सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2018 : सामान्य अध्ययन – प्रश्नपत्र I का विश्लेषण

0
5585
सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2018 : सामान्य अध्ययन - प्रश्नपत्र I का विश्लेषण

सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2018 : सामान्य अध्ययन – प्रश्नपत्र I का विश्लेषण-आज, 3 जून 2018 को, संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) ने UPSC CSE प्रारंभिक परीक्षा 2018 परीक्षा आयोजित की। देश भर में लाखों उम्मीदवार सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2018 के लिए उपस्थित हुए। परीक्षा दो शिफ्ट में आयोजित की जाती है। इसमें पहली सुबह 9.30 से 11.30 बजे सम्पन्न की गई और दूसरी दोपहर 2.30 से 4.30 बजे तक आयोजित की गई।

इस लेख में, हम IAS प्रारंभिक परीक्षा 2018 के विस्तृत विश्लेषण पर चर्चा की है। IAS परीक्षा 2018 के विस्तृत परीक्षा  विश्लेषण के लिए नीचे देखें।

UPSC IAS प्रारंभिक परीक्षा विश्लेषण 2018: सेक्शनवाइज विश्लेषण

IAS प्रारंभिक परीक्षा 2018 के लिए, प्रश्नवार विभाजन नीचे दिया गया है। सग्से अधिक समसामयिकी और इतिहास से प्रश्न पूछे गए थे।

क्रम संख्या सेक्शन का नाम  प्रश्नों की संख्या 
1. भारत का इतिहास और भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन 15
2. भारत एवं विश्व का भूगोल 12
3. भारतीय राज्यतंत्र और शासन 14
4. आर्थिक और सामाजिक विकास 17
5. पर्यावरणीय पारिस्थितिकी 14
6. कला और संस्कृति 4
7. अन्य (राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्त्व की सामयिक घटनाएँ और सामान्य विज्ञान आदि) 24

उपर्युक्त विश्लेषण के आधार पर, पेपर का समग्र कठिनाई स्तर मध्यम से अधिक कठिनाई स्तर का था, कुछ प्रश्न सीधे पूछे गए थे तो कुछ प्रश्नों को काफी घुमा कर पूछा गया था। PIB साईट पर उपलब्ध जानकारियों से कई सवाल पूछे गए थे। 2014 समसामयिक से भी प्रश्न थे, तो समस्या यह बन जाती है कि उम्मीदवार कितने वर्ष की समसामयिक पर नजर रखें। इस वर्ष पर्यावरण पर आधारित प्रश्न बहुतायत से (14 प्रश्न) और यही हाल भारतीय राज्यव्यवस्था में भी देखने को मिला। परीक्षा में पूछे गए सेक्शनवाइज प्रश्नों की संख्या की जानकारी के लिए नीचे दिया गया विवरण देखें :

  • अन्य (राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्त्व की सामयिक घटनाएँ एवं विज्ञान और तकनीक
    इस खंड से संबंधित 24 प्रश्न थे।
  • भारतीय इतिहास और भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन एवं कला एवं संस्कृति
    इस खंड से इस वर्ष 19 प्रश्न पूछे गए थे।
  • भारतीय राजनीति और शासन
    राजनीति और शासन में, इस खंड से कुल 14 प्रश्न पूछे गए थे।
  • भारत और विश्व भूगोल
    इस खंड से इस वर्ष 12 प्रश्न पूछे गए।
  • पर्यावरण और पारिस्थितिकी
    पर्यावरण और पारिस्थितिकी से इस वर्ष 14 प्रश्न पूछे गए।
  • आर्थिक और सामाजिक विकास
    आर्थिक और सामाजिक विकास पर 17 प्रश्न पूछे गए।UPSC IAS Answer Key-All Set

सामान्य अध्ययन- प्रश्नपत्र I में, जिन क्षेत्रों से आमतौर पर प्रश्न पूछे जाते थे इस बार पूछे गए काफी प्रश्न उनसे अलग थे। पॉलिटि जैसे पारंपरिक विषयों, जिन्हें 2017 में अवधारणात्मक रूप से पूछा गया था, इस बार इसके प्रश्न हल करते समय उम्मीदवारों को काफी विचार/मंथन करने की जरुरत थी। कुछ प्रश्नों जैसे राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण संगठन (NSSO) ने छात्रों के विषय संबद्ध ज्ञान का भी परीक्षण किया। बुनियादी समझ पर आधारित इन्टरनेट सम्बंधित प्रश्न में छात्रों ने प्रश्न पूछे जाने के तरीके में नवाचार देखा। कुल मिलाकर पूछे गए प्रश्न पाठ्यक्रम विषयों और उप-विषयों में अच्छी तरह से वितरित किए गए थे। इसे काफी सकारात्मक माना जा सकता है।

जैसा की विदित है की सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र -I के आधार पर ही मुख्य परीक्षा के लिए मेधा सूचि (मेरिट लिस्ट) तैयार की जानी है। इस वर्ष प्रथम प्रश्न पत्र का कट-ऑफ कठिनाई स्तर को देखते हुए गत वर्ष (2017) के कटऑफ के समीप या कम (2-3 अंक) रहने की उम्मीद है। यदि उम्मीदवार इस वर्ष कटऑफ को प्राप्त कर रहे हों तो उन्हें मुख्य परीक्षा की तैयारी में जुट जाना चाहिए। इस वर्ष भी अगर मोटे तौर पर लें तो सामान्य वर्ग के लिये कट-ऑफ 102-108 के बीच माना जा सकता है।

यहां हमने अपने लेख UPSC CSE प्रारंभिक परीक्षा विश्लेषण 2018 का निष्कर्ष दिया है। UPSC IAS परीक्षा 2018  के बारे में अधिक जानकारी के लिए जुड़े रहें। सिविल सेवा परीक्षाओं में उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए, सर्वश्रेष्ठ UPSC CSE परीक्षा तैयारी ऐप नि:शुल्क डाउनलोड करें।

Best Government Exam Preparation App OnlineTyari

NO COMMENTS

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.