SBI PO जॉब प्रोफ़ाइल, पे-स्केल, भविष्य की संभावनाएं

0
1842
SBI PO जॉब प्रोफ़ाइल, पे-स्केल, भविष्य की संभावनाएं

SBI PO जॉब प्रोफ़ाइल, पे-स्केल, भविष्य की संभावनाएं : SBI, जिसे भारतीय स्टेट बैंक के रूप में भी जाना जाता है, यह एक पब्लिक सेक्टर बैंक है जिसमें SBI द्वारा आयोजित  SBI PO परीक्षा में सफल रहने वाले उम्मीदवार शामिल हो सकते हैं। अंतिम चयन पाने और पद के दावेदारी के लिए उम्मीदवारों को लिखित तीन फेज परीक्षा दौर से गुजरने और मेधा सूची (मेरिट लिस्ट) में शीर्ष स्थान पर आने की आवश्यकता होती है।

वर्ष 2018 के लिए SBI ने 2000 रिक्त पदों की अधिसूचना जारी की हैं। जिसके लिए उम्मीदवार 13 मई तक आवेदन कर सकते हैं। आज इस लेख के माध्यम से उम्मीदवार SBI PO की जॉब प्रोफ़ाइल, भूमिका और ज़िम्मेदारियों, पे-स्केल, भविष्य में संभावनाएं, विकास के अवसर आदि के विषय में जान पाएंगे। SBI PO परीक्षा के लिए आवेदन करने वाले सभी उम्मीदवारों को इस जानकारी से अवश्य अवगत होना चाहिए।

 

भारतीय स्टेट बैंक में प्रोबेशनरी अधिकारी (PO) के रूप में कैसे भर्ती होते हैं

आइए अब हम इस बात को समझते हैं कि उम्मीदवार SBI PO पद पर भर्ती कैसे होती है। साथ ही, उसकी भूमिका और कर्तव्य, आय और उसके भविष्य की संभावनाएं क्या होती हैं।

SBI में प्रोबेशनरी अधिकारी के रूप में भर्ती होने के लिए प्रत्येक उम्मीदवार को 3 फेज की चयन प्रक्रिया से होकर गुज़रना पड़ता है। चयन के ये 3 फेज इस प्रकार हैं:

  1. प्रारंभिक लिखित परीक्षा (वस्तुनिष्ठ)
  2. मुख्य लिखित परीक्षा (वस्तुनिष्ठ और वर्णात्मक)
  3. सामूहिक परिचर्चा और साक्षात्कार

SBI PO भर्ती परीक्षा 2018 के परीक्षा पैटर्न में कुछ बदलाव किए गए हैं तो वर्ष 2018 की परीक्षा में सम्मिलित होने वाले उम्मीदवार हुए परिवर्तन को अवश्य जान लें।

SBI PO मुख्य परीक्षा, सामूहिक अभ्यास और साक्षात्कार में प्राप्त अंकों की गणना के आधार पर ही अंतिम मेरिट सूची तैयार की जाती है। प्रारंभिक परीक्षा सिर्फ़ क्वॉलिफ़ाइंग है। अंतिम मेरिट सूची में आपका नाम / रोल नं. होने पर उम्मीदवार भारतीय स्टेट बैंक में भर्ती के लिए योग्य होते हैं।

SBI PO जॉब प्रोफ़ाइल: भूमिका और ज़िम्मेदारियां

SBI PO भर्ती प्रक्रिया को पार करने में सक्षम हो जाते हैं, तो आप सर्वप्रथम 2 वर्षीय प्रोबेशन काल में बैंकिंग सेवा प्रदान करते हैं। इस दौरान आप PO की भूमिका और सभी ज़िम्मेदारियों को विस्तार से समझते हैं। उके लिए PO ही अंतिम पड़ाव नहीं है, जो उच्च वृद्धि करना चाहते हैं और सम्मानित अधिकारी पद प्राप्त करना चाहते हैं। जैसे-जैसे उम्मीदवार अपनी सेवा में समय के साथ बढ़ते रहते हैं वैसे-वैसे विभाग में प्रमोशन का प्रावधान और भविष्य की वृद्धि काफी उज्ज्वल है। आपको ये समझना होगा कि एक SBI PO भविष्य की सीढियां चढ़ता है, और कई उच्च पदों को संभालता है बशर्ते कि उसका प्रदर्शन अच्छा हो। SBI प्रोबेशनरी अधिकारी की कुछ भूमिका और ज़िम्मदारियां इस प्रकार हैं:

ग्राहक सेवा: बैंकिंग उद्योग में ग्राहक सेवा, एक महत्वपूर्ण और व्यापक कॉन्सेप्ट है। बैंकिंग व्यवसाय सिर्फ़ ग्राहकों पर निर्भर करता है। इसीलिए, एक अधिकारी के लिए ग्राहक सेवा को सुनिश्चित करना अत्यंत महत्वपूर्ण है। सम्बंधित शाखाओं के लिए, PO को ग्राहकों से संबंधित मामलों को लागू करने का आदेश मिलता है जैसे – लोन, नया खाता खुलवाने के लिए, ATM सेवा, जमा, चेक बुक, क्रेडिट कार्ड और ऑनलाइन बैंकिंग आदि।

नया व्यवसाय जोड़ें: बैंकिंग प्रणाली में PO और अधीनस्थ कर्मचारी ग्राहकों से सीधे संवाद स्थापित करते हैं, इसीलिए बैंक के विभिन्न उत्पादों का प्रचार करने की ज़िम्मेदारी भी प्रोबेशनरी अधिकारी की ही है। इन उत्पादों में आवर्ती जमा, इंश्योरेंस नीतियों, फ़ंड्स, क्रेडिट कार्ड, लोन इत्यादि शामिल हैं। शुरूआत में, इन उत्पादों को बेचने के लिए PO पर कोई दबाव नहीं होता लेकिन जैसे ही वे अपनी नौकरी में अनुभव और कार्य-वर्ष व्यतीत करते हैं तब उन्हें बैंकिंग उत्पादों की पहुँच स्थापित करने की अंतिम तिथि के साथ जिम्मेदारी प्रदान की जाती है।

कैश हैंडलिंग: एक PO के रूप में, आपको कैश संबंधी मामले भी संभालने पड़ते हैं जैसे कैश संवितरण और कैशियर से कैश एकत्रित करना। अत्यधिक कार्य के दबाव में, आपको क्लेरिकल ज़िम्मेदारियां भी निभानी पड़ेंगी। एक अधिकारी के रूप में, ATM मशीनों में कैश डलवाने के लिए भी आप ही ज़िम्मेदार होते हैं।

भुगतान मंजूरी: एक अधिकारी के रूप में, आपको कुछ कैश निकासी के लिए भी चेक निकासी अनुमति प्रदान करनी होती है, प्रायः यह DD, NEFT/RTGS के रूप में एक निश्चित राशि के उपरांत ही होती है।

रिपोर्ट तैयार करना: कोई भी असंतुलन ना हो, इसके लिए आपको प्रत्येक दिन का कार्य प्रतिदिन बंद करना होगा। अधिकारियों पर रिपोर्ट्स तैयार करने की ज़िम्मेदारी होती है जिनमें जमा राशि, निकाली गई राशि, बहि खाते की शेष राशि आदि की जानकारी होती है।

प्रतिदिन कार्य संचालन: चूंकि PO को ही ग्राहकों से ही संवाद स्थापित करना पड़ता है, तो ये उनकी महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारी होती है कि वे अपने उत्पादों की बेहतरी के लिए नए विकास के मार्ग को प्रशस्त करते रहें। एक PO के रूप में, आपको अन्य विभागों को आधिकारिक उत्तर भी भेजने होते हैं। लेनदेन और खाते से संबंधित अन्य दैनिक रिपोर्टिंग कार्य भी बैंक PO को सौंपा जाता है। और मैंयुअल रूप से यदि आवश्यक हो तो प्रत्येक हस्तांतरण और खातों के रिकॉर्ड एक दैनिक आधार पर भी PO को सत्यापित करना होता है।

हालांकि, SBI के साथ काम करने का स्तर ही अलग होता है, बैंक द्वारा सेवित ग्राहकों की संख्या को ध्यान में रखते हुए, भूमिकाओं और ज़िम्मेदारियों का स्तर अत्यंत सहज ही लगाया जा सकता है।

SBI PO आय, लाभ और भत्ते

बैंकिंग जिम्मेदारी के एवज में उम्मीदवारों को मासिक वेतन और अतिरिक्त भत्तों का लाभ भी SBI बैंक द्वारा प्रदान किया जाता है जो काफी आकर्षक होता है। जिससे काफी अधिक संख्या में प्रतिवर्ष छात्रों द्वारा इस पद के लिए आवेदन किया जाता है। पोस्टिंग, लाभ और भत्तों के आधार पर, एक SBI PO 13.08 लाख सीटीसी प्रतिवर्ष प्राप्त कर सकता है, जो कि निश्चित ही एक अच्छी आय है। अब हम यह समझने की कोशिश करते हैं की PO की बेसिक आय, निश्चित आय, लाभ और भत्ते किस प्रकार हैं।

SBI प्रोबेशनरी अधिकारी की आय

वर्तमान में, शुरुआती बेसिक पे रु. 27,620 / – (4 अग्रिम वेतन वृद्धि के साथ) है। इस स्केल 23700-980/7-30560-1145/2-32850-1310/7-42020 के तहत जूनियर प्रबंधन ग्रेड स्केल -1 के लिए प्राप्त करेगा। उम्मीदवार आधिकारिक डीए, एचआरए / लीज किराया, सीसीए, चिकित्सा और अन्य भत्ते और समय-समय पर लागू नियमों के अनुसार अनुलाभ के लिए भी पात्र होगा। उम्मीदवारों को पोस्टिंग और अन्य कारकों के आधार पर प्रति वर्ष प्रदान की जाने वाली सीटीसी न्यूनतम 8.20 लाख रुपये और अधिकतम 13.08 लाख होगी।

  • बेसिक पे: रुपए 27620.00/-
  • मंहगाई भत्ता (DA): अनुशंसित DA बेसिक पे का 30-40 फ़ीसद है। बैंकों में, DA की समीक्षा सत्र में की जाती है और पूर्ण रूप से भारत सरकार द्वारा जारी किए हुए CPI डाटा पर आधारित होती है।
  • CCA: पोस्टिंग के स्थान के आधार पर ये 4 फ़ीसद, 3 फ़ीसद और शून्य फ़ीसद के दर पर ही चुकाई जाती है।
  • विशेष भत्ते: अधिकारियों के लिए ये 7.75 फ़ीसद के दर पर चुकाई जाती है।

इसके अलावा, यहां कुछ अतिरिक्त लाभ दिए जा रहे हैं।

  • किराए का आवास C श्रेणी में रुपए 8000 से शुरू होता है और मुंबई केंद्र में रूपए 29,500 तक निर्धारित है।
  • घर के लिए यात्रा करने में छूट / छुट्टियों के लिए किराए में छूट
  • मेडिकल सहायता स्वयं के लिए (100%) और परिवार के लिए (75%)।

इसलिए, जब आप कुल योग निकालते हैं तो समझ पाते हैं कि एक SBI PO आसानी से वर्ष में 8 से 13 लाख अर्जित कर सकता है।

SBI PO के करियर की संभावनाएं और अवसर

भविष्य के लिए किसी का चुनाव करते समय, ये अपेक्षा की जाती है कि एक उम्मीदवार को उस क्षेत्र में भविष्य की सभी संभावनाओं की जानकारी होनी चाहिए जिसमें वो जाना चाहता है। SBI PO के संदर्भ में, भविष्य का मार्ग अत्यंत विकासशील है। हालांकि, भारतीय स्टेट बैंक देश के सबसे बड़े बैंकों में से एक है और सबसे ज़्यादा लोगों को रोज़गार प्रदान करता है फिर भी इसमें प्रत्येक 3-4 वर्ष में प्रमोशन होता है। भविष्य का मार्ग इन क्षेत्रों में प्रशस्त किया जा सकता है –

  1. प्रोबेशनरी अधिकारी (असिस्टेंट मैनेजर, JMGC I)
  2. डिप्टी मैनेजर (MMGS II)
  3. मैनेजर (MMGS III)
  4. मुख्य मैनेजर (SMGS IV)
  5. AGM (SMGS V)
  6. DGM (TEGS VI)
  7. GM (TEGS VII)

विदेश में पोस्टिंग जैसे भी कई अवसर हैं, जहां एक अधिकारी लाभ और भत्तों के अलावा ज़्यादा आनंद ले पाता है। लेकिन, हम आपको फिर भी यह बताना चाहेंगे कि बैंकिंग नौकरी आसान नहीं होती।

आपको सजग, सावधान और प्रतियोगी होना होगा ताकि आप बैंकिंग की दुनिया में आगे बढ़ सकें। यदि आप इस चुनौती को स्वीकार करने वालों में से हैं, तो हम आपको भारतीय स्टेट बैंक में प्रोबेशनरी अधिकारी के रूप में भर्ती होने के लिए शुभकामनाएं देते हैं।

SBI PO भर्ती परीक्षा 2018 से संबंधित अधिक जानकारी के लिए हमसे जुड़े रहें। बैंक की परीक्षाओं में उत्कृष्टता हासिल करने के लिए सर्वश्रेष्ठ SBI PO परीक्षा तैयारी एप नि:शुल्क डाउनलोड करें।

Best Government Exam Preparation App OnlineTyari

NO COMMENTS

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.