Guest
Welcome, Guest

Login/Register

महत्त्वपूर्ण लिंक

हमसे सम्पर्क करें

Bookmark Bookmark

अंतरराष्ट्रीय विधवा दिवस: 23 जून

अंतरराष्ट्रीय विधवा दिवस: 23 जून

अंतर्राष्ट्रीय विधवा दिवस एक वैश्विक जागरूकता दिवस है जो प्रतिवर्ष 23 जून को मनाया जाता है। इसका मुख्य उद्देश्य यह होता है कि विधवाओं की स्थिति में विशेष सुधार हो सके और दूसरों की तरह वो भी सामन्य जीवन व्यतीत कर सके।

पूरे विश्व में करोंड़ो विधवा गरीबी, हिंसा, बीमारी, बहिष्कार, शारीरिक शोषण, स्वास्थ और अन्य कई तरह की समस्याओं को सहन कर रही हैं, उनका जीवन स्तर अच्छा हो और वो समाज के मुख्य धारा से जुड़ सके इसी उद्देश्य की पूर्ति के लिए अन्तराष्ट्रीय विधवा दिवस को मनाना शुरू किया गया है।

इतिहास:

सभी उम्र, क्षेत्र और संस्कृति की विधवाओं की स्थिति को विशेष पहचान देने के लिए संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 23 जून 2011 को पहली बार अंतर्राष्ट्रीय विधवा दिवस की घोषणा की जो प्रतिवर्ष मनाया जाएगा।

ब्रिटेन की लूम्बा फाउन्डेशन विश्वभर में विधवाओं के खिलाफ होने वाले अत्याचारों को लेकर 7 वर्षों से संयुक्त राष्ट्र संघ में अभियान चला रही थी। इसी संस्था के प्रयास से संयुक्त राष्ट्र में विधवाओं के खिलाफ जारी अत्याचारों के आंकड़ों के आधार पर विधवा दिवस घोषित किया।

विधवाओं की स्थिति:

एक अनुमान के अनुसार पूरी दुनिया में लगभग 12 करोड़ विधवा महिलायें ग़रीबी में रहती हैं और लगभग 8 करोड़ महिलाओं को शारीरिक शोषण का सामना करना पड़ता है। एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में लगभग 4 करोड़ विधवायें रहती हैं। 15 हजार विधवाएं तो वृन्दावन की सड़को पर ही रहती हैं।

विधवाओं और उनके बच्चों से दुर्व्यवहार मानव अधिकारों का हनन हैं और आज के समय में किसी भी देश के विकास में यह एक सबसे बड़ी बाधा हैं। सुलभ इंटरनेशनल के संस्थापक बिन्देश्वर पाठक ने भारत में विधवाओं के संरक्षण के लिए एक विधेयक का मसौदा तैयार किया है।

You might be interested:

इवनिंग न्यूज़ डाइजेस्ट: 23 जून 2018 (PDF सहित)

राइट्स आईपीओ के तहत सरकार ने 12.6 प्रतिशत हिस्‍सा बेचा: सरकारी उपक्रम राइट्स ...

एक साल पहले

वन लाइनर्स ऑफ़ द डे: 23 जून 2018

राष्ट्रीय भारत ने इस देश से बादाम, अखरोट और दालों सहित 29 उत्पादों पर आयात शुल ...

एक साल पहले

बैंकिंग डाइजेस्ट: 23 जून 2018

राष्ट्रीय भारत ने इस देश से बादाम, अखरोट और दालों सहित 29 उत्पादों पर आयात शुल ...

एक साल पहले

सिविल सेवा में लैटरल एंट्री

सिविल सेवा में लैटरल एंट्री: केंद्र सरकार देश की सबसे प्रतिष्ठित मानी जाने व ...

एक साल पहले

संघर्ष और जलवायु परिवर्तन की वजह से विश्व में भुखमरी से जूझती आबादी की संख्या बढ़ी: यूएन रिपोर्ट

संघर्ष और जलवायु परिवर्तन की वजह से विश्व में भुखमरी से जूझती आबादी की संख्य ...

एक साल पहले

इवनिंग न्यूज़ डाइजेस्ट: 22 जून 2018 (PDF सहित)

भारत ने अमेरिका से आने वाले 29 उत्पादों पर आयात शुल्क बढ़ाने का फैसला किया: भा ...

एक साल पहले

Provide your feedback on this article: