RPSC RAS और UPSC सिविल सेवा परीक्षा के बीच तुलनात्मक अंतर

इससे पहले कि हम RPSC RAS और UPSC सिविल सेवा परीक्षा के बीच कुछ प्रमुख अंतर पर चर्चा करें उससे पहले एक बात समझ लेते हैं। ऐसा माना जाता है कि UPSC सिविल सेवा परीक्षा हमारे देश कि सबसे सबसे प्रतिष्ठित परीक्षा होने के साथ-साथ प्रतियोगी परीक्षा भी है। लेकिन, RPSC RAS (राजस्थान प्रशासनिक सेवा) परीक्षा राजस्थान के राज्य में सबसे प्रतिष्ठित सरकारी नौकरियों के लिए केंद्रीय भर्ती परीक्षा है। आइये अब हम  RPSC RAS और सिविल सेवा परीक्षा के बीच कुछ प्रमुख अंतरों पर चर्चा करते है और यह समझने की कोशिश करते हैं कि आख़िर इन दोनों परीक्षाओं में कितना अंतर है।

RPSC RAS और UPSC सिविल सेवा परीक्षा के बीच तुलनात्मक अध्ययन 

इन दोनों परीक्षाओं के बीच मुख्य अंतर जानने के लिए सभी उम्मीदवारों को नीचे दिए जा रहे पहलुओं पर ध्यान देना होगा।

  1. आवेदकों की आयु सीमा
  2. परीक्षा का प्रकार
  3. प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा का परीक्षा पैटर्न

RPSC RAS और UPSC सिविल सेवा परीक्षा के बारे में और अधिक जानने के लिए इससे संबंधित प्रत्येक पहलू पर विस्तार से बात करते हैं।

1.RAS और IAS: आवेदकों की आयु-सीमा में अंतर

RPSC RAS और UPSC सिविल सेवा परीक्षा के मध्य सबसे प्रमुख अंतर, आवेदन के स्तर पर है। जब हम दोनों परीक्षाओं की तुलना करते हैं तो आयु सीमा में एक महत्वपूर्ण अंतर है।

  • UPSC CSE उम्मीदवार के लिए निर्धारित आयु-सीमा 21 से 32 वर्ष के मध्य है।
  • RPSC RAS उम्मीदवार के लिए निर्धारित आयु-सीमा 21 से 35 वर्ष के मध्य है।

नोट: दोनों परीक्षाओं में, आरक्षित श्रेणियों और पीडब्ल्यूडी के संबंध में, भारत सरकार द्वारा तय किये गए मानदंडों के अनुसार, आयु में छूट का प्रावधान है।

इसलिए, निष्कर्ष के तौर पर हम हम देख सकते हैं कि UPSC सिविल सेवा परीक्षा की तुलना में RPSC परीक्षा में ऊपरी आयु-सीमा वाले उम्मीदवार काफी ज्यादा हैं।

2. RAS और IAS: परीक्षा प्रकार में अंतर

RAS RAS और UPSC IAS से संबंधित परीक्षा प्रकार में कुछ प्रमुख अंतर इस प्रकार हैं।

 

  • RPSC RAS परीक्षा में, अधिकतर प्रश्न राजस्थान राज्य के इर्द-गिर्द आधारित होते हैं जबकि UPSC सिविल सेवा परीक्षा में, अधिकतर प्रश्न राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर के इर्द-गिर्द केन्द्रित होते हैं।
  • इसके अतिरिक्त, RPSC RAS, राजस्थान लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित एक राज्य स्तरीय परीक्षा है जबकि UPSC CSE संघ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित एक केन्द्रीय स्तर की परीक्षा है।
  • RPSC RAS, राजस्थान राज्य की सर्वोच्च प्रशासनिक भर्ती परीक्षा है जबकि IAS, हमारे देश की सर्वोच्च प्रशासनिक भर्ती परीक्षा है।

अत: हम स्पष्ट रूप से देख सकते हैं कि दोनों परीक्षाएं एक-दूसरे से भिन्न हैं।

3. RAS और IAS: पेपर के परीक्षा पैटर्न में अंतर

UPSC सिविल सेवा परीक्षा  परीक्षा के तहत चयन प्रक्रिया तीन चरणों में संपन्न होती है- सीसैट (प्रारंभिक परीक्षा), मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार।

हालांकि, RPSC RAS परीक्षा में भी चरणों की संख्या समान है लेकिन प्रश्न पत्रों के सेट भिन्न होते हैं।

IAS प्रारंभिक: सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा, जिसे सीसैट के नाम से भी जाना है इसके अंतर्गत पेपर शामिल होते हैं।

  1. जनरल स्टडीज
  2. जनरल एप्टीट्यूड

IAS प्रारंभिक परीक्षा को हल करने के लिए आवंटित कुल समय 4 घंटे का होता है और इस निर्धारित समय-सीमा में 200 प्रश्नों के हल करना होगा।

RPSC RAS प्रारंभिक परीक्षा: इसमें केवल एक पेपर होता है जिसमें जनरल स्टडीज़ और जनरल एप्टीट्यूड के प्रश्न शामिल होते हैं। RPSC RAS प्रारंभिक परीक्षा को हल करने के लिए आवंटित कुल समय 3 घंटे का होता है और इस तय समय सीमा के अंतर्गत 150 प्रश्नों को हल करना होगा।

इसके अतिरिक्त, RAS प्रारंभिक परीक्षा में पूछे जाने वाले अधिकतर प्रश्न विशेषकर राज्य पर आधारित होते हैं। इतिहास, भूगोल, राजनीति और अर्थव्यवस्था से प्रश्न पूछे जायेंगे और विशेषकर राजस्थान का इतिहास, राजस्थान का भूगोल, राजस्थान की राजनीति और राजस्थान की अर्थव्यवस्था से प्रश्न पूछे जायेंगे।

आइये, अब अपना ध्यान RPSC RAS और UPSC सिविल सेवा की मुख्य परीक्षा पर अपना ध्यान केंद्रित करते हैं। मुख्य अंतर इस प्रकार हैं:

  • UPSC सिविल सेवा परीक्षा में, एक अलग निबंध पेपर होता है। RPRC RAS परीक्षा में ऐसा कोई पेपर नहीं होता है।
  • UPSC सिविल सेवा परीक्षा में, इंग्लिश और चुनी गयी क्षेत्रीय भाषा के लिए अलग-अलग क्वॉलीफाइंग पेपर होते हैं जबकि RPSC RAS परीक्षा में, 200 अंक का केवल एक ही पेपर होता है जिसमें हिंदी के 120 अंक और इंग्लिश के 80 अंक होते हैं।
  • UPSC सिविल सेवा परीक्षा में, जनरल स्टडीज़ के चार पेपर होते हैं जसमें प्रत्येक के लिए 250 अंक निर्धारित होते हैं। RPSC RAS परीक्षा में, केवल तीन पेपर होते हैं जिसमें प्रत्येक के लिए 200 अंक निर्धारित होते हैं।
  • UPSC सिविल सेवा परीक्षा में, चयनित वैकल्पिक विषय के दो पेपर होते हैं जबकि RPRC RAS परीक्षा में ऐसा कोई पेपर नहीं होता है।
  • RAS परीक्षा में, GS मुख्य पेपर में गणित, रीज़निंग और सांख्यिकी विषयों के प्रश्न शामिल होते हैं जबकि UPSC CSE में ऐसा कुछ नहीं होता है।

हम उम्मीद करते हैं कि यह लेख RPSC RAS और UPSC सिविल सेवा परीक्षा के परीक्षाओं के प्रकार को समझने में आपकी सहायता करेगा।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.