UPPSC प्रारंभिक परीक्षा 2017: इतिहास खंड हेतु संभावित प्रश्न

UPPSC प्रारंभिक परीक्षा 2017: इतिहास खंड हेतु संभावित प्रश्न: आप सीसैट सम्मिलित प्रारंभिक परीक्षा के सामान्य अध्ययन पाठ्यक्रम के अनुरूप और महत्पूर्ण भाग- ‘इतिहास’ विषय हेतु अपनी तैयारी की जांच करेंगे। परीक्षा में इस भाग के रखे जाने का औचित्य यह जानना है अभ्यर्थी यह जाने कि इतिहास क्‍या है, उसका प्रयोजन क्‍या है, उसका हमारे आज से क्‍या सम्‍बन्‍ध है, और इतिहास को हमारे परिवेश से जोड़कर कैसे देखा जाए। अभ्यर्थी यह जाने कि इतिहास के सिद्धांतों को सामान्यता तथा व्यापकतर स्तर पर व्यवहृतर कैसे किया जाय। इतिहास के अध्ययन से मानव समाज के विविध क्षेत्रों का जो व्यावहारिक ज्ञान प्राप्त होता है उससे मनुष्य की परिस्थितियों को आँकने, व्यक्तियों के भावों और विचारों तथा जनसमूह की प्रवृत्तियों आदि को समझने के लिए बड़ी सुविधा और अच्छी खासी कसौटी मिल जाती है।

UPPSC प्रारंभिक परीक्षा 2017: इतिहास खंड हेतु संभावित प्रश्न

यदि आप प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा दोनों में अच्छा स्कोर करना चाहते हैं, तो यह काफी हद तक आपकी इतिहास की तैयारी पर निर्भर करता है।  इस लेख में हम UPPSC प्रारंभिक परीक्षा के एक खण्ड के रूप में इतिहास की तैयारी हेतु आपकी जांच करेंगे।

यहां इतिहास संवर्ग के महत्वपूर्ण सवालों की एक सूची दी गई है जिनका इस वर्ष की परीक्षा में आने की उम्मीद है। अभ्यर्थी इन प्रश्नों को हल कर अपनी तैयारी की जांच कर सकते हैं और  यह प्रश्न आपको UPPCS 2017 में अधिक स्कोर करने में भी मदद करेंगे, हमें यह आशा है।

  1. भारतीय रियासतों ने स्वतंत्रता संघर्ष के सन्दर्भ में, 1939 में कांग्रेस के त्रिपुरी अधिवेशन में क्या घोषित किया?

(a) इसमें आल इंडिया स्टेट पीपुल कॉन्फ्रेंस की स्थापना करने का आह्वान किया।

(b) इसमें विभिन्न भारतीय रियासतों में कांग्रेस की इकाई स्थापित करने की घोषणा की।

(c) इसमें कांग्रेस के नेताओं ने भारतीय रियासतों निवासियों की मांगों को उठाने से सावधान किया।

(d) यहाँ इन सभी अवरोधों को हटा दिया गया जिन्हें कांग्रेस ने भारतीय रियासतों की मांगों को उठाने के लिए स्वयं पर अधिरोपित किया था।

सही उत्तर – d

व्याख्या: भारतीय रियासतों के प्रति कांग्रेस ने त्रिपुरी अधिवेशन में अपनी नयी नीति को घोषित करते हुए एक प्रस्ताव पारित किया।

इसने उन सभी अवरोधों को हटाने की घोषणा की गई जिन्हें पूर्व में कांग्रेस ने भारतीय रियासतों की मांगों को उठाने के लिए स्वयं पर अधिरोपित किया।

1939 के अधिवेशन में जवाहरलाल नेहरू ने अध्यक्ष के रूप में निर्वाचन के रूप में उनके मनोरथ को बल दिया था।

Indian Art and Culture

भारतीय कला एवं संस्कृति, नितिन सिंघानिया, MC Graw Hills

भारतीय कला और संस्कृति भारतीय इतिहास का महत्वपूर्ण  भाग है। भारत में गीत-संगीत, नृत्य, नाटक-कला, लोक परंपराओं, कला-प्रदर्शन, धार्मिक-संस्कारों एवं अनुष्ठानों, मेलों, चित्रकारी एवं लेखन के क्षेत्रों के अतिरिक्त भारत की सांस्कृतिक विरासत, प्राचीन स्मारकों, साहित्य, दर्शन, विभिन्न योजनाओं, कार्यक्रमों, कलाप्रदर्शनों, मेले, त्यौहारों एवं हस्तकला के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान की गई है। नितिन सिंघानिया द्वारा लिखित यह पुस्तक MC Graw Hills प्रकाशन से प्रकाशित की गई है।

अभी खरीदें (Rs. 395 257)
  1. अलवरों ने किसके भक्ति गीतों को लोकप्रिय बनाया?

(a) शिव

(b) विष्णु

(c) वासुदेव

(d) सूर्य

सही उत्तर : (d)

व्याख्या : अलवरों ने सूर्य देव के भक्ति गीतों को लोकप्रिय बनाया थे। 

3. तेभागा आंदोलन के सन्दर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए-

1. यह उत्तर प्रदेश के अवध क्षेत्र के किसान सभा द्वारा आरम्भ किया गया था।

2. इस आंदोलन की मांग जमींदारों को दिए जाने वाले हिस्से में कमीं करना था।

3. यह सत्याग्रह पर आधारित अहिंसक आंदोलन था।

उपर्युक्त कथनों में से कौन सा/से सही नहीं है/हैं?

(a) 1 और 2

(b) 2 और 3

(c) 1 और 3

(d) 1, 2 और 3

सही उत्तर – C

व्याख्या : तेभागा आंदोलन 1946 -47 में किसान सभा द्वारा बंगाल में आरम्भ किया गया एक स्वतंत्र आंदोलन था। तेभागा आंदोलन की मांग थी कि जमींदारों को दिए जाने वाले हिस्से को आधा से घटाकर एक तिहाई किया जाए। कई क्षेत्रों में यह आंदोलन हिंसक हो गया।

4. भारत सरकार अधिनियम 1935 के प्रावधान, निम्नलिखित में से किन दस्तावेजों से प्रभावित थे ?

  1. भारतीय वैधानिक आयोग की रिपोर्ट
  2. हर्टोग समिति की रिपोर्ट
  3. गोलमेज सम्मेलनों पर विचार विमर्श के बाद तैयार स्वेत पत्र
  4. नेहरू रिपोर्ट

नीचे दिए गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिए-

(a) 1, 2 और 3

(b) 1, 3 और 4

(c) 1 और 3

(d)  2 और 4

सही उत्तर- b

व्याख्या : भारत सरकार अधिनियम, 1935 में जिन मुख्य श्रोतों से अपनी सामग्री प्राप्त की थी, वे थे-

भारतीय वैधानिक आयोग की रिपोर्ट (साइमन कमीशन रिपोर्ट के रूप में प्रसिद्ध हैं )

सर्वदलीय सम्मलेन की रिपोर्ट (नेहरू रिपोर्ट )

1933 में तीन गोलमेज सम्मेलनों पर चर्चाओं के बाद स्वेत पत्र जारी किया गया, जिसने भारत के नए संविधान का कार्य करने के आधार अर्थात केंद्र में द्वैध शासन तथा उत्तरदायी सरकार का विवरण दिया,

संयुक्त प्रवर समिति रिपोर्ट

लोथियन रिपोर्ट , जिसने इस अधिनियम के चुनावी प्रावधानों को निर्धारित किया।

5. निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए-

  1. लार्ड मैकाले ने भारतीय कानूनों को संहिताबद्ध करने वाले प्रथम विधि आयोग की अध्यक्षता की थी।
  2. चार्ल्स वुड ने भारतीयों की शिक्षा के लिए अधोगति निस्यंदन सिद्धान्त प्रस्तावित किया था।
  3. विलियम बैंटिक ने कन्या भ्रूण हत्या समाप्त करने का प्रयास किया था।

उपर्युक्त कथनों में से कौन सा /से सही है /हैं?

(a) 1 और 2

(b) केवल 2

(c) 1 और 3

(d) 1, 2 और 3

सही उत्तर – c

व्याख्या : कथन 1 सही है– लार्ड मैकाले ने भारतीय कानूनों को संहिताबद्ध करने वाले पहले विधि आयोग की अध्यक्षता की थी।

कथन 2 गलत है– चार्ल्स वुड ने इन सिद्धान्तों को अस्वीकार कर दिया और शिक्षा के प्रसार के लिए सरकार को उत्तरदायी बनाया।

कथन 3 सही है- लार्ड विलियम बेंटिक और वारेन हेस्टिंग्स ने कन्या भ्रूण हत्या पर रोक लगाने वाले विनियमों को लागू किया।

Indian History and National Movement best book

भारत का इतिहास एवं भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन, अरिहंत प्रकाशन

पुस्तक में भारत के इतिहास पर समग्र, सारगर्भित एवं परीक्षोपयोगी तथ्य दिए गए हैं। भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन, ब्रिटिश कालीन सामाजिक एवं सांस्कृतिक विकास के साथ-साथ पुस्तक में भारत की सांस्कृतिक विरासत को भी कवर किया गया है। यह पुस्तक केन्द्रीय और राज्य सिविल सेवा परीक्षाओं के साथ अन्य परीक्षाओं के लिए भी विशेष महत्वपूर्ण  है।

(Rs. 195 111)

6. ब्रिटिश शासन के दौरान भू राजस्व व्यवस्था के सम्बन्ध में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए-

  1. जमींदारी व्यवस्था में किसान धीरे धीरे काश्तकार, बंटाईदार और भूमिहीन मज़दूरों में तब्दील हो गए।
  2. महलवारी व्यवस्था में सरकार ने सीधे किसानों से राजस्व एकत्र किया।

उपर्युक्त कथनों में से कौन/सा से सही है /हैं ?

(a) केवल 1

(b) केवल 2

(c) 1 और 2 दोनों

(d) उपर्युक्त में से कोई नहीं

सही उत्तर – a

व्याख्या : कथन 1 सही है: जमींदारी प्रथा में भू राजस्व अधिक और शोषणकारी था, जिससे किसान धीरे धीरे कास्तकार, बंटाईदार और भूमिहीन मज़दूरों में तब्दील हो गए।

कथन 2 गलत है- रैवतवारी व्यवस्था में सरकार ने सीधे भू राजस्व एकत्रित किया था न की महलवारी व्यवस्था में।

7. केरल में मंदिर प्रवेश आंदोलन के सन्दर्भ में, निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए-

  1. गांधीजी ने इस आंदोलन के समर्थन में केरल का दौरा किया।
  2. हिंदुओं के कई उच्च जाति संगठनों ने केरल में मंदिर प्रवेश आंदोलन का समर्थन किया।

उपर्युक्त कथनों में से कौन/सा से सही है/हैं?

(a) केवल 1

(b) केवल 2

(c) 1 और 2 दोनों

(d) उपर्युक्त में से कोई नहीं

सही उत्तर – c

व्याख्या : कथन 1 सही है: मार्च 1925 के प्रारम्भ में गांधीजी ने अपने केरल दौरे की शुरुआत की और आंदोलन का समर्थन किया।

कथन 2 सही है- कई सवर्ण संगठनों जैसे नायर सेवा समाज , नायर समाजम और केरल हिन्दू सभा ने मंदिर प्रवेश आंदोलन का समर्थन दिया।

  1. 1717 में ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी को मुग़ल बादशाह फ़र्रुख़सियर द्वारा जारी सही फरमान के सन्दर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए-

1. इसने ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी को बंगाल में बिना कर चुकाए अपने माल की आयात और निर्यात करने की अनुमति दी।

2. ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी को अपने माल की आवाजाही के लिए दस्तक जारी करने की अनुमति दी गई।

उपर्युक्त कथनों में से कौन/सा से सही है/हैं?

(a) केवल 1

(b) केवल 2

(c) 1 और 2 दोनों

(d) उपर्युक्त में से कोई नहीं

सही उत्तर – c

व्याख्या : कथन 1 सही है: कंपनी ने 1717 में मुग़ल बादशाह के एक शाही फरमान के द्वारा बहुमूल्य विशेषाधिकार प्राप्त कर लिया, जिसके तहत कंपनी को बंगाल में बिना कर चुकाए अपने मालों के आयात और निर्यात करने की अनुमति दी गई थी।

कथन 2 सही है: इसके द्वारा ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी को अपने मालों के आवाजाही के लिए अनन्य सुविधा/दस्तक जारी करने की अनुमति दी गई।

  1. यंग बंगाल आंदोलन के सन्दर्भ में, डेरोजिअन द्वारा निम्नलिखित में से कौन से मुद्दे उठाए गए थे?

1. महिलाओं के अधिकार

2. किसानों की शिकायतें

3. विदेश स्थित ब्रिटिश उपनिवेशों में भारतीय मज़दूरों के साथ बेहतर व्यवहार

उपर्युक्त कथनों में से कौन सा से सही है?

(a) केवल 1

(b) केवल 1 और 2

(c) केवल 1 और 3

(d) केवल 2 और 3

सही उत्तर – c

व्याख्या : कथन 1 सही है – डेरोजिअन के अनुयायिओं ने पुराने रिवाजों, कृत्यों और परम्पराओं की घोर आलोचना की। उन लोगों ने महिलाओं के अधिकारों और उनके लिए शिक्षा की वकालत की।

कथन 3 सही है- वे जनता से जुड़े प्रश्नों पर जन आंदोलन करते रहे, जैसे कंपनी के चार्टर में संसोधन, प्रेस की स्वतंत्रता और विदेश स्थित ब्रिटिश उपनिवेशों में भारतीय मज़दूरों के साथ बेहतर व्यवहार।

  1. निम्नलिखित षड्यंत्र केस में से कौन सा/से ब्रिटिश भारत के साम्यवादी आंदोलन के साथ सम्बद्ध नही है/हैं?

1 पेशावर षड्यंत्र केस

2 कानपूर षड्यंत्र केस

3 मेरठ षड्यंत्र केस

निचे दिए गए कूटों का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिए-

(a) केवल 1

(b) 2 और 3

(c) 1, 2 और 3

(d) उपर्युक्त में से कोई नहीं

सही उत्तर – d

Indian History -Ghatna chakra

सामान्य अध्ययन पूर्वालोकन-2 (भारतीय इतिहास: भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन सहित),     सम-सामयिक घटना चक्र

सम-सामयिक घटना चक्र की सामान्य अध्ययन पूर्वालोकन-2 पुस्तक में केन्द्रीय और राज्य सिविल सेवा परीक्षाओं के सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र के तहत विगत वर्षों (1990 से दिसंबर 2016 तक) पूछे गए भारतीय इतिहास सम्बंधित प्रश्नों का अध्यायवार व्याखात्मक हल दिया गया है। पुस्तक में UPPCS मुख्य परीक्षा सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र को भी शामिल किया गया है। इतिहास सम्बन्धी महत्वपूर्ण प्रश्नों का संकलन होने के कारण यह पुस्तक सभी प्रतियोगी छात्रों के लिए उपयोगी हैं।

अभी खरीदें (Rs. 255 221)

व्याख्या : साम्यवादी आंदोलन से पेशावर षड्यंत्र केस(1922 -23) , कानपूर षड्यंत्र केस (1924) और मेरठ षड्यंत्र केस (1929) तीनो सम्बंधित हैं।

  1. 1938 का हरिपुरा कांग्रेस सत्र एक मिल का पत्थर माना जाता है क्योंकि?

(a) जवाहरलाल नेहरू के अधीन राष्ट्रीय योजना समिति स्थापित की गई थी ।

(b) रियासतों के आंदोलन ने कांग्रेस से समर्थन प्राप्त किया ।

(c) कांग्रेस ने पार्टी के लक्ष्य के रूप में विकास के समाजवादी पैटर्न को अपनाया ।

(d) सुभाष चंद्र बोस ने कांग्रेस के चुनावों में गांधीजी के उम्मीदवार पट्टाभि सीतारमैय्या को पराजित किया

सही उत्तर – a

व्याख्या : कथन 1 सही है।

कथन 2 गलत है- रियासतों के आंदोलन के कांग्रेस समर्थन के बारे में हरिपुरा में कोई चर्चा नही हुई।

कथन 3 गलत है – कांग्रेस ने 1955 में अवाडी सत्र में एक प्रस्ताव के माध्यम से पार्टी के लक्ष्य के रूप में विकास के समाजवादी पैटर्न को अपनाया।

कथन 4 गलत है -1939 में त्रपुरी सत्र में सुभाष चंद्र बोस ने कांग्रेस के चुनावों में गांधीजी के उम्मीदवार पट्टाभि सीतारमैय्या को पराजित किया।

  1. दामन-ए-कोह क्षेत्र में संथाल या हूल विद्रोह हुआ। दामन-ए-कोह में कौन सा क्षेत्र आता है?

(a) छोटानागपुर पठार

(b) राजमहल के पहाड़ियों के सटे क्षेत्र

(c) भागलपुर तथा राजमहल के बीच का क्षेत्र

(d) छोटानागपुर के पठार तथा भागलपुर के बीच का क्षेत्र

सही उत्तर –  c

व्याख्या : संथाल या हूल विद्रोह का नेतृत्व सिधू तथा कान्हू के द्वारा भागलपुर तथा राजमहल के बीच के एक जनजातीय क्षेत्र में किया गया।

13. इसका उद्देश्य गैर आदिवासी (दिकू ) को निकाल बाहर  करना था।

  1. 1929 के कांग्रेस के लाहौर सत्र के सन्दर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए-
  2. प्रथम गोलमेज सम्मलेन का वहिष्कार करने का निर्णय लिया गया।
  3. कांग्रेस कार्य समिति को सविनय अवज्ञा कार्यक्रम आरम्भ करने का अधिकार दिया गया।

उपर्युक्त कथनों में से कौन सा/से सही है/हैं?

(a) केवल 1

(b) केवल 2

(c) 1 और 2 दोनों

(d) उपर्युक्त में से कोई नहीं

सही उत्तर – c

व्याख्या : कांग्रेस के 1929 के लाहौर अधिवेशन में पूर्ण स्वराज का लक्ष्य घोषित कर दिया गया। इसे प्राप्त करने के लिए कांग्रेस कार्य समिति को सविनय अवज्ञा आंदोलन आरम्भ करने का अधिकार दिया गया।

IAS IAS Pre 2017 Books

IAS प्री. 2017: NCERT प्राचीन और मध्यकालीन इतिहास, क्रॉनिकल प्रकाशन

पुस्तक को NCERT आधार पर बना कर टेस्ट पेपर बनाए गए हैं। जिसमें प्राचीन भारत से मध्यकालीन इतिहास को कवर किया गया है। इस टेस्ट पेपर में आप  ऑनलाइन प्रतिभाग कर सकते हैं। यह पुस्तक सिविल सेवा हेतु नामचीन प्रकाशन ‘क्रॉनिकल प्रकाशन’ के विषय विशेषज्ञों द्वारा लिखी गई है। पुस्तक में 100 प्रश्नों  के कई टेस्ट पेपर भी संकलित किये गए है। जिससे अभ्यर्थी अपनी तैयारी की जांच कर सकते हैं।

अभी खरीदें (Rs. 100)

 

14. प्रथम गोलमेज सम्मलेन के वहिष्कार करने का निर्णय लाहौर अधिवेशन में ही लिया गया था।

  1. देवबंद आंदोलन का/के उद्देश्य क्या थे?
  2. कुरान व हदीस की शुद्ध शिक्षाओं का प्रचार करना।
  3. मुस्लिम धार्मिक शिक्षा के साथ अंग्रेजी शिक्षा को एकीकृत करना।
  4. विदेशी शासन के विरुद्ध जिहाद की भावना जीवित रखना।

निचे दिए गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिए-

(a) 1 और 2

(b) 1 और 3

(c)  2 और 3

(d) उपर्युक्त सभी

सही उत्तर – b

व्याख्या : मुस्लिम उलेमाओं के रूढ़िवादी दल ने देवबंद आंदोलन का आयोजन किया।अपनी प्रकृति में वह पुनरुथानवादी था और मुस्लिम समाज के धार्मिक नेताओं को प्रशिक्षित करना इसका उद्देश्य था।

15. इसने अंग्रेजी शिक्षा और पश्चिमी संस्कृति के लिए अपने द्वार बंद रखे। इसका उद्देश्य मुस्लिम धर्म के प्रचार के लिए छात्रों को तैयार करना था। सैयद अहमद खान के सन्दर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:

  1. आरम्भ में वे रूढ़िवादी थे किन्तु बाद में उन्होंने हिन्दू मुस्लिम एकता पर बल दिया।

2. उन्होंने भारतीयों में अंग्रेजी शासन के विरुद्ध शिक्षित करने के लिए अलीगढ में एक कॉलेज की स्थापना की।

3. उन्होंने शैक्षिक रूप से पिछड़े मुसलमानों को केवल आधुनिक शिक्षा पर बल देने का परामर्श दिया।

उपर्युक्त कथनों में से कौन सा/से सही नहीं है /हैं?

(a) केवल 1

(b) केवल 3

(c) 1 और 2

(d) 2 और 3

सही उत्तर – c

व्याख्या : कथन 1 गलत है, अपने आरंभिक वर्षों में वे हिन्दू मुस्लिम एकता के समर्थक थे किन्तु बाद के वर्षों राष्ट्रीय आंदोलन के दौरान वे सम्प्रदायवाद तथा पृथकतावाद के प्रभाव में आ गए।

कथन 2 गलत है उन्होंने कभी भी ब्रिटिश शासन का विरोध नही किया तथा उनकी सोच थी कि ब्रिटिश इतने शक्तिशाली है कि अशिक्षित भारतीय उनके शासन को उखाड़ कर नही फेंक सकती।

कथन 3 सही है, वे चाहते थे कि भारतीय राजनीति के बदले आधुनिक आधुनिक वैज्ञानिक शिक्षा पर ध्यान केंद्रित करें।

अब हम UPPSC प्रारंभिक परीक्षा 2017 के इतिहास खंड हेतु संभावित प्रश्न विषयक अपना लेख समाप्त करते हैं। आशा है यह लेख आपको पसंद आया होगा और आपके ज्ञान वृद्धि एवं परीक्षा की तैयारी में सहायक रहा होगा।

UPPSC सिविल सेवा भर्ती परीक्षा 2017 से संबंधित अधिक जानकारी के लिए हमसे जुड़े रहें। सिविल सेवा परीक्षाओं में उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए सर्वश्रेष्ठ PCS परीक्षा तैयारी एप नि:शुल्क डाउनलोड करें।

Best Government Exam Preparation App OnlineTyari

अगर अभी भी आपके मन में किसी प्रकार की कोई शंका या कोई प्रश्न है तो कृपया नीचे दिए गए कमेंट सेक्शन में उसका ज़िक्र करें और बेहतर प्रतिक्रिया के लिए OnlineTyari Community पर अपने प्रश्नों को हमसे साझा करें।

1 REPLY

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.