RRB ALP साइको टेस्ट 2019: महत्वपूर्ण बातें जो आपको सफल बनाएंगी !

RRB ALP (सहायक लोको पायलट) स्टेज 2 में सफल रहने वाले सभी उम्मीदवारों को
सहायक लोको पायलट (ALP) पद के लिए अब RRB ALP स्टेज 3 (साइको टेस्ट) से गुजरना होगा। RRB ALP स्टेज 3 (साइको टेस्ट) परीक्षा 10 मई 2019 को आयोजित किया जाना है। ऐसे में सभी उम्मीदवार अपनी पूरी एनर्जी से परीक्षा कि तैयारी में जुटे होंगे।

इस लेख के माध्यम से हम आपको RRB ALP स्टेज 3 (साइको टेस्ट) के विषय में बताएँगे। और आपको साइको टेस्ट के विषय में जागरूक करेंगे। यह अंतिम स्टेज कि परीक्षा है और इस वर्ष रेलवे में सरकारी नौकरी (ALP) पानें के लिए इसे पास करना जरुरी है।

RRB ALP साइको टेस्ट परीक्षा 2018: महत्वपूर्ण बातें जो आपको जाननी चाहिए !

आपको RRB ALP स्टेज 3 (साइको टेस्ट) के तहत निर्धारित पांच, छह परीक्षणों से युक्त टेस्ट बैटरी प्रदान किया जायेगा। यह परीक्षण आयोग को यह समझने में मदद करता है की आपकी वांछित पद के लिए सजगता कितनी है। जो लोग टेस्ट में अच्छा परफॉर्म करते हैं वे आमतौर पर नौकरी में ही
परफॉर्म करते हैं। आपको टेस्ट बुकलेट में दिए गए सवालों के जवाब देने और ओएमआर उत्तर पत्रक पर प्रतिक्रियाओं को चिह्नित करने की आवश्यकता होगी। कंप्यूटर आधारित एप्टीट्यूड टेस्ट का उत्तर देते समय निम्नलिखित बिंदुओं को याद रखें-

  • आपको उत्तर पुस्तिका पर नीले/काले बॉल पॉइंट पेन का उपयोग करके गोलों को पूरी तरह से काला करके उत्तर को चिह्नित करना होगा।
  • याद रखें कि आपको एक बार दिए गए उत्तर को बदलने की अनुमति नहीं होगी। अतः अगर आपने किसी उत्तर के लिए, यदि एक से अधिक सर्कल छायांकित कर दिया, तो उसका मूल्यांकन नहीं किया जाएगा।
  • शीट पर किसी भी प्रकार का कोई अन्य निशान/मार्क न अंकित करें।
  • आपकी ओएमआर उत्तर पत्रक में आपके रोल नंबर, अभ्यास समस्याओं के उत्तर, टेस्ट आईडी और प्रत्येक परीक्षा के लिए टेस्ट कोड लिखने और उत्तर प्रदान करने के लिए निर्धारित स्थान है।
  • परीक्षण बैटरी के प्रत्येक परीक्षण का उत्तर देने के लिए अलग स्थान है। अभ्यास परीक्षणों के लिए स्थान भी अलग से दिया गया है। केवल सही जगह पर अपने उत्तरों को अंकित करने में विशेष सतर्क रहें।
पाएं रेलवे परीक्षा के सभी टेस्ट अगले 3 महीने के लिए TyariPLUS के साथ।
अभी TyariPLUS अनलॉक करें और रेलवे परीक्षा के उपलक्ष्य में 15% छूट का लाभ उठाएं
TyariPLUS

परीक्षा निम्न क्रम में कई प्रारूपों में आयोजित की जाती है-

टेस्ट 1: दिमागी परीक्षा (Memory Test)
टेस्ट 2: दिशा परीक्षण (Following Direction Test)
टेस्ट 3: गहराई धारणा परीक्षण (Depth Perception Test)
टेस्ट 4: एकाग्रता परीक्षण (Concentration Test)
टेस्ट 5: अवधारणात्मक गति परीक्षण (Perceptual Speed Test)

आइए अब हम इनके विषय में विस्तार से जानकारी प्राप्त करते हैं-

1. दिमागी परीक्षा (Memory Test)

दिमागी परीक्षा के तहत मुख्यतः पांच प्रकार के प्रश्न पूछे जाते हैं-1. फिगर पोजीशन टेस्ट, 2. रेलवे ट्रैक मेमोरी टेस्ट, 3. फिगर फाइंडिंग (खोज) टेस्ट, 4. फिगर और नंबर मेमोरी टेस्ट, 5. फिगर मेमोरी टेस्ट।
टेस्ट का लक्ष्य उम्मीदवारों की याददास्त क्षमता का विश्लेषण करना है। इस परीक्षण में 24 प्रश्न 2 सेट में पूछे जायेंगे। प्रत्येक सेट का उत्तर देने के लिए उम्मीदवारों को 4 मिनट समय प्रदान किया जायेगा। प्रत्येक सेट 2 पेज का होगा। पहला पेज मेमोरी पेज होगा जिसमें 12 चित्र/आकृतियाँ अलग-अलग स्थान पर अंकित होंगी। उम्मीदवारों को उनके स्थान को 2 मिनट में हुबहू अपने दिमाग में बैठाना होगा और अगले दो मिनट में आपको उनके विषय में पूछे गए प्रश्न के उत्तर अंकन करने होंगे।

2. दिशा परीक्षण (Following Direction Test)

दिशा परीक्षण टेस्ट को टेबल/वाच (घड़ी) टेबल टेस्ट भी कहते हैं। टेबल टेस्ट के तहत दो प्रकार के प्रश्न पूछे जाते हैं-1.टेबल टेस्ट/रो-कॉलम टेस्ट। इस परीक्षा में आपको देखने के लिए अक्षरों का एक पैटर्न दिया जाएगा और उनसे पूछा जाएगा कि उस पैटर्न में कुछ दिशाएँ कैसे बदलेंगी। प्रत्येक प्रश्न का उत्तर पैटर्न में अक्षरों में से एक होगा। टेबल पर आधारित 10 प्रश्न पूछे जाते हैं जिनके हल के लिए उम्मीदवारों को 5 मिनट का समय प्रदान किया जाता है। इसमें रो और कॉलम में अल्फाबेट होते हैं उनकी पोजिशनिंग स्मरण कर उत्तर देने होते हैं।

वाच टेबल टेस्ट के तहत 20 प्रश्न पूछे (2 क्लॉक/घड़ी से) जाते हैं जिनके हल के लिए उम्मीदवारों को 10 मिनट में प्रदान करना होता है। क्लॉक के विभिन्न दिशाओं में अल्फाबेट और नुमेरिक का अंकन किया जाता है। जिनकी पोजिशनिंग स्मरण कर उत्तर देने होते हैं।

3. गहराई धारणा परीक्षण (Depth Perception Test)

गहराई धारणा टेस्ट को (ब्रिक टेस्ट) भी कहा जाता है। इस टेस्ट में न्यूनतम 8 और अधिकतम 12 ब्रिक संरचना से प्रश्न पूछे जाते हैं। सभी ब्रिक संरचना में, कोई 5 ब्रिक को A, B, C, D और E का नाम दे दिया जाता है। परीक्षा में एक सामान ब्रिक कि संख्या और अन्य ब्रिक से सम्बन्ध आधारित प्रश्न पूछे जाते हैं। आपको ईंटों (ब्रिक) का ढेर दिखाई देगा आपका काम उन ईंटों की संख्या की गणना करना है जो ढेर के ईंटों को छू रहे हैं। इस टेस्ट के तहत 50 प्रश्न पूछे जाते हैं जो 10 उप-प्रश्नों में विभाजित होते हैं। प्रत्येक उप-प्रश्न में 5 प्रश्न होते हैं।

4. एकाग्रता परीक्षण (Concentration Test)

एकाग्रता परिक्षण के तहत नंबर मैच/डिजिट मैच/ सेम (समान) फिगर टेस्ट आधारित प्रश्न पूछे जाते हैं। यह परिक्षण यह पता लगाने के लिए एक परीक्षण है कि आप कितनी जल्दी दो नंबरों की तुलना कर सकते हैं और यह तय कर सकते हैं कि वे समान हैं या नहीं। टेस्ट में तीन प्रकार के प्रश्न हो सकते हैं-1. यस/नो टेस्ट: 96 प्रश्न, समय 4/5 मिनट; 2. डिजिट सर्च टेस्ट (संख्या खोजना): 75 प्रश्न, समय 4/5 मिनट; 3. सेम फिगर मैचिंग (समान आकृति का मैच): 96 प्रश्न, समय 4/5 मिनट। इनमें से परीक्षा में किसी भी एक प्रकार का प्रश्न पूछा जा सकता है।

5. अवधारणात्मक गति परीक्षण (Perceptual Speed Test)

अवधारणात्मक गति परिक्षण के तहत समानता परिक्षण/समान आकृति चयन परिक्षण किया जाता है। इस टेस्ट के परिक्षण का उद्देश्य उम्मीदवारों कि बौद्धिक और दृष्टि क्षमता का आंकलन करना होता है। यह एक परीक्षण है कि आप कितनी तेजी से और सही तरीके से वस्तुओं को देख सकते हैं और उनका मिलान कर सकते हैं। इस टेस्ट के तहत 72 प्रश्न पूछे जाते हैं जिनको 18 उप-प्रश्नों में विभाजित कर पूछा जाता है। प्रत्येक उप-प्रश्न में 4 प्रश्न (A, B, C और D) होते हैं। सभी प्रश्नों को हल करने के लिए 6 मिनट प्रदान किए जाते हैं।

टिप्पणी :

1. यहां दिए परीक्षणों के नाम केवल मार्गदर्शन हेतु है। परीक्षण को बिना पूर्व सूचना के बदला भी जा सकता है।
2. प्रत्येक परीक्षण की अलग-अलग समयसीमा निर्धारित है। जो आपको परीक्षण सत्र के दौरान सूचित कर दी जाएगी। आपको निर्धारित समय के भीतर ही परीक्षण के तहत दी गई समस्याओ को हल करना है तथा अपने उत्तर चिन्हित करने है।

बेहतर अंक कैसे प्राप्त करें 

  • रात भर नही जागें। सुनिशचित करे रात में अच्छी नींद सोये।
  • परीक्षण स्थल पर उपर्युक्त समय पर पहुँच जाएं ताकि आपको अतिरिक्त आपको अतिरिक्त भाग-दौड़ न करनी पड़े।
  • परीक्षा के दौरान निर्देशो को ध्यानपूर्वक सुने।
  • परीक्षा में ठीक वही करे जैसा आपको कहा जाए।
  • प्रश्न पूछने में संकोच न करे।
  • प्रत्येक प्रश्न का उत्तर सोच-विचार कर दे।
  • जल्दी से और सही-सही कार्य करे क्योकि अधिकांश परीक्षणों की समय-सीमा बहुत कम है।
  • कठिन प्रश्नों पर समय नष्ट न करे।
  • अपने पड़ोसी के उत्तरों की नकल न करे क्योकि उसकी परीक्षण पुस्तिका आपसे भिन्न होगी।

आशा है आपको यह लेख पसंद आया होगा और यह लेख RRB ALP परीक्षा के लिए साइको टेस्ट को समझने में मदद करेगा कि प्रश्नों कि प्रकृति क्या होगी? तो तैयारी में जुटे रहें और सफलता प्राप्त कर ही दम लें। इस लेख को लाइक करना, शेयर करना और कमेंट करना न भूलें।

ALP परीक्षा की अंतिम सीढ़ी से न लौटे वापस, करें भरपूर तैयारी और प्रैक्टिस ! इस बार करें रेलवे पार और जॉइन करें सरकारी जॉब !

TyariPLUS

3 REPLIES

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.