SSC CGL: कैसे करें इंग्लिश (English Language) की तैयारी

SSC CGL की लिखित परीक्षा में टियर-I और टियर-II दो स्तर होते हैं। टीयर-I का टेस्ट पेपर 200 वस्तुनिष्ट प्रश्नों का होता है। इसमें, सामान्य ज्ञान, क्वॉन्टिटेटिव ऐप्टिट्यूड, जनरल इंटेलिजेंस और इंग्लिश से प्रश्न पूछे जाते हैं। प्रत्येक सेक्शन से 50 प्रश्न होते हैं। टियर-II में मुख्य रूप से दो पेपर होते हैं। पहला पेपर क्वॉन्टिटेटिव ऐप्टिट्यूड का होता है, जिसमें 100 प्रश्न होंगे और दूसरा पेपर इंग्लिश का होगा, जिसमें 200 प्रश्न होंगे। परीक्षा के स्ट्रक्चर से आपको अंदाजा लग गया होगा कि SSC CGL में इंग्लिश का कितना महत्व होता है। इसी कारण से अच्छी तैयारी के लिए कड़ी मेहनत के साथ-साथ स्मार्ट ढंग से मेहनत भी बेहद ज़रूरी है। अब हम टॉपिक के अनुसार अध्ययन सामग्री को देखें ताकि बेहतर तैयारी कर सकें।

 

SSC CGL Tier I

Topic Tier I (2014) Tier I (2015)
Vocabulary 6 6
Sentence improvement 10 10
Comprehension 10 10
Sentence Correction 5 5
Error Detection 5 5
Idioms and phrases 5 5
One word substitution 7 7
Spelling mistake 2 2
Total 50 50

SSC CGL Tier II

Topic Tier II (2014) Tier II (2015)
Vocabulary 6 6
Sentence improvement 22 22
Comprehension 30 30
Sentence Correction 5 5
Error Detection 20 20
Idioms and phrases 10 10
One word substitution 12 12
Spelling mistake 3 3
Para Jumbles 20 20
Active-Passive 20 20
Close Test 25 25
Narration 27 27
Total 200 200

इंग्लिश भाषा को प्रतियोगिता परीक्षा के सबसे महत्वपूर्ण सेक्शनों में से माना जाता है। साथ ही यह सबसे अधिक स्कोरिंग सेक्शन भी माना जाता है। हालांकि इस सेक्शन में आपको स्कोर लाने के लिए कड़ी मेहनत करनी होगी। 2014 और 2015 CGL के टियर-I और टीयर-II परीक्षा के प्रश्न-पत्र का विश्लेषण करने के बाद आप आसानी से समझ सकते हैं कि आपको किस विषय पर ध्यान केंद्रित करने की ज़रूरत है। इंग्लिश भाषा रातों-रात नहीं सीखी जा सकती है, इसलिए आवश्यक है कि हम इसका अध्ययन दैनिक तौर पर करें। यहां हम SSC में इंग्लिश की तैयारी के लिए कुछ सुझाव दे रहे हैं, कृपया ध्यान दें:

 

SSC के लिए इंग्लिश की तैयारी के टिप्स

  • सबसे पहले आपको व्याकरण के नियमों को याद करने की ज़रूरत है। हालांकि अगर आप पिछले वर्ष के परीक्षा पेपरों को हल कर चुके हैं तो आपको पूरा व्याकरण पढ़ने की ज़रूरत नहीं है। ऐसे में आप आसानी से समझ सकते हैं कि SSC द्वारा किस तरह के प्रश्न पूछे जा सकते हैं।
  • स्मार्ट तैयारी का सबसे अच्छा तरीका है – पिछले वर्षों के सभी प्रश्न पत्रों को हल करें और इनका दैनिक अभ्यास करें।
  • विशेष तौर पर इस सेक्शन से आप इंग्लिश और व्याकरण के समुचित उपयोग को समझने की अपनी वास्तविक क्षमता को जान पाएंगे। इंग्लिश की अपनी समझ में सुधार लाने के लिए समाचार पत्र (द हिंदू और इकॉनमिक टाइम्स) पढ़ें और व्याकरण पर आधारित किताबों को पढ़ें।
  • समाचार पत्र, न्यूज चैनल और किताबों आदि से रोज़ाना नए शब्द सीखने की आदत डालें। इससे अपनी शब्दावली बढ़ाने में आपको मदद मिलेगी।
  • जिस एक्सरसाइज़ (विषय) का अभ्यास कर चुके हों, उन्हें दोहराते रहें। विषयों की निरंतर अभ्यास करते रहने की आदत डालें।
  • अपने कमज़ोर विषयों को पहचानें। ताकि ऐसे कठिन विषयों पर अधिक समय देकर उन पर विशेष ध्यान दिया जा सके।
  • प्रत्येक दिन विषयों का अभ्यास करने के लिए एक योजना बनाएं। दैनिक आधार पर इंग्लिश विषय के लिए कम से कम तीन घंटे समर्पित करने की कोशिश करें।
  • संक्षिप्त नोट्स द्वारा क्लास नोट्स बनाते रहने का प्रयास करें। महत्वपूर्ण शब्दों और अवधारणाओं को चिन्हित करें। सुनिश्चित करें कि आप उन्हें समझ पा रहे हों।
  • जैसा कि आप सभी जानते हैं कि समय प्रबंधन किसी भी प्रतियोगी परीक्षा के लिए बेहद मायने रखता है। इसलिए आपके पास प्रश्न हल करने के लिए ज्यादा समय नहीं होता है। दैनिक रूप से मॉक टेस्ट और एसेसमेंट का अभ्यास करके आपको स्वयं के स्तर पर ख़ुद का आंकलन करते रहना होगा।
  • प्रति दिन एक टॉपिक के कम से कम दो सेट खत्म करने का प्रयास करें।
  • याद रखें – प्रैक्टिस परफेक्ट नहीं बनाती बल्कि सही प्रैक्टिस आपको परफेक्ट बनाती है। इसलिए अपना पूरा ध्यान परीक्षा पर लगाएं।

आप सभी को हमारी ओर से शुभकामनाएं !!

1 REPLY

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.