Annpurna Ahinsak

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अधिवेशनों और इसके स्थापना से जुड़े विवादों पर प्रकाश डालिए।

Asked By

Annpurna Ahinsak, 4 हफ्ते पहले ago

Category

History

0 0
Follow

Answers for this Question
4 Answers

Aman Mishra

उदारवादी लेखक कोंग्रेस को अस्थाना को सही कदम बताते है तो प्रगतिशील इसका इस्तेमाल यह साबित करने के लिए करते है कि कोंग्रेस अगर साम्राज्यवाद के प्रति निष्ठावान नही रही , तो भी कम से कम वह समझौतावादी तो रही ,जबकि घोर दक्षिणपंथी द्वारा इस मिथक का इस्तेमाल यह सिद्ध करने के लिए किया जाता रहा है को कोंग्रेस सुरु से ही गैर राष्ट्रवादी रही है

Replied By

Aman Mishra , 23 days ago

Expert Level

5

1 0
Aman Mishra

ताकि उस समय भारतीय जनता में पनपते बढ़ते आँतोस को हिंसा के ज्वालामुखी के रूप में बहलाने ओर फुटने से रोका जा सके , यानी इस मिथक का सार संक्षेप यह है कि जस्य समय हिंसक कंर्ति दस्तक दे रही थी जो कोंग्रेस की अस्थापना के कारण टाल गई

Replied By

Aman Mishra , 23 days ago

Expert Level

5

1 0
Aman Mishra

जैसा कि सभी जानते है कोंग्रेस 1885 में बना उस समय 72 कार्यकर्ता ने इश्कि नींव रखी अखिल भारतीय अस्तर पर यह भारतीय राष्ट्रवाद की पहली सुनियोजित अभिवक्ति थी। मिथक यह है कि एम ह्यूम ओर उनके साथियों ने अंग्रेज सरकार के इशारे पर ही भरतीय राष्ट्रीय कोंग्रेस की अस्थापना को थी तत्कालीन वायसराय लॉर्ड डफरिन के निर्देश ,मार्गदेशन ओर सलाह पर ही ह्यूम ने इस संगठन को जन्म दिया

Replied By

Aman Mishra , 23 days ago

Expert Level

5

1 0
Aman Mishra

जयदा नही पता लेकिन बिपिन चन्द्र का book है उसका refrens दे रहा हु उसी को 20 times पढ़ा है

Replied By

Aman Mishra , 24 days ago

Expert Level

5

0 0

Register for all India Test