SBI PO Vs IBPS PO: जॉब, सैलरी और करियर की तुलना

SBI PO Vs IBPS PO: जॉब, सैलरी और करियर की तुलना- स्टेट बैंक ऑफ इंडिया भारत का सबसे बड़ा सार्वजनिक क्षेत्र का बैंक है। SBI में नौकरी प्राप्त करना उम्मीदवारों के लिए अपने सपने को सच करने के जैसा होता है। पिछले साल से भारतीय स्टेट बैंक ने प्रोबेशनरी ऑफिसर की भर्ती के लिए ऑनलाइन परीक्षा का संचालन करना शुरू कर दिया है। इस परीक्षा के तीन स्तर होते हैं: प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार। इसके अलावा हर बैंक पीओ उम्मीदवार के लिए दूसरी सबसे महत्वपूर्ण परीक्षा IBPS PO की होती है। हर साल बैंकिंग कार्मिक चयन संस्थान विभिन्न सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में प्रोबेशनरी ऑफिसर की भर्ती के लिए अपनी ऑनलाइन कॉमन लिखित परीक्षा आयोजित करता है। उन उम्मीदवारों के लिए जो बैंकिंग क्षेत्र में अपने करियर का निर्माण करना चाहते हैं, दोनों परीक्षाएं बहुत ही महत्वपूर्ण होती हैं। ऐसे में हम आपके लिए SBI PO और IBPS PO की तुलना करने जा रहे हैं। यह तुलना वेतन, भत्ते, नौकरी का विवरण, करियर का विकास, फायदे एवं नुकसान के साथ-साथ काम के माहौल के आधार पर की गई है।

 

SBI PO vs IBPS PO – जॉब प्रोफाइल की तुलना

भारतीय स्टेट बैंक और किसी भी सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक में प्रोबेशनरी ऑफिसर (PO) की भूमिका लगभग एक ही है। बैंक प्रोबेशनरी ऑफिसर के हाथों में अपने विभागों के कई महत्वपूर्ण भूमिकाएं होती हैं। प्रारंभ में, प्रोबेशनरी ऑफिसर्स को कम से कम 2 वर्ष की प्रोबेशन अवधि के तहत काम करना होता है। प्रोबेशनरी ऑफिसर्स को प्रशिक्षण से गुजरना होता है। आइये हम बैंकिंग क्षेत्र से जुड़ी इस जॉब के बारे में विस्तार से समझते हैं और साथ ही काम की भूमिका और उसकी जिम्मेदारियों के बारे में स्पष्टता से समझने की कशिश करते हैं।

बैंक में प्रोबेश्नरी ऑफिसर का जॉब प्रोफाइल

ग्राहक सेवाएं: ग्राहक सेवा बहुत ही महत्वपूर्ण हैबैंकिंग उद्योग में इसका कॉनसेप्ट भी व्यापक है। बैंकिंग कारोबार ही ग्राहकों पर निर्भर करता है। इसलिए ग्राहक सेवा एक ऑफिसर के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। बैंक की शाखाओं में पीओ से ऋण के लिए आने वाले ग्राहकों, नए खाते खुलवाने वालों, एटीएम सेवाओं से संबंधी, जमा की गई राशि, चेक बुक्स, क्रेडिट कार्ड और ऑनलाइन बैंकिंग आदि की जांच पर ग़ौर करने के लिए कहा जाएगा।

नए व्यापार को जोड़ना: पीओ बैंक के प्रत्यक्ष प्रतिनिधि होते हैं। उनका संपर्क ग्राहकों के साथ होता है, ताकि वे विभिन्न बैंकिंग प्रोडक्ट्स को बढ़ावा देने की जिम्मेदारी को निभा सकें। इन प्रोडक्ट्स में आवर्ती जमा, फिक्स्ड डिपॉज़िट, बीमा नीतियां, फंड, क्रेडिट कार्ड, लोन आदि शामिल हैं। शुरुआत में इन प्रोडक्ट्स की बिक्री से जुड़ा किसी भी प्रकार का दबाव पीओ पर नहीं होता है, लेकिन जैसे-जैसे वे अपने काम में अनुभव प्राप्त करने लगते हैं, फिर धीरे-धीरे इनके लिए बैंक से जुड़े इन प्रोडक्ट्स की बिक्री के लिए लक्ष्य और समय सीमा निर्धारित हो जाती है।

कैश हैंडलिंग: एक पीओ के रूप में आपको नकदी वितरण व कैशियर से नकदी संग्रह जैसी गतिविधियों की ज़िम्मेदारी निभानी होगी। अत्यधिक काम के दबाव के समय में आपको क्लर्क के रूप में भी काम करना पड़ सकता है। एक ऑफिसर के रूप में आप एटीएम मशीनों में नकदी लोड करने के लिए भी ज़िम्मेदार हैं।

भुगतान स्वीकृति: एक ऑफिसर के रूप में आपको किसी निश्चित राशि से अधिक के चेक, डीडी(DD), एनईएफटी (NEFT)/आरटीजीएस (RGTS) को प्राधिकृत करने की आवश्यकता होगी।

रिपोर्ट बनाना: किसी भी गलती से बचने के लिए आपको दैनिक आधार पर सभी काम को ख़त्म करना होगा। जमा राशि, निकासी, बही-खाते का संतुलन आदि के लिए ऑफिसर्स को रिपोर्ट बनाने के लिए नियुक्त किया जाएगा।

डेली वर्क कम्यूनिकेशन: बतौर पीओ आपको ग्राहकों के साथ बातचीत करनी चाहिए क्योंकि यह आपके काम का बेहद ज़रुरी हिस्सा होता है। साथ ही आपके कंधों पर बैंक के प्रोडक्ट में सुधार करते रहने की प्रमुख ज़िम्मेदारी भी होती है। एक पीओ के रूप में आपको अन्य विभागों के प्रति भी उत्तरदायी बनना पड़ेगा।

 

SBI PO vs IBPS PO – वेतन की तुलना

आप इस लेख के माध्यम से SBI PO और IBPS PO के वेतन, वेतनमान और भत्तों के भुगतान के बीच के अंतर के बारे में जान जाएंगे। SBI PO और IBPS PO के वेतन इस प्रकार हैं:

IBPS PO

SBI PO

37,360-38,700 प्रतिमाह (HRA समेत) 45,000 प्रतिमाह (पोस्टिंग की जगह के आधार पर HRA मिलता है, इसलिए वेतन भिन्न हो सकता है)।

SBI PO: संशोधित/शुरुआती प्रारंभिक मूल वेतन 23700/- रुपये (चार अतिरिक्त वेतन वृद्धि भी लागू होगा) प्रति माह होगा। वेतनमान है 23700-980/7-30560-1145/2-32850-1310/7-42020 (1 जून 2015 को संशोधित वेतनमान के तहत) और आप जूनियर प्रबंधन ग्रेड स्केल-1 के कर्मचारी कहलाएंगे।

  • मूल वेतन: 27620.00 रुपये।
  • महंगाई भत्ता (DA): 2015-2016 की तिमाही के लिए संशोधित DA मूल वेतन का 39.80% है। बैंकों में DA हर तिमाही पर संशोधित किया जाता है और यह भारत सरकार द्वारा CPI के आंकड़ों पर आधारित होता है।
  • CCA: यह भुगतान किया जाता है 4%, 3% या 0% के आधार पर, जोकि पोस्टिंग के स्थान पर निर्भर करता है।
  • विशेष भत्ता: ऑफिसर्स के लिए यह 7.75% की दर से भुगतान किया जाता है।

IBPS PO: अधिकांश सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में PO के वेतन लगभग एकसमान ही होते हैं। हालांकि आपकी CTC एक बैंक से दूसरे बैंक तथा आपकी पोस्टिंग पर निर्भर करेगी। वर्तमान में PO का संशोधित मूल वेतन इस प्रकार है:

23700-(980x7)-30,560-(1145x2)-32,850-(1310x7)-42020

  • मूल वेतन: 23700 रु।
  • वार्षिक वेतन वृद्धि: 980 रुपये, जोकि 7 साल की अवधि के लिए लागू होगी।
  • महंगाई भत्ता (DA): 2015-2016 की तिमाही के लिए संशोधित DA मूल वेतन का 39.80% है। बैंकों में महंगाई भत्ता हर तिमाही के आधार पर तथा भारत सरकार द्वारा CPI के आंकड़ों पर आधारित और संशोधित किया जाता है।
  • विशेष भत्ता: नवीनतम संशोधन में एक विशेष भत्ता बैंक PO के वेतन में जोड़ा गया है। यह मूल वेतन का 7.75% है।
  • मकान किराया भत्ता: यह भत्ता बैंक PO की जगह के हिसाब से बदलता रहता है जोकि 9.0% या 8.0% या 7.0% हो सकता है, जो महानगरों, बड़े शहरों और अन्य स्थानों पर निर्भर करता है।
  • शहर प्रतिपूर्ति भत्ता: यह भी पोस्टिंग के स्थान पर निर्भर करता है जोकि या तो 4% या 3% या 0% हो सकता है।

भत्ते

भत्तों के बीच का अंतर इस प्रकार हैं:

भत्ते

राष्ट्रीयकृत बैंक

SBI

निवास

यह सुविधा HRA की जगह पर बैंक PO के लिए उपलब्ध है। कुछ स्थानों पर बैंक आवास के रूप में सरकारी बैंक निवास/लीज़ के रूप में बैंक द्वारा क्वॉर्टर प्रदान किया जाता है। लीज़ पर दिए गए क्वॉर्टर की राशि एक बैंक से दूसरे बैंक और पोस्टिंग की जगह के आधार पर बदल जाती है। लीज़ पर आवास की सुविधा, जिसमें ‘सी’ श्रेणी के शहरों में 8000 रुपये/ महीने से लेकर मुंबई में 29,500 रुपये/महीने मिलते हैं।

यात्रा भत्ता

कुछ बैंक नियत यात्रा भत्ता उपलब्ध कराते हैं जबकि दूसरे बैंक पोस्टिंग की जगह पर ऑफिसर के ख़ुद के वाहन जिसमें कार/स्कूटर शामिल हैं, उनके पेट्रोल बिलों की प्रतिपूर्ति की अनुमति देते हैं। घर से पिक करने और घर पर ड्रॉप करने की सुविधा दी जाती है।

चिकित्सकीय सहायता

एक निश्चित राशि का भुगतान बैंकों द्वारा वार्षिक तौर पर किया जाता है (संशोधित प्रतिवर्ष राशि 8000 रुपए/)। स्वयं के लिए (100%) और परिवार के लिए (75%) चिकित्सा सहायता का प्रवधान है।

निष्कर्ष निकालें तो SBI PO प्रारंभिक चरण में अतिरिक्त चार वेतन वृद्धि का भुगतान पाते हैं। इस कारण उनका कुल वेतन अन्य राष्ट्रीयकृत बैंकों की तुलना में 6000 रुपए अधिक हो जाता है। आप आसानी से वेतन अंतर के आधार पर कह सकते हैं कि कौन सा बैंक बेहतर है।

 

SBI PO vs IBPS PO- काम के माहौल की तुलना

बैंकिंग उद्योग में दोनों ही जगह काम करना प्रतिष्ठित नौकरी कहलाती है। आइये अब हम आपको काम के माहौल के बारे में बताते हैं:

SBI- काम का दबाव एवं माहौल

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया सबसे बड़े और सबसे पुराने बैंक में से एक है। इसकी शाखाएं पूरे भारत में हैं और यह इसके एटीएम काउंटर्स हर जगह उपलब्ध हैं। इसलिए स्पष्ट है कि ग्राहकों की संख्या किसी भी अन्य राष्ट्रीयकृत बैंक की तुलना में भारतीय स्टेट बैंक में ज्यादा हैं। यही स्थिति भारतीय स्टेट बैंक की शाखाओं में काम का दबाव बढ़ा देती है। भारत के सबसे पुराने बैंक के नाते भारतीय स्टेट बैंक के पास ग्राहकों की संख्या भी काफी है।

IBPS PO – काम का दवाब एवं माहौल

कुछ राष्ट्रीयकृत बैंक ग्रामीण क्षेत्रों में सुलभ नहीं हैं। यहां तक कि हम कह सकते हैं कि ये पूरे भारत में भी नहीं हैं। उनके एटीएम काउंटर्स भी हर जगह उपलब्ध नहीं हैं। इसलिए यह स्पष्ट है कि राष्ट्रीयकृत बैंकों में भारतीय स्टेट बैंक की तुलना में ग्राहकों की संख्या कम है। यही वजह उनकी शाखाओं में काम का दबाव कम होता है।

तो इस मामले में हम निष्कर्ष निकाल सकते हैं कि भारतीय स्टेट बैंक की शाखाओं में अन्य राष्ट्रीयकृत बैंकों की तुलना में काम का दबाव अधिक होता है।

 

SBI PO vs IBPS PO- करियर का विकास और प्रमोशन की तुलना

बैंकिंग उद्योग में दोनों जगहों पर करियर ग्राफ एक ही जैसा है:

  1. जूनियर प्रबंधन ग्रेड – स्केल-I: ऑफिसर
  2. मध्य प्रबंधन ग्रेड – स्केल-II: प्रबंधक
  3. मध्य प्रबंधन ग्रेड – स्केल III: वरिष्ठ प्रबंधक
  4. वरिष्ठ प्रबंधन ग्रेड – स्केल IV: मुख्य प्रबंधक
  5. वरिष्ठ प्रबंधन ग्रेड स्केल V: सहायक महाप्रबंधक
  6. शीर्ष प्रबंधन ग्रेड स्केल VI: उप महाप्रबंधक
  7. शीर्ष प्रबंधन ग्रेड स्केल VII: महाप्रबंधक

 

SBI PO vs IBPS PO– अंतिम निष्कर्ष

हमें उम्मीद है कि इस विश्लेषण से बैंकिंग उद्योग में अपना करियर बनाने से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी आपको मिल गई होगी, जो आपके भविष्य को संवारने में मदद करेगी।

आप सभी को शुभकामनाएं!

SBI और IBPS परीक्षा 2017 के बारे में अधिक जानकारी के लिए हमसे जुड़े रहें। बैंकिंग परीक्षाओं में उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए, सर्वश्रेष्ठ IBPS PO परीक्षा तैयारी ऐप नि:शुल्क डाउनलोड करें।

Best-Government-Exam-Preparation-App-OnlineTyari

अगर अभी भी आपके मन में किसी प्रकार की कोई शंका या कोई प्रश्न है तो कृपया नीचे दिए गए कमेंट सेक्शन में उसका ज़िक्र करें और बेहतर प्रतिक्रिया के लिए OnlineTyari Community पर अपने प्रश्नों को हमसे साझा करें।

2 REPLIES

    1. OnlineTyari Team Post author

      प्रति वर्ष SBI अपने विभाग में खाली पड़े पदों के अनुसार रिक्तियां निकलता है और पदों को भरने की प्रक्रिया पूरी करता है.

      Reply

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.