SBI Clerk Vs IBPS Clerk – नौकरी, वेतन एवं करियर की तुलना

2
13250
SBI-Clerk-vs-IBPS-Clerk-Job-Description-Salary-Career-Comparison

SBI Clerk Vs IBPS Clerk: बैंकिंग क्षेत्र हमेशा से ही लाखों उम्मीदवारों को क्लर्क, प्रोबेश्नरी अधिकारी, मैनेजमेंट ट्रेनी या स्पेशलिस्ट ऑफिसर के रूप में पेशेवर करियर को आगे बढ़ाने में आकर्षित करता रहा है। क्या आप बैंकिंग में करियर बनाने में रुचि रखते हैं? हमारा यह लेख नौकरी संबंधी तुलना को लेकर है, जिसमें हम SBI Clerk और IBPS Clerk के जॉब प्रोफाइल, जिम्मेदारियों, वेतनमान, भत्तों, काम के माहौल और करियर में प्रगति से संबंधित एक विस्तृत विश्लेषण प्रस्तुत कर रहे हैं। अगर आप क्लर्क के रूप में करियर के बारे में सोच रहे हैं, तो SBI Clerk Vs IBPS Clerk से संबंधित इस लेख को अच्छी तरह से पढ़ें।

इस लेख के माध्यम से, हम आपको SBI Clerk और IBPS Clerk में करियर बनाने के लिए दोनों के बीच एक बुनियादी फर्क बताना चाहते हैं। यह लेख विभिन्न तुलनात्मक पैमाने पर आपको तैयार करने और बैंकिंग उद्योग में अपनी पसंद का करियर बनाने की दिशा में आगे बढ़ने में आपकी मदद कर सकता है।

 

SBI Clerk vs IBPS Clerk – नौकरी प्रोफ़ाइल

आइये हम IBPS Clerk और SBI Clerk के नौकरी विवरण के बारे में विस्तार से बात करके तुलनात्मक स्केल पर चर्चा से शुरुआत करते हैं। इससे हमें दोनों नौकरियों के साथ जुड़ी आधारभूत जिम्मेदारियों और कार्यों को समझने में मदद मिलेगी।

SBI Clerk नौकरी विवरण – प्रमुख कार्य और कर्तव्य

SBI Clerk ने इस साल चयन के पैटर्न में कुछ परिवर्तन कर दिए हैं। सबसे पहले, अब तक इसे SBI जूनियर एसोसिएट भर्ती परीक्षा कहा जाता है। चयन प्रक्रिया के तहत प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा शामिल है। साक्षात्कार के बारे में अभी भी कुछ तय नहीं है।

SBI के क्लर्क का मुख्य उद्देश्य / नौकरी की भूमिका में विभिन्न बैंकिंग प्रक्रियाओं के माध्यम से मार्गदर्शन और ग्राहकों, नागरिकों तथा संभावित ग्राहकों की सहायता करना शामिल है। उन्हें उच्च प्रशिक्षित होकर प्रत्येक सवालों का जवाब देने के लिए आश्वस्त रहने की ज़रूरत होती है। उनके लिए नौकरी संबंधी कार्यों के विभिन्न सेट इस प्रकार हैं।

  • दस्तावेज़ सत्यापन
  • सिंगल विंडो काउंटर का प्रबंधन
  • काउंटर्स पर नकद प्राप्तियां
  • वर्नाकुलर हस्ताक्षर का सत्यापन
  • सरकारी खजाने से संबंधित काम
  • अनुरोध के अनुसार चेकों की क्लियरिंग और उन्हें ट्रांसफर करना
  • पासबुक अपडेट करना

IBPS Clerk नौकरी विवरण – प्रमुख कार्य और कर्तव्य

एक IBPS Clerk की भर्ती प्रक्रिया के तहत केवल लिखित परीक्षा निर्धारित की गई है। इसमें एक प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा का आयोजन किया जाएगा और मुख्य परीक्षा में अर्जित किए गए अंकों के आधार पर मेरिट सूची तैयार की जाएगी।

SBI के एक क्लर्क की नौकरी प्रोफ़ाइल की भांति, IBPS Clerk का जॉब प्रोफ़ाइल भी लगभग समान ही है।

  • दस्तावेज सत्यापन
  • सिंगल विंडो काउंटर का प्रबंधन
  • काउंटर्स पर नकद प्राप्तियां
  • वर्नाकुलर हस्ताक्षर का सत्यापन
  • सरकारी खजाने से संबंधित कार्य
  • अनुरोध के अनुसार चेकों की क्लियरिंग और उन्हें ट्रांसफर करना
  • पासबुक अपडेट करना

लिपिकीय संवर्ग (Clerical cadre) के कर्तव्यों के अलावा, कृषि सहायक के तौर पर एक क्लर्क अपने कर्तव्यों के रूप में कृषि से संबंधित मुद्दों पर काम करता है।

 

SBI Clerk Vs IBPS Clerk – वेतनमान

किसी भी नौकरी में एक कर्मचारी के लिए वेतन, वेतनमान और भत्ता बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। हालांकि, SBI Clerk और IBPS Clerk वेतन तुलना के मामले में यह उतना महत्वपूर्ण नहीं हो सकता, जितना आप सोचते हैं।

इसका मुख्य कारण यह है कि IBPS Clerk और SBI Clerk के वेतनमान लगभग एकसमान हैं। लिपिक संवर्ग (Clerical cadre) के लिए वेतनमान इस प्रकार है।

रुपये/- 11765 – (655 × 3) – 13730 – (815 × 3) – 16175 – (980 × 4) – 20095 – (1145 × 7) – 28110 – (2120 × 1) – 30,230 – (1310 × 1) – 31540

इस वेतनमान का मतलब हुआ :

  • 11,765 रु/- मूल वेतन है।
  • 3 साल के लिए सालाना व लगातार 655 रु/- तय वेतन वृद्धि जिससे मूल वेतन बढ़कर 13730 रुपये हो जाएगा और साथ ही पद भी बढ़ेगा।

वेतनमान का इस तरीके से भी विश्लेषण किया जा सकता है। भत्ते इस प्रकार हैं:

  • महंगाई भत्ता (बेसिक का 39.4%)
  • HRA जो कि शहर पर निर्भर करता है (बेसिक का 7-9%)
  • विशेष भत्ता (क्लर्क के लिए 7.5%)

SBI Clerk और IBPS Clerk दोनों के लिए पे-बैंड समान ही है और यह आम तौर पर 18,100 – 19,800 रुपये प्रति माह रुपये तक होता है।

भारतीय स्टेट बैंक में अतिरिक्त लाभ यह है कि यह अपने कर्मचारियों को लगभग 2000 रुपये / महीने की राशि का अतिरिक्त भत्ता प्रदान करता है। इस कारण वेतन बढ़कर 20,100 – 21,800 रुपये तक हो जाता है।

इसके अलावा वेतन में एक अन्य अंतर और है। और वह है इन-हैंड वेतन में समय-समय पर वृद्धि। इस कारण से IBPS के अंतर्गत आने वाले सभी सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के क्लर्कों का वेतन लगभग 50,000 प्रति माह और भारतीय स्टेट बैंक में कार्यरत क्लर्कों के लिए यह उनके रिटायरमेंट तक बढ़कर 54,000 – 55,000 रुपये प्रति माह तक हो सकता है।

 

SBI Clerk vs IBPS Clerk – कार्य का माहौल

SBI Clerk और IBPS Clerk दोनों के नौकरी प्रोफाइल और वेतन से अब आप परिचित हैं। इस मामले में SBI को केवल हल्की सी बढ़त है। अब इस सेक्शन में हम SBI Clerk और IBPS Clerk संबंधी सामान्य काम के माहौल पर चर्चा करेंगे। इनके बीच के अंतर को समझना आपके लिए भी बेहद ज़रुरी है।

IBPS Clerk कार्य संस्कृति

एक क्लर्क के रूप में आपको कई कार्य आवंटित किए जाएंगे जोकि समय आधारित हो सकते हैं। इसलिए शुरू में आप काम के बोझ के दबाव को महसूस कर सकते हैं। लेकिन कुछ ही समय में आप आसानी से काम के समय को समायोजित कर काफी आरामदायक स्थिति बनाने में कामयाब हो जाएंगे। काम के घंटे तय हैं और आप अपने सामान्य काम के घंटे के अनुसार ऑफिस छोड़ सकते हैं।

SBI Clerk कार्य का माहौल

भारतीय स्टेट बैंक के मामले में आपको लंबे समय तक एक चुनौतीपूर्ण दिन के लिए तैयार रहना होगा। याद रखें कि SBI क्लर्क को अतिरिक्त वेतन मिलता है? वह अतिरिक्त वेतन इसी चुनौती के लिए है।

दैनिक आधार पर आपको कई कार्य सौंपे जाएंगे। अधिकांश लोग कुछ ही महीनों में तेज़ गति से काम करने के आदी हो जाते हैं।

इसलिए, काम के दबाव के मामले में, भारतीय स्टेट बैंक में क्लर्क के रूप में करियर अधिक चुनौतीपूर्ण होगा। अब हम अपने अंतिम सेक्शन की ओर रुख करते हैं। यह सबसे महत्वपूर्ण साबित हो सकता है। भविष्य में एक नौकरी से हम क्या देखते हैं? आइये जानते हैं।

 

SBI Clerk vs IBPS Clerk – करियर की संभावना

सबसे पहले SBI क्लर्क के बारे में बात करते हैं। यहां करियर की संभावनाओं में नौकरी पदोन्नति, लाभ, कम से कम समय में प्रोन्नति और नौकरी कौशल शामिल है।

बैंक क्लर्क की प्रोबेशन अवधि आम तौर पर छह महीने की होती है। क्लर्कों को काम के 3-4 साल के बाद ही अधिकारी संवर्ग में पदोन्नति पाने का अवसर दिया जाता है। भारतीय स्टेट बैंक की बात करें तो 3-4 साल के बाद एक क्लर्क प्रशिक्षु अधिकारी के रूप में पदोन्नति प्राप्त कर सकता है। एक बार जब आपने पदोन्नति पा ली, तो आप एक प्रोबेश्नरी ऑफिसर के लगभग बराबर हो जाते हैं।

34000 सरकारी नौकरी के लिए 31 अक्टूबर तक करें आवेदन !

34000 सरकारी नौकरी के लिए 31 अक्टूबर तक करें आवेदन !

एक ही बैंक में 20-25 साल काम के अनुभव के बाद एक क्लर्क वरिष्ठ प्रबंधन के पद तक पहुंच सकता है। हालांकि बैंक क्लर्क के लिए स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में काम करना किसी अन्य सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की तुलना में अधिक अवसर प्रदान करता है। इसे ऐसे देखें : IBPS क्लर्क के 60% से अधिक सफल उम्मीदवार SBI क्लर्क भर्ती परीक्षा देते हैं।

 

SBI Clerk Vs IBPS Clerk – अंतिम फैसला

हमने विभिन्न मापदंडों पर दोनों जॉब प्रोफाइल के अनुसार दोनों के करियर से जुड़े अवसरों की तुलना की है। भारतीय स्टेट बैंक और IBPS क्लर्क दोनों नौकरी के बारे में आम तथ्य इस प्रकार हैं:

  1. दोनों में अधिकतम क्लर्क संबंधी काम ही शामिल होता है। आपको डेस्क जॉब ही करना है।
  2. नौकरी जाने या सस्पेंड होने की संभावना बहुत ही कम है। नौकरी स्थायी है।
  3. एक बैंक क्लर्क के पास विभागीय परीक्षा के माध्यम से पदोन्नत होने की अपार संभावनाएं होती हैं। यह भारतीय स्टेट बैंक के साथ-साथ लगभग हर सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों पर लागू है।

इस लेख के सभी तथ्यों और आंकड़ों के विश्लेषण के अनुसार, अब हम निष्कर्ष निकाल सकते हैं कि

  • अगर आपको अतिरिक्त काम के दबाव के साथ अधिक वेतन पाने एवं नौकरी के हस्तांतरण के साथ समझौता करने में कोई आपत्ति न हो तो, करियर बनाने के लिए SBI क्लर्क की दिशा में आगे बढ़ें।
  • अगर आप सीमित मात्रा में काम के दबाव और कर्तव्यों के साथ ठीक-ठाक वेतन चाहते हैं तो करियर बनाने के लिए IBPS क्लर्क की दिशा में आगे बढ़ें।

हम उम्मीद करते हैं कि SBI Clerk vs IBPS Clerk के तुलनात्मक विश्लेषण के माध्यम से आपको अपने करियर को चुनने में मदद मिलेगी। अन्य किसी सवाल का जवाब पाने के लिए नीचे के कॉमेंट सेक्शन में उसका उल्लेख करें।

2 COMMENTS

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.