Bookmark Bookmark

बैंकिंग अवेयरनेस: भारत में वित्तीय बाजार साधन

मुद्रा बाजार साधन

(a) कॉल मनी (Call Money): कॉल मनी वह पैसा है जो मुख्य रूप से बैंकों द्वारा अस्थायी आवश्यकता को पूरा करने के लिए उपयोग किया जाता है। इस तरह सामान्य रूप से एक दिन के लिए एक दूसरे से धन उधार लेते हैं और उधार देते हैं। यह मांग पर चुकता कर दिया जा सकता है और उसकी परिपक्वता अवधि एक दिन से एक पखवाड़े के बीच होती है। कॉल मनी ऋण पर जो ब्याज की दर होती है उसे कॉल दर के रूप में जाना जाता है।

(b) ट्रेजरी बिल् (Treasury Bill): ट्रेज़री बिल यह निधि की अल्पकालिक आवश्यकता को पूरा करने के लिए आरबीआई द्वारा जारी एक वचन पत्र है। ट्रेजरी बिल अत्यधिक तरल प्रतिभूति हैं, जिसका अर्थ है की किसी भी समय ट्रेज़री बिल धारक इसे आरबीआई से भुगतान प्राप्त कर सकते हैं। ये बिल आमतौर पर उनके अंकित मूल्य से कम कीमत पर जारी किए जाते हैं; और अंकित मूल्य पर भुनाया जाता है। इसलिए इक्विटी मूल्य और ट्रेजरी बिल के अंकित मूल्य के बीच का अंतर निवेश पर ब्याज को दर्शाता है। ये बिल सुरक्षित साधन हैं और एक वर्ष से कम अवधि के लिए जारी किए जाते हैं। बैंक, वित्तीय संस्थान और निगम सामान्य तौर पर ट्रेजरी बिल बाजार में प्रमुख भूमिका निभाते हैं।

(c) वाणिज्यिक पत्र (Commercial Paper): वाणिज्यिक पत्र (सीपी) कंपनियों की कार्यशील पूंजी आवश्यकताओं के वित्तपोषण का एक लोकप्रिय साधन है। सीपी एक असुरक्षित साधन है जो कि वचन पत्र के रूप में जारी किया जाता है। यह साधन कॉर्पोरेट उधारकर्ताओं को अल्पकालिक धन जुटाने में मदद करने के हेतु से 1990 में शुरू किया गया था इसे 15 दिनों से लेकर एक वर्ष तक की अवधि के लिए जारी किया जा सकता है। वाणिज्यिक कागजात हस्तांतरण और वितरण द्वारा हस्तांतरणीय हैं। अत्यधिक प्रतिष्ठित कंपनिया (ब्लू चिप कंपनि) वाणिज्यिक पेपर बाजार की प्रमुख खिलाड़ी हैं।

(d) जमाराशि का प्रमाण पत्र (Certificate of Deposit): जमाराशि प्रमाणपत्र (सीडी) वाणिज्यिक बैंकों और विशेष वित्तीय संस्थानों (SFIs) द्वारा जारी अल्पकालिक साधन हैं, जिन्हें एक पार्टी से दूसरी पार्टी को हस्तांतरण करने की आज़ादी हैं। सीडी की परिपक्वता अवधि 91 दिन से एक वर्ष तक की होती है। इन्हे व्यक्तियों, सहकारी समितियों और कंपनियों को जारी किया जा सकता हैं।

(e) ट्रेड बिल: आम तौर पर व्यापारि थोक विक्रेताओं या निर्माताओं से माल क्रेडिट पर खरीदते हैं। क्रेडिट अवधि के पूरा होने के बाद विक्रेताओं को भुगतान मिलता है। लेकिन अगर कोई भी विक्रेता इंतजार नहीं करना चाहता है या उसे तुरंत धन की आवश्यकता है तो वह खरीदार के पक्ष में विनिमय बिल बना सकता है। जब खरीदार इस बिल को स्वीकार करता है तब यह एक परक्राम्य साधन बन जाता है और उसे एक्सचेंज या ट्रेड बिल के नाम से जाना जाता है। यह ट्रेड बिल अब परिपक्वता से पहले बैंक से भुनाया जा सकता है। परिपक्वता पर बैंक को अदाकर्ता यानी माल के खरीदार से भुगतान मिलता है। जब ट्रेड बिल वाणिज्यिक बैंकों द्वारा स्वीकार किए जाते हैं, तो इसे वाणिज्यिक बिलों के रूप में जाना जाता है। इस प्रकार ट्रेड बिल एक साधन है, जो कार्य की पूंजी आवश्यकताओं को पूरा करने करने हेतु लगने वाले लघु अवधि को धन आवश्यकता प्रदान करने में बिल के अदाकर्ता को सक्षम बनाता है।

पूंजी बाजार

बाजार जहां सिक्योरिटीज का कारोबार किया जाता है उन्हें सिक्योरिटीज मार्केट के रूप में जाना जाता है। इसमें प्राथमिक और द्वितीयक बाजार ये दो अलग-अलग खंड होते हैं। प्राथमिक बाजार सिक्यूरिटि के नए या ताजा मसलों के साथ व्यवहार करता है और इसलिए इसे न्यू इशु मार्केट के रूप में भी जाना जाता है; जबकि द्वितीयक बाजार मौजूदा प्रतिभूतियों की खरीद और बिक्री के लिए जगह प्रदान करता है और इसे अक्सर शेयर बाजार या स्टॉक एक्सचेंज के रूप में जाना जाता है।

प्राथमिक बाजार

प्राथमिक बाजार में ऐसी व्यवस्थाएं होती हैं, जो कंपनियों द्वारा शेयरों और डिबेंचर रूप में लंबी अवधि के धन की सुविधा प्रदान करते हैं। आप जानते हैं कि कंपनियां अपने गठन के चरण में और यदि आवश्यक हो तो बाद में व्यापार के विस्तार के लिए शेयरों और / या डिबेंचर के नए इश्यू जारी करती हैं। यह आमतौर पर निजी प्लेसमेंट के माध्यम से दोस्तों, रिश्तेदारों और वित्तीय संस्थानों के माध्यम से या सार्वजनिक इश्यू बनाकर किया जाता है। किसी भी मामले में, कंपनियों को अच्छी तरह से स्थापित कानूनी प्रक्रिया का पालन करना पड़ता है और ऐसे अंडरराइटर्स, दलाल आदि जैसे कई मध्यस्थों को शामिल करना पड़ता है जो प्राथमिक बाजार का एक अभिन्न हिस्सा हैं।

द्वितीयक बाजार

स्टॉक मार्केट या स्टॉक एक्सचेंज के रूप में जाना जाने वाला द्वितीयक बाजार, शेयरों और डिबेंचर में होल्डिंग्स को आवश्यक तरलता प्रदान करके दीर्घकालिक फंड्स को जुटाए में समान रूप से महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह एक ऐसा स्थान प्रदान करता है जहां किसी भी कठिनाई और देरी के बिना इन प्रतिभूतियों को भुनाया जा सकता है। यह एक संगठित बाजार है जहां शेयर और डिबेंचर नियमित रूप से उच्च स्तर की पारदर्शिता और सुरक्षा के साथ व्यवहार कर रहे हैं। वास्तव में, एक सक्रिय द्वितीयक बाजार प्राथमिक बाजार के विकास की सुविधा देता है क्योंकि प्राथमिक बाजार में निवेशकों को उनकी होल्डिंग की तरलता के लिए एक सतत बाजार का आश्वासन दिया जाता है। प्राथमिक बाजार में प्रमुख खिलाड़ी मर्चेंट बैंकर, म्यूचुअल फंड, वित्तीय संस्थान और व्यक्तिगत निवेशक हैं।

You might be interested:

विश्व जल दिवस: 22 मार्च

विश्व जल दिवस: 22 मार्च विश्व जल दिवस 22 मार्च को पूरे विश्व में मनाया जाता है। इसका उद्देश्य विश्व ...

5 महीने पहले

अंतर्राष्ट्रीय वन दिवस: 21 मार्च

अंतर्राष्ट्रीय वन दिवस: 21 मार्च 21 मार्च, 2018 को संपूर्ण विश्व में अंतर्राष्ट्रीय वन दिवस (International Day of Fo ...

5 महीने पहले

वन लाइनर्स ऑफ़ द डे: 22 मार्च 2018

राष्ट्रीय इस जिले में करीब 120 करोड़ रुपए की लागत से एक प्लास्टिक पार्क तथा एक प्लास्टिक रिसाइकल ...

5 महीने पहले

बैंकिंग डाइजेस्ट: 22 मार्च 2018

राष्ट्रीय इस जिले में करीब 120 करोड़ रुपए की लागत से एक प्लास्टिक पार्क तथा एक प्लास्टिक रिसाइकल ...

5 महीने पहले

इवनिंग न्यूज़ डाइजेस्ट: 21 मार्च 2018

बिहार के राज्यपाल को ओडिशा के राज्यपाल का अतिरिक्त प्रभार दिया गया: बिहार के राज्यपाल सत्यपाल ...

5 महीने पहले

करेंट अफेयर्स: 19-20 मार्च विडियो

करेंट अफेयर्स: 19-20 मार्च विडियो- दर्शको और पाठकों को आज के टॉप 10 परीक्षा-उपयोगी करेंट अफेयर्स ...

5 महीने पहले

Provide your feedback on this article: