SSC CGL vs LIC AAO: कौन किससे बेहतर ?

SSC CGL Vs LIC AAO (नौकरी तुलना): SSC CGL और LIC AAO दोनों ही परीक्षाओं का अपना महत्व है। इन दोनों परीक्षाओं के जरिये केवल बेहतरीन उम्मीदवारों का ही चयन किया जाता है। हालांकि सच यह भी है कि एक समय में केवल एक ही करियर का चुनाव करना होता है। ऐसे में CGL और AAO दोनों ही परीक्षाओं के संबंध में विस्तार से जानना आवश्यक है। इस आर्टिकल में हम SSC CGL और LIC AAO की तुलना नौकरी के विवरण, वेतन, वेतनमान और करियर के अवसरों के आधार पर करने वाले हैं। हमें उम्मीद है कि यह विश्लेषण आपके करियर चुनने में मददगार साबित होगा।

SSC CGL vs LIC AAO – नौकरी का विवरण

कर्मचारी चयन आयोग (SSC) विभिन्न केन्द्रीय सिविल पदों जैसे सहायक/निरीक्षक/एसआई/प्रभागीय लेखाकार/सांख्यिकीय अधिकारी/लेखा परीक्षक/ लेखाकार/कनिष्ठ लेखाकार/यूडीसी/कर सहायक/संकलक आदि पदों पर भर्ती के संयुक्त स्नातक स्तरीय परीक्षा (SSC-CGL) का आयोजन करता है। इसके लिए न्यूनतम शैक्षिक योग्यता किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक होना आवश्यक है। इन पदों की भर्ती केंद्रीय सचिवालय के विभागों के लिए की जाती है, जिनमें सेवा/केंद्रीय सतर्कता आयोग/रेलवे के खुफिया ब्यूरो/मंत्रालय रक्षा/ सीबीआई के/मंत्रालय विदेश/मंत्रालय और कुछ अन्य मंत्रालयों/विभागों/केन्द्रीय सरकार के संगठन आदि शामिल हैं।

SSC CGL परीक्षा में सफल होने के बाद उम्मीदवारों को भारत सरकार के मंत्रालयों या भारत सरकार विभागों में काम करने का अवसर मिलता है। इन पदों में उम्मीदवारों के लिए उनके पसंद के मुताबिक कई पद शामिल हैं। यह बात ग़ौर करने वाली है कि जो उम्मीदवार राष्ट्रीय सुरक्षा और खुफिया जानकारी जुटाने में रुचि रखते हैं, वे इंटेलिजेंस ब्यूरो, केंद्रीय जांच ब्यूरो या पुलिस विभाग जैसे विभागों को चुनते हैं, जबकि ऐसे भी उम्मीदवार हैं जिनकी रुचि अकाउंटिंग और ऑडिट में होती है, वे विभिन्न मंत्रालयों के अंतर्गत उसी से संबंधित प्रासंगिक पदों का विकल्प चुन सकते हैं। निजी क्षेत्र की नौकरी में, जोकि आसानी से मंदी से प्रभावित होती है और जिसमें छंटनी होना बहुत आम बात है, वहीं एक सरकारी नौकरी बहुत सुरक्षित नौकरी के तौर पर जानी जाती है।

LIC सहायक प्रशासनिक अधिकारी एक ऐसी जॉब है, जो प्रशासनिक कार्य की विशेषताओं को आकर्षित करती है। चालू वर्ष के लिए, 700 रिक्तियों की भर्ती के लिए की घोषणा की गई है। इस नौकरी में नई योजनाएं तैयार करने, नीतियों का निरीक्षण, प्रबंध एवं फाइलिंग का क्लेम, ग्राहक से बातचीत, अन्य विभागों के साथ सह-समन्वय की योजना/नीति के बारे में, सहायता प्रदान करना आदि और जब विभाग के प्रमुख द्वारा निर्दिष्ट/प्रशासनिक अधिकारी के रूप में किसी भी अन्य कार्यों का प्रदर्शन करना शामिल हो सकता है। हालांकि LIC AAO में बड़े पैमाने पर यात्रा शामिल नहीं है। लेकिन हां, कुछ मौक़ों पर, उन्हें फॉलो-अप के लिए कुछ क्षेत्रों का दौरा करना पड़ता है, विशेष रूप से लिए बिक्री के नहीं।

 

SSC CGL vs LIC AAO – वेतन

पद दो समूहों में विभाजित हैं- बी और सी समूह। इन पदों के लिए वेतनमान बी समूह के लिए 9300 रुपए एवं 5200 रुपए ग्रेड-पे के साथ और समूह सी के लिए 34800 रुपए एवं 20200 रुपए ग्रेड-पे के साथ है। वेतनमान और टियर-2 पेपर के आधार पर पद दो समूहों में वर्गीकृत हैं। सरकारी नौकरियों के वेतन का स्ट्रक्चर अब कॉर्पोरेट निजी क्षेत्र के बराबर है। अगर नौकरी की सुरक्षा की बात करें तो यही बात किसी भी सरकारी नौकरी को अनूठा बनाती है।

हाल ही में LIC AAO भर्ती सूचना के अनुसार, महानगरों में मासिक वेतन लगभग 40,245 रुपए प्रति माह (भत्ते सहित) है। यह राशि अन्य शहरों में थोड़ा अलग होगी। जबकि उपरोक्त वेतन में भत्ते भी शामिल हैं, अपने घर की सुविधा को लेने के बाद आपके हाथों में लगभग 33, 000 /- वेतन प्रतिमाह आ सकता हैं।

 

SSC CGL vs LIC AAO – काम का माहौल

काम के माहौल के मामले में एक विभाग से दूसरा विभाग अलग हो सकता है। उदाहरण के लिए, CBI या पुलिस के अधीन काम का माहौल, एक लेखा परीक्षक के काम से अलग होगा। हालांकि इस तरह के पदों पर काम का माहौल गतिशील और चुनौतियों से भरा होता है। इस तरह के पदों पर काम करने वाले लोगों को हमेशा चुनौतिपूर्ण माहौल में काम करने के लिए ख़ुद को तैयार रखना होता है।

LIC के अंतर्गत कई विभाग हैं जैसे, वित्त/लेखा, नया व्यापार, सूचना प्रौद्योगिकी (IT), नीति सर्विसिंग, दावों, विपणन/बिक्री, बीमांकिक, निरीक्षण। इनमें से कुछ विभाग केवल जोनल मंडल व केंद्रीय कार्यालय के स्तर पर काम करते हैं। अगर आप AAO के रूप में नियुक्त हुए हैं तो – पोस्टिंग ऊपर बताए गए एक विशिष्ट विभाग में अधिकारी के रूप में या सामान्य अधिकारी के रूप में हो सकती है।

 

SSC CGL vs LIC AAO – करियर में विकास

निस्संदेह सरकारी नौकरी विकास और सुरक्षा के मद्देनज़र फायदेमंद हैं यानी कह सकते हैं कि सरकारी सेवाओं में चयन होना सुरक्षित भविष्य का संकेत है। यह कहा जा सकता है कि SSC CGL के तहत दी गई पोस्ट भविष्य संवारने का सुनहरा अवसर प्रदान करता है जो बेहतर ज़िदगी का तोहफा साबित हो सकता है। अन्य लाभों में आकर्षक वित्तीय सेवाएं, जैसे कम ब्याज दर ऋण, आदि शामिल हैं। प्रमोशन्स के मामले में सरकारी क्षेत्र आपको ज़रुर लाभान्वित करेगा। जो लोग अपने ज्ञान को बढ़ाने या अपने कौशल में सुधार करना चाहते हैं, सरकारी क्षेत्र उन्हें उनकी उच्च शिक्षा के लिए पूरी तरह से भुगतान की सुविधा देती है।

सार्वजनिक क्षेत्र की बीमा कंपनियों में से LIC के पास अपने ग्राहकों के रूप में करोड़ों पॉलिसी धारकों की बड़ी संख्या है। इसलिए, अपने मौजूदा उपयोगकर्ताओं तक पहुंचने और नए बिज़नेस के लिए इन्हें एक बड़ी तादाद में कर्मचारियों की आवश्यकता है। जैसा कि आप जानते हैं हर साल वरिष्ठ स्तर के अधिकारी की सेवानिवृत्ति हो रही हैं, ऐसे में नए उम्मीदवारों के पास पदोन्नति के माध्यम से सुनहरा भविष्य बनाने का एक बहुत अच्छा मौका है। थोड़े से अनुभव प्राप्ति करने के बाद, AAOs प्रशासनिक अधिकारी के रूप में उम्मीदवारों का प्रमोशन किया जाता है। इसके अलावा, आंतरिक पोस्टिंग के माध्यम से सहायक शाखा प्रबंधक (एबीएम) के रूप में अन्य विभागों में स्थानांतरित होने का भी मौका होता है। भविष्य में विकास LIC और उनके विभिन्न मापदंडों द्वारा अपनाई गई नीतियों पर निर्भर करता है, इसके लिए हम आपको कोई सटीक अवधि नहीं बता सकते। लेकिन इंडस्ट्री के विशेषज्ञों का कहना है कि AAO प्रमोशन 5-8 साल वर्ष के बीच हो सकता है।

 

SSC CGL vs LIC AAO – निष्कर्ष

अंत में, दोनों के अपने फायदे और नुक़सान हैं। यदि आप विशुद्ध रूप से मान्यता और सामाजिक स्थिति के नजरिए से देखें, तो SSC CGL विजेता के रूप में उभरेगा। लेकिन LIC आपको भारत के बीमा क्षेत्र में ऐसे अवसर प्रदान करेगी, जो दुनिया भर के बहुत कम देशों में है। यह आपको भविष्य संवारने का सुनहरा अवसर प्रदान करता है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.