Bookmark Bookmark

10 साल से कम अर्हकारी सेवा देने वाले सशस्त्र बल कार्मिक व्यक्ति अमान्य पेंशन के लिए पात्र हैं

10 साल से कम अर्हकारी सेवा देने वाले सशस्त्र बल कार्मिक व्यक्ति अमान्य पेंशन के लिए पात्र हैं

केंद्र सरकार ने सशस्त्र बलों के कर्मियों को अमान्य पेंशन का लाभ उठाने के लिए 10 साल से कम की अर्हकारी सेवा की अनुमति दी है। सशस्त्र बल कार्मिक जो विकलांगता के कारण सेवा से बाहर हो गए हैं जो कि सैन्य सेवा द्वारा न तो आक्रामक (नाना) के रूप में वर्गीकृत नहीं है, को अमान्य पेंशन दी जाएगी।

प्रमुख बिंदु:

  • प्रस्ताव को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा अनुमोदित किया गया था। अमान्य पेंशन सशस्त्र बलों के उन कार्मिकों के लिए उपलब्ध होगी जो 4 जनवरी 2019 को या उसके बाद सेवा दे रहे थे।
  • अमान्य पेंशन के लिए आवश्यक अर्हकारी सेवा का पिछला कार्यकाल दस वर्ष या उससे अधिक का था।
  • प्रस्ताव के अनुमोदन से सशस्त्र बल कार्मिक की सेवा जिसकी सेवा दस वर्ष से कम है और जो शारीरिक या मानसिक दुर्बलता के कारण सेवा से बाहर हो गए हैं, जिन्हें सैन्य सेवा द्वारा नाना के तहत वर्गीकृत किया गया है, पेंशन के लिए पात्र हैं।
  • सरकार ने उन लोगों के लिए भी पेंशन की अनुमति दी है जो स्थायी रूप से अक्षम हो गए हैं और नागरिक पुन: रोजगार के लिए उन्हें अक्षम कर रहे हैं, लाभ प्राप्त करेंगे।
  • रक्षा सेवा अनुमान से पेंशनरों को रक्षा पेंशन का भुगतान किया जाता है।

You might be interested:

पीसीबीएस के तहत पीएसबी द्वारा खरीदे जाने वाले 14,667 करोड़ रुपये के एनबीएफसी बांड

पीसीबीएस के तहत पीएसबी द्वारा खरीदे जाने वाले 14,667 करोड़ रुपये के एनबीएफसी बा ...

4 हफ्ते पहले

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री ने आईआईटी दिल्ली द्वारा दुनिया की सबसे सस्ती कोविड-19 डायग्नोस्टिक किट लॉन्च की

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री ने आईआईटी दिल्ली द्वारा दुनिया की सबसे स ...

4 हफ्ते पहले

भारतीय सशस्त्र बलों को 300 करोड़ रुपये तक की तत्काल पूंजी अधिग्रहण की शक्ति दी गयी

भारतीय सशस्त्र बलों को 300 करोड़ रुपये तक की तत्काल पूंजी अधिग्रहण की शक्ति दी ...

4 हफ्ते पहले

इंफाल में एनएसटीआई, एक्सटेंशन सेंटर का उद्घाटन

इंफाल में एनएसटीआई, एक्सटेंशन सेंटर का उद्घाटन राष्ट्रीय कौशल प्रशिक्षण सं ...

4 हफ्ते पहले

पानी की गुणवत्ता की निगरानी के लिए आईआईटी कानपुर द्वारा विकसित वर्णमापक

पानी की गुणवत्ता की निगरानी के लिए आईआईटी कानपुर द्वारा विकसित वर्णमापक भा ...

4 हफ्ते पहले

दैनिक समाचार डाइजेस्ट:16 July 2020

वन लाइनर्स ऑफ द डे, 16 जुलाई 2020पानी की गुणवत्ता की निगरानी के लिए आईआईटी कानपुर ...

4 हफ्ते पहले

Provide your feedback on this article: