RBI ग्रेड बी मुख्य परीक्षा 2017 : अंतिम सप्ताह की रणनीति

RBI ग्रेड बी मुख्य परीक्षा 2017 : अंतिम सप्ताह की रणनीति- भारतीय रिजर्व बैंक ग्रेड बी चरण 2 (मुख्‍य) परीक्षा निकट है। विदित हो कि RBI ग्रेड-बी की प्रारंभिक परीक्षा 17 जून 2017 को आयोजित की गई थी जिसका रिज़ल्ट 21 जून 2017 को घोषित किया गया था। अब भारतीय रिजर्व बैंक 7 जुलाई 2017 को RBI ग्रेड बी चरण 2 परीक्षा आयोजित करेगा। ऐसे उम्मीदवार जिन्होंने चरण 1 में सफलता प्राप्त की थी वे अब चरण 2 की परीक्षा में सम्मिलित होंगे।

उम्मीदवारों के पास इस परीक्षा में सफलता प्राप्त कर देश के केंद्रीय बैंक में एक अधिकारी बनने का यह सुनहरा अवसर है। अतः आपको जी-जान से सटीक रणनीति के तहत तैयारी करनी चाहिए। आपकी तैयारी में सहायता पहुचाने के उद्देश्य से हम आज RBI ग्रेड बी मुख्‍य परीक्षा के लिए अन्‍तिम सप्‍ताह की रणनीति साझा कर रहे हैं।

 

RBI ग्रेड बी चरण 2: परीक्षा पैटर्न 

इससे पहले हम परीक्षा के चरण 2 की रणनीति की तरफ बढ़ें उससे पहले हम RBI ग्रेड बी चरण 2 परीक्षा 2017 के पैटर्न से परिचय प्राप्त कर लेते हैं। चरण 2 परीक्षा को 3 पेपर  में विभाजित किया गया है। प्रत्येक पेपर 100 अंकों का है और उन्हें हल करने के लिए 90 मिनट का समय प्रदान किया जाएगा। परीक्षा पैटर्न की विस्तृत जानकारी के लिए आप नीचे दी गई तालिका को देख सकते हैं-

पेपर का नाम पेपर का प्रकार कुल समय(मिनट) कुल अंक
पेपर-I: अर्थशास्‍त्र और सामाजिक मुद्दे बहुविकल्‍पीय 90 100
पेपर II: अंग्रेजी (लेखन कौशल) वर्णनात्‍मक: अभ्यर्थी को उत्तर कंप्यूटर पर की बोर्ड की सहायता से टाइप कर देने होंगे 90 100
पेपर-III: वित्‍त और प्रबंधन बहुविकल्‍पीय 90 100
  • पेपर I और पेपर III में आपके द्वारा चयनित गलत प्रश्‍नों के लिए 1/4 का नकारात्मक अंकन किया गया है।
  • पेपर – III में उम्मीदवारों को गैर-प्रोग्रामयोग्य इलेक्ट्रॉनिक कैलकुलेटर का उपयोग करने की अनुमति होगी।

 

RBI ग्रेड बी मुख्य (चरण 2) परीक्षा : अंतिम सप्‍ताह की रणनीति 

आइए अब हम RBI ग्रेड बी चरण -2 परीक्षा की रणनीति से परिचित हो लेते हैं –

पेपर 1: आर्थिक और सामाजिक मुद्दे (ESI)

पेपर 1, आर्थिक और सामाजिक मुद्दे के तहत गत वर्ष (2016) में दो प्रकार के प्रश्न परीक्षा में पूछे गए थे- पहले प्रकार के तहत 35 प्रश्न 2 अंकों के लिए पूछे गए थे और दूसरे प्रकार के तहत 30 प्रश्न 1 अंकों के लिए पूछे गए थे। पहले प्रकार के प्रश्नों के लिए प्रश्न पत्र में छोटे-छोटे अनुच्छेद दिए गए थे और उनपर आधारित प्रश्न पूछे गये थे, पर उम्मीदवारों को प्रश्न का उत्तर देते समय अपनी विषय समझ का प्रयोग करना था।

इसलिए प्रश्‍नों के उत्तर देने के लिए उम्मीदवारों को पूछे जाने वाले विषय का ज्ञान होना आवश्यक है। अन्‍तिम शेष सप्‍ताह में आप निम्नलिखित विषयों को बहुत अच्छी तरह से पढ़ें:

आर्थिक और सामाजिक मुद्दे- पेपर के समसामयिकी आर्थिक और वित्तीय मुद्दों की समझ के लिए निम्न विषयों पर एक नजर अवश्य डाल लें-

  1. आर्थिक सर्वेक्षण, बजट 2017, नए पारित अर्थव्यवस्था से संबंधित विधेयक/कानून, अर्थव्यवस्था संबंधी नयी योजना आदि।
  2. भारतीय रिजर्व बैंक का इतिहास, भारतीय रिजर्व बैंक की रिपोर्ट और भारतीय रिजर्व बैंक संदर्भित पूछे गए प्रश्न।
  3. जीडीपी, बीओपी, विभिन्न बैंक रेट, बैंकिंग ऋण पद्धति, अन्य महत्पूर्ण इकॉनोमिक और बैंकिंग रिपोर्ट, अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक रिपोर्ट के तहत जारी आंकड़ें।
  4. पीआईबी, फाइनेंस मिनिस्ट्री की आधिकारिक साईट पर प्रदत्त महत्वपूर्ण आर्थिक मुद्दों पर नजर।

आर्थिक और सामाजिक मुद्दे- पेपर के स्‍टेटिक अनुभाग के लिये निम्नलिखित विषयों के अध्ययन और दोहराने पर ध्यान केंद्रित करें:

  • आर्थिक वृद्धि और विकास, वृद्धि का मापन
  • आर्थिक सुधार, औद्योगिक और श्रम नीति, निजीकरण, वैश्‍वीकरण
  • राष्ट्रीय आय और प्रति व्यक्ति आय
  • भारत में आर्थिक सुधार
  • मौद्रिक और राजकोषीय नीति
  • भुगतान का संतुलन
  • आईएमएफ, अंतर्राष्‍ट्रीय मुद्रा कोष और विश्व बैंक, विश्व व्यापार संगठन, भुगतान संतुलन
  • भारत में सामाजिक संरचना
  • सामाजिक न्याय
  • भारतीय राजनीतिक प्रणाली
  • स्वास्थ्य और शिक्षा, गरीबी उन्मूलन और रोजगार सृजन

उपरोक्‍त स्‍टेटिक विषयों की तैयारी करने के लिए उम्मीदवारों को  10-12 वीं कक्षा की एनसीईआरटी पुस्तकों का रिविजन करना चाहिए। जिससे आपकी अर्थशास्त्र और सामाजिक मुद्दों पर समझ विकसित हो जायेगी। उम्मीदवार ध्यान रखें की इस विषय से प्रश्न का स्तर थोड़ा कठिन रहने की उम्मीद है अतः विषय का सावधानीपूर्वक रिविजन किया जाना चाहिए।

पेपर – II: अंग्रेजी

पेपर- II वर्णनात्मक परीक्षा है। इस पेपर के माध्यम से उम्मीदवार के विषय समझ, लेखन कौशल, अभिव्यक्ति और भाव सम्प्रेषण की परीक्षा की जाएगी। इस पेपर के लिए आपकी समसामयिक आर्थिक और सामाजिक मुद्दों पर पकड़ होने चाहिए तभी आप सारगर्भित और सटीक लेखन कर पायेंगे। उम्मीदवार को इस पेपर के तहत 3 सेक्शन से पूछे गए प्रश्नों के उत्तर देने होंगे और उत्तर के लिए शब्द सीमा निर्धारित होगी और आपको शब्द सीमा को ध्यान में रखकर ही उत्तर देना चाहिए। क्योंकि सभी प्रश्न के उत्तर आप को कंप्यूटर पर टाइप कर देने हैं अतः कंप्यूटर टाइपिंग की अपनी गति को बढ़ाने का भी प्रयास करें।

  1. निबंध लेखन– निबंध लेखन के लिए आर्थिक और बैंकिंग सम्बंधित समसामयिकी मुद्दों की जानकारी आवश्यक होगी। निबंध कुछ मौजूदा और महत्वपूर्ण विषयों से पूछे जाएंगे। इकॉनोमिक स्टैण्डर्ड, द हिन्दू आदि के सम्पादकीय का अध्ययन करें। निबंध लेखन के समय आप पूछे गए विषय से ही संदर्भित रखें और भटकाव से बचें। निबंध लेखन की योजना का पालन करें। जितना अधिक हो सके उतना ही निबंध लेखन का अभ्यास करें।
  2. प्रेसीज (सार संक्षेपण ): सार संक्षेपण के तहत प्रश्न पत्र में अनुच्छेद दिया गया होगा जिसे संक्षेप में कर आपको उसके मूल विचार को व्यक्त करना होगा। इसका लेखन करते समय यह ध्यान रखना चाहिए कि विचार की पुनरावृत्ति न हो और मूल विचार सही ढंग से व्यक्त हों। प्रतिदिन सार संक्षेपण लेखन का अभ्यास करें।
  3. रीडिंग कांप्रीहेंशन: रीडिंग कांप्रीहेंशन में एक पैराग्राफ दिया जायेगा और उससे आधारित प्रश्‍न पूछे जाएंगे। आपको अपनी भाषा में अनुच्छेद के मूल भाव को समझ कर प्रश्नों के उत्तर देने होंगे। मूल भाव समझने के लिए अनुच्छेद को ध्यानपूर्वक पढ़ना चाहिए।

Descriptive English

Descriptive English

This Book aims to provide an objective evaluation of each aspirant’s performance, which would lead to an overall improvement in his/her preparation.This book has been designed for such examinations which assess the English language abilities in detail. Available for Physical Delivery.

Buy Now

पेपर III: वित्‍त और प्रबंधन

इस पेपर में वित्‍त और प्रबंधन संदर्भित प्रश्‍न शामिल होंगे। परीक्षा के लिए बहुत कम दिन बचे हैं, आपको इस समय अवधि में निम्नलिखित विषयों को समझना और दोहराना होगा:

वित्‍त प्रश्‍नों में उत्कृष्‍टता प्राप्‍त करने के लिए, निम्नलिखित विषयों को पर ध्यान केंद्रित करें-

  • बैंकों और वित्तीय संस्थानों के नियामक
  • आरबीआई और उसके कार्य
  • वित्तीय बाजार
  • केंद्रीय बजट
  • मुद्रास्फ़ीति
  • बैंकिंग क्षेत्र में कॉर्पोरेट प्रशासन
  • वित्तीय समावेशन
  • बैंकिंग क्षेत्र में जोखिम प्रबंधन
  • डेरिवेटिव की मूल बातें: अग्रसर, भावी सौदे और स्वैप
  • बैंकिंग क्षेत्र के लैंडस्केप का बदलना
  • वित्त के वैकल्पिक स्रोत
  • सार्वजनिक-निजी भागीदारी (पीपीपी)

प्रबंधन अनुभाग से जो प्रश्‍न पूछे जाते हैं वे बहुत ही बुनियादी होते हैं इसलिये सभी प्रबंधन शर्तों की बुनियादी समझ की आवश्यकता है। महत्वपूर्ण प्रबंधन नियम और परिभाषायें पढ़ें। एक अच्‍छा स्कोर प्राप्‍त करने के लिए अन्‍तिम सप्‍ताह में निम्नलिखित विषयों को दोहराना सुनिश्‍चित करें:

  • नेतृत्व सिद्धांत
  • प्रेरणा सिद्धांत
  • व्यापार विश्‍लेषण।

महत्वपूर्ण सुझाव:

  • अपने कमजोर पक्ष और मजबूत पक्ष के अनुरूप अपना रिविजन करें। तदनुसार प्रत्येक पेपर के लिए तैयारी करें।
  • अब अधिक स्त्रोतों से सामग्री को पढ़ने का प्रयत्न न करें। प्रामाणिक संसाधनों से ही अपना रिविजन करें और मुद्दों को समझें।
  • एनसीईआरटी पुस्तक से अपना बेसिक क्लियर करें। पढ़ने के लिए हमेशा प्रमाणिक पुस्तकों से अध्ययन करें।
  • पीआईबी, फाइनेंस मिनिस्ट्री, भारतीय रिजर्व बैंक के तहत महत्वपूर्ण आर्थिक और वित्तीय मुद्दों से अपडेट हो लें।
  • नियमित अख़बारों को पढ़ते रहें। एक महीने पहले तक अख़बार में बने रहने वाले प्रमुख आर्थिक और बैंकिंग मुद्दों पर एक नजर अवश्य डाल लें।
  • अंतिम रुप से- शांत रहें, खुद को स्वस्थ्य रखें और अपनी क्षमताओं पर भरोसा रखें।

RBI ऑफिसर ग्रेड-बी परीक्षा 2017 के बारे में अधिक जानकारी के लिए हमसे जुड़े रहें। बैंकिंग परीक्षाओं में उत्कृष्टता हासिल करने के लिए सर्वश्रेष्ठ RBI ग्रेड बी ऑफिसर परीक्षा तैयारी एप नि:शुल्क डाउनलोड करें।

Best-Government-Exam-Preparation-App-OnlineTyari

अगर अभी भी आपके मन में किसी प्रकार की कोई शंका या कोई प्रश्न है तो कृपया नीचे दिए गए कमेंट सेक्शन में उसका ज़िक्र करें और बेहतर प्रतिक्रिया के लिए OnlineTyari Community पर अपने प्रश्नों को हमसे साझा करें।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.