कर्मचारियों को तो शाम 6 या 7 के बाद ही छुट्टी मिलती है। UPSC IAS जैसे अत्यंत ही प्रतिस्पर्धात्मक परीक्षा की तैयारी बड़े स्तर पर करनी होती है, जहां आपको प्रत्येक दिन 12 घंटे पढ़ना होता है। ऐसे में आपको यह निश्चित करना होगा कि आप IAS परीक्षा की तैयारी के लिए समय (कम-से-कम 3 से 4 घंटे) दे सकते हैं या नहीं।

 

UPSC IAS परीक्षा को समझना

भारतीय सिविल सेवा परीक्षा, संघ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित की जाती है। इसे आम तौर पर UPSC कहा जाता है। देश की सबसे कठिन भर्ती परीक्षाओं में से एक जानी जाने वाली इस परीक्षा में बैठने वाले प्रत्येक उम्मीदवार के लिए स्क्रीनिंग के 3 स्तर होते हैं।

  1. IAS प्रारंभिक परीक्षा (ऑब्जेक्टिव MCQ पर आधारित)
  2. IAS मेंस परीक्षा (लिखित परीक्षा)
  3. साक्षात्कार / व्यक्तित्व परीक्षण

आइए समझते हैं UPSC सिविल सेवा परीक्षा के प्रत्येक स्क्रीनिंग स्तर को।

स्टेज I IAS प्रारंभिक परीक्षा

सबसे पहला स्तर- जो कि UPSC IAS प्रारंभिक परीक्षा होता है, उसमें ऑब्जेक्टिव प्रकार (बहुविकल्पीय प्रश्न) के कुल 400 अंकों के दो पेपर शामिल होंगे। इस परीक्षा का मुख्य उद्देश्य मेंस परीक्षा के लिए उम्मीदवारों को छांटना और उनकी स्क्रीनिंग करना है। IAS प्रारंभिक परीक्षा में दो पेपर होंगे – जनरल स्टडीज़ और ऐप्टिट्यूड।

  • जनरल स्टडीज़ में भारतीय इतिहास, वर्तमान घटनाक्रम, भारतीय और विश्व भूगोल, भारतीय राजनीति, अर्थशास्त्र, विज्ञान और तकनीक और पर्यावरण अध्ययन जैसे विषय शामिल रहेंगे।
  • ऐप्टिट्यूड में कॉम्प्रिहेंशन, लॉजिकल रीज़निंग, अंग्रेज़ी भाषा, मेंटल ऐबिलिटी आदि विषय शामिल होंगे।

प्रत्येक सेक्शन 200 अंकों का होता है और IAS परीक्षा के उम्मीदवारों को प्रत्येक पेपर को हल करने के लिए 2 घंटे का समय दिया जाएगा। सिर्फ़ वे उम्मीदवार जो ये परीक्षा उत्तीर्ण करेंगे, वे ही IAS मेंस परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं।

स्टेज II IAS मेंस परीक्षा

IAS प्रारंभिक परीक्षा आम तौर पर मई और जून में आयोजित की जाती है और जुलाई – अगस्त में परिणामों की घोषणा की जाती है। यदि आपको भी लगता है कि IAS प्रारंभिक परीक्षा उत्तीर्ण करना किसी रोमांच से कम नहीं तो इसके लिए तैयार हो जाइए।

IAS मेंस परीक्षा में कुल 9 पेपर होंगे, जिनमें परंपरागत निबंध पर आधारित प्रश्न शामिल होंगे। इन 9 लिखित प्रश्न पत्रों में 2 क्वॉलिफ़ाइंग होंगे। स्पष्ट रूप से कहें तो इन दो पेपर के अंक कुल स्कोर 1750 में नहीं जोड़े जाएंगे।

UPSC IAS Mains Paper

Marks

Paper 1 – Essay

250

Paper 2 – General Studies  I

250

Paper 3 – General Studies II

250

Paper 4 – General Studies III

250

Paper 5 – General Studies IV

250

Paper 6 – Optional Subject I

250

Paper 7 – Optional Subject II

250

Paper 8 – Indian Language

*300

Paper 9 – English Language

*300

Total

1750

*IAS मेंस के कुल अंकों में ये नहीं जोड़े जाएंगे।

अभी तक की जानकारी सही लग रही है ना! मेंस में चुने हुए उम्मीदवार स्क्रीनिंग के अंतिम राउंड में प्रवेश करेंगे जो कि साक्षात्कार होगा।

स्टेज III – साक्षात्कार / व्यक्तित्व परीक्षण

यदि आप कुछ समय से UPSC IAS की तैयारी करते रहें हैं तो आप जानते होंगे कि सिविल सेवा परीक्षा का साक्षात्कार राउंड अपने आप में विशिष्ट होता है। उच्च प्रशिक्षित व्यक्तियों का एक पैनल आपको ज्वलंत, चुनौतीपूर्ण और अत्यंत चिंतनशील प्रश्नों के बीच ले जाएगा, आपके उत्तरों से आपकी पहचान करेगा। साक्षात्कार राउंड 275 अंकों का होता है।

IAS परीक्षा की अंतिम मेरिट सूची मेंस और साक्षात्कार में आपके प्रदर्शन के आधार पर बनाई जाएगी। इस पूरी प्रक्रिया में 1 वर्ष का लंबा समय लगता है और मात्र मुठ्ठी भर लोग ही इस अंतिम पड़ाव को पार कर पाते हैं। इसलिए यदि आप अब तक हमारे साथ हैं तो क्या आप इस चुनौती को लेने के लिए तैयार हैं? क्या आप जानना चाहेंगे कि जॉब करते हुए भी IAS परीक्षा की तैयारी कैसे करें? अग़र आपका जवाब अभी भी हां है तो IAS प्रारंभिक परीक्षा 2016 के लिए ये है हमारा स्टडी प्लान। इसे ध्यान से पढ़ें।

 

नौकरी करते हुए कैसे करें IAS की तैयारी

हज़ारों मील लंबे सफ़र की शुरुआत एक कदम से होती है। इसी को ध्यान में रखते हुए, तैयार करते हैं आपके आगामी  IAS  2016 परीक्षा का स्टडी प्लान और सुनिश्चित करें कि यह आपके काम के प्रदर्शन में बाधा ना बने।

1. समय प्रबंधनइसका बेहतर प्रयोग सुनिश्चित करें

आगामी सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी के लिए यह सबसे बड़ी ज़रूरत है। हालांकि IAS परीक्षा की प्रक्रिया एक साल तक चलती है, इसलिए IAS परीक्षा की तैयारी के लिए अपने समय का अतिरिक्त हिस्सा देने की दिशा में तैयार हो जाएं।

नियमित रूप से 3 – 4 घंटे रोज़ पढ़ने के अलावा सुनिश्चित करें कि आप बीच के अंतरालों में भी पढ़ते रहें। जैसे –

  • रोज़ सुबह नाश्ता करते समय या ऐसे भी समाचार पत्र (द हिंदु और इकॉनमिक टाइम्स) पढ़ना।
  • करंट अफ़ेयर्स के अपने स्तर को बढ़ाने के लिए नवीनतम लेखों को पढ़ना। हमारा ऐप डाउनलोड करें क्योंकि ये विभिन्न भर्ती परीक्षाओं की तैयारी करते हुए लाखों लोगों की सहायता करता है।

दैनिक कार्यों के बीच अंतराल को ऐसे भरने से IAS प्रारंभिक परीक्षा 2016 के लिए अधिक कुशलता से तैयारी करने में मदद मिलेगी।

2. IAS परीक्षा की संरचना को समझें

जैसा कि ऊपर दिए गए सेक्शन में हमने ज़ोर देकर कहा है कि आपको UPSC IAS परीक्षा पैटर्न और उसकी संरचना से भलीभांति अवगत होना चाहिए। कैसे करें IAS परीक्षा की तैयारी पर विचार करने से पहले ये ज़रूरी है कि क्या तैयार करना है।

  • सबसे पहले IAS प्रारंभिक परीक्षा की तैयारी करें। आपको लिखित परीक्षा के ऑब्जेक्टिव पैटर्न और उसकी जटिलताओं की जानकारी होनी चाहिए।
  • IAS मेंस, प्रारंभिक परीक्षा से भिन्न होती है। सब्जेक्टिव पैटर्न के लिए विषय की गहरी समझ होना आवश्यक होता है।

इसलिए यह सलाह दी जाती है कि परीक्षा के पैटर्न से आप परिचित हों और वही पढ़ें, जो ज़रूरी है।

3. IAS परीक्षा की तैयारी के लिए एक स्टडी टाइम टेबल बनाएं

यदि आप एक पेशेवर के तौर पर काम कर रहे हैं तो आपको IAS परीक्षा उत्तीर्ण करने के लिए एक स्टडी टाइम टेबल के अनुसार चलना अत्यंत आवश्यक है। स्टडी टाइम टेबल तैयार करते वक्त इन चीज़ों को ध्यान में रखें।

  • आपको काम करने वाले दिनों में 2 से 3 घंटे और वीकेंड पर 5 से 6 घंटे तैयारी करनी चाहिए।
  • प्रत्येक सेक्शन हर हफ़्ते में 3 बार आना चाहिए ताकि आप अपने प्रदर्शन का ट्रैक रखने में सक्षम हों।
  • बाद में आपको पुनरावृत्ति और मॉक टेस्ट के लिए विशेष समय देना होगा।
  • IAS परीक्षा की तैयारी के समय सभी प्रकार के भ्रमित करने वाली चीज़ों (फ़ेसबुक, व्हाट्सऐप) से बचें।

देर रात तक पढ़ने के बजाय आपको दिन में ही पढ़ने की सलाह दी जाती है ताकि आप अपने दिमाग को आराम दे सकें और नए विचार सोच सकें।

4. चयनशील पढ़ाई : एक ज़रूरत

उन सभी के लिए जो “चयनशील पढ़ाई” शब्द से अवगत नहीं हैं, इसका मतलब होता है कई स्त्रोतों से पढ़ना। इसी क्रम में IAS परीक्षा की तैयारी के लिए सही स्त्रोतों से पढ़ना भी उतना ही महत्वपूर्ण है।

  • समाचार पत्रों में हम द हिंदु, द इकोनॉमिक टाइम्स और द स्टेट्समेन पढ़ने की सलाह देते हैं।
  • IAS प्रारंभिक परीक्षा में चयन की तैयारी के लिए हम NCERT की पुस्तकें पढ़ने की सलाह देंगे ताकि बुनियादी बातों की अच्छी समझ विकसित हो। संदर्भ पुस्तकें बाद में पढ़ी जा सकती हैं।

आप एक ही दिन में सभी विषय कवर नहीं कर सकते। जैसा कि ऊपर दिए बिंदु में बताया गया है कि एक योजना होती ही है।

5. NCERT पुस्तकें – IAS की तैयारी के लिए आरंभकर्ता की गाइड

IAS की तैयारी के लिए स्कूल के समय की पुरानी NCERT पुस्तकों से पढ़ने के अलावा कोई और बेहतर उपाय नहीं है। इसके कुछ कारण हैं कि क्यों NCERT पुस्तकें IAS परीक्षा की तैयारी के लिए उत्तम स्रोत हैं।

  • मूल की स्पष्टता
  • भाषा की सरलता
  • अच्छे सचित्र उदाहरण
  • सूचना की प्रामाणिकता

आपके स्टडी टाइम टेबल की शुरुआत NCERT पुस्तकों से ही होनी चाहिए क्योंकि ये भविष्य में आने वाले विषयों के लिए बेहतर नींव रखने में कारगर होती हैं।

IAS-2016-Prelims-NCERT-Books

Must Read: IAS परीक्षा की तैयारी के लिए आवश्यक पुस्तकें

भविष्य में पुनरावृत्ति करने और संदर्भों के लिए आप NCERT पुस्तकों से क्या याद कर रहें हैं, इसका रेकॉर्ड रखें।

6. वर्तमान घटनाक्रमों से अच्छी तरह से परिचित रहें

सिविल सर्विसेज की IAS प्रारंभिक परीक्षा मुख्य रूप से जनरल नॉलेज और ऐप्टिट्यूड पर आधारित होती है। सिर्फ़ एक अच्छे से तैयार उम्मीदवार ही प्रश्नों का जवाब आसानी से और पूरे विश्वास के साथ दे सकता है। आप अभी Online Tyari ऐप डाउनलोड कर सकते हैं और Daily GK Updates के लिए सब्सक्राइब कर सकते हैं।

समाचार पत्र निश्चित ही करंट अफ़ेयर्स के लिए प्राथमिक स्रोत के रूप में काम करेगा लेकिन ऐप से पढ़ने में आसानी होगी, इसका विश्वास हम दिलाते हैं।

7. पिछले वर्षों के प्रश्न पत्र और मॉक टेस्ट हल करें

चूंकि आप पेशेवर के रूप में कार्य कर रहें हैं इसलिए आप कुछ समय बाद टेस्ट देने की क्षमता को खो सकते हैं। इसलिए ऑब्जेक्टिव टेस्ट में अपनी पकड़ बढ़ाने के लिए आपको IAS परीक्षा से संबंधी ज़्यादा-से-ज़्यादा मॉक टेस्ट और प्रैक्टिस पेपर हल करने होंगे।

पिछले वर्ष के IAS पेपरों को हल करने से शुरु करें और प्रश्न पत्र का स्तर समझने की कोशिश करें। जैसे–जैसे आप आगे बढ़ेंगे, आपको एक उचित रणनीति बनाने की ज़रूरत होगी।

8. पुनरावृत्ति : आवश्यक चरण

आपकी सभी “कैसे करें IAS परीक्षा की तैयारी” के लिए टिप्स पूर्ण रूप से व्यर्थ हो जाएंगे, यदि आपने पुनरावृत्ति के लिए समय नहीं दिया।

अपने कुल आवंटित समय में से कम-से-कम 25-30% पढ़ाई का समय IAS परीक्षा के लिए पिछले दिनों या हफ़्तों किए गए ज्ञान अर्जित की पुनरावृत्ति और पुन: अवलोकन के लिए समर्पित करें।

9. सिविल सेवा परीक्षा की प्रतियोगिता को समझें

सिर्फ़ मुठ्ठीभर उम्मीदवार ही अंतिम चरण को पार कर पाते हैं। ऐसे में उम्मीदवारों को परीक्षा की तैयारी के स्तर में स्पष्टता होनी चाहिए।

IAS परीक्षा हल करने के दौरान यह सभी के लिए एक समान क्षेत्र होगा। आप ऐसे उम्मीदवारों से मिलेंगे जो बेरोज़गार होंगे या जो सालों से काम कर रहे होंगे।

10. आपके पास नौकरी है… किस बात का डर !

यदि आप ऊपर लिखे बात से हतोत्साहित हुए हैं तो हम माफ़ी चाहते हैं। हम ये लेख आपको हतोत्साहित करने के लिए नहीं लिख रहे बल्कि आपको वर्तमान परिदृश्य से अवगत करा रहे हैं।

कभी भी ऐसी किसी बात से अपने उस काम का महत्व कम ना होने दें, जिसके लिए आप कार्यरत हों। आप IAS परीक्षा की तैयारी इस उम्मीद से कर रहे हैं कि आपको एक बेहतर करियर विकल्प और स्थाई भविष्य मिलेगा। इसे सदैव याद रखें। कभी भी दबाव और तनाव को अपने व्यक्तिगत और व्यवसायिक जीवन पर हावी ना होने दें। IAS परीक्षा एक चुनौती है और आप जानते हैं कि चुनौतियों से पार कर ही इंसान बेहतर बनता है।

सभी कार्यरत प्रोफ़ेशनलों को आगामी IAS परीक्षा 2016 के लिए शुभकामनाएं।

1 REPLY

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.