UP लोअर सबऑर्डिनेट की परीक्षा में बड़ा फेरबदल, अब ऐसे होगा एग्जाम

UP लोअर सबऑर्डिनेट की परीक्षा में बड़ा फेरबदल, अब ऐसे होगा एग्जाम: लोअर सबआर्डिनेट परीक्षा से भरे जाने वाले तकरीबन तीन चौथाई पद पीसीएस परीक्षा में शामिल कर लिए गए हैं। सहायक वन संरक्षक/वन क्षेत्राधिकारी प्रारंभिक परीक्षा (एसीएफ प्री) को पीसीएस प्री के साथ मर्ज कर दिया गया है। OnlineTyari Plus : Join Now

ठीक वैसे ही जैसे संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) की सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा यानी आईएएस प्री के साथ भारतीय वन सेवा प्रारंभिक परीक्षा (आईएफएफ प्री) परीक्षा कराई जाती है। आईएएस और आईएफएस मेन्स की भांति पीसीएस और एसीएफ की मुख्य परीक्षाएं भी अलग-अलग आयोजित की जाएंगी। पीसीएस और एसीएफ की प्रारंभिक परीक्षा अब एक साथ होगी, जबकि मुख्य परीक्षाएं अलग-अलग होंगी। आयोग के अनुसार पीसीएस परीक्षा-2018 से यह नई व्यवस्था लागू की जाएगी।

UP लोअर सबऑर्डिनेट की परीक्षा में बड़ा फेरबदल, अब ऐसे होगा एग्जाम

सरकार ने समूह-ख के राजपत्रित पदों के साथ समूग-ग और समूह-घ के पदों पर भर्ती के लिए इंटरव्यू समाप्त कर दिया है। इसी के तहत आयोग ने लोअर सबऑर्डिनेट के ज्यादातर पदों को पीसीएस में शामिल कर लिया है। यही वजह है कि आयोग की ओर से जारी कैलेंडर में लोअर सबऑर्डिनेट परीक्षा को शामिल नहीं किया गया है।

लोअर के तकरीबन तीन चौथाई पदों को पीसीएस में शामिल किया गया है। इनमें से कई पद ऐसे हैं, जो केवल लिखित परीक्षा के माध्यम से भरे जाने हैं। इन पदों पर भर्ती पीसीएस मुख्य परीक्षा की मेरिट के आधार पर होगी। मुख्य परीक्षा के बाद ही इन पदों का अंतिम परिणाम घोषित कर दिया जाएगा।

इसके अलावा लोअर के कई पद ऐसे हैं, जिनके लिए इंटरव्यू भी होगा। इन पदों के लिए इंटरव्यू पीसीएस परीक्षा के तहत कराया जाएगा और इंटरव्यू के बाद अंतिम परिणाम घोषित किया जाएगा। भर्ती परीक्षाओं के कैलेंडर में सहायक वन संरक्षक (एसीएफ) परीक्षा-2018 को भी शामिल नहीं किया गया है। कैलेंडर में केवल सहायक वन संरक्षक/वन क्षेत्राधिकारी (मुख्य) परीक्षा-2017 को जगह दी गई है, जो 10 से 20 सितंबर तक आयोजित की जाएगी।

सहायक वन संरक्षक परीक्षा को भी पीसीएस में मर्ज कर दिया गया है। इसकी प्रारंभिक परीक्षा और पीसीएस की प्रारंभिक परीक्षा एक साथ होगी, जबकि मुख्य परीक्षा अलग-अलग होंगी, क्योंकि दोनों मुख्य परीक्षाओं का पैटर्न अलग-अलग है। गौरतलब है कि आयोग ने पीसीएस-2018 की मुख्य परीक्षा संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा की तर्ज पर कराए जाने का निर्णय लिया है और इसके लिए मुख्य परीक्षा के पैटर्न में भी बदलाव किया गया है।

बाकी पदों के लिए अलग से हो सकती है परीक्षा
लोअर सबऑर्डिनेट के तकरीबन एक तिहाई पदों को पीसीएस में शामिल नहीं किया गया है। उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग अभी विचार कर रहा है कि जिन पदों को पीसीएस में शामिल नहीं किया गया है, उन्हें किस तरह से भरा जाए। हो सकता है कि इसके लिए अलग से कोई परीक्षा आयोजित की जाए या कोई दूसरा रास्ता निकाला जाए। आयोग जल्द ही इस पर कोई निर्णय लेगा।

दो वर्षों से नहीं हो रही लोअर की भर्ती परीक्षा
पिछले दो वर्षों से आयोग लोअर सबआर्डिनेट की परीक्षा नहीं करा रहा है। बीच में चर्चा थी कि इस भर्ती का जिम्मा लखनऊ स्थित अधीनस्थ सेवा चयन आयोग को दे दिया जाएगा क्योंकि सपा शासनकाल के दौरान लोअर से भरे जाने वाले कुछ पदों पर चयन का जिम्मा अधीनस्थ सेवा चयन आयोग को सौंपा गया था। लेकिन पिछले दिनों आयोग को शासन स्तर से लोअर के 250 पदों का अधियाचन (रिक्त पदों की सूचना) मिली थी। इससे बाद से उम्मीद थी कि लोअर सबआर्डिनेट की भर्ती होगी लेकिन अब इसके पदों को पीसीएस में मर्ज कर दिया गया है।

अगर आप को यह लेख पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों को शेयर करें और कमेंट करना न भूलें।

OnlineTyari Plus : Join Now

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.