Bookmark Bookmark

भारत के पहले ट्रांस-शिपमेंट हब कोच्चि पोर्ट के वल्लारपदम टर्मिनल

भारत के पहले ट्रांस-शिपमेंट हब कोच्चि पोर्ट के वल्लारपदम टर्मिनल

केंद्रीय पोत परिवहन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री मनसुख मंडाविया ने कोच्चि बंदरगाह के वल्लारपदम टर्मिनल की विकास गतिविधियों की समीक्षा की।

प्रमुख बिंदु:

  • इसकी परिकल्पना भारत के पहले ट्रांस-शिपमेंट पोर्ट के रूप में की गई है जिसे डीपी वर्ल्ड द्वारा प्रबंधित किया जाता है।
  • सरकार का लक्ष्य भारत के ट्रांस-शिपमेंट हब और दक्षिण एशिया में अग्रणी हब बनाने की दृष्टि को प्राप्त करना है।
  • बंदरगाह का विकास यह सुनिश्चित करेगा कि भारतीय कार्गो ट्रांस-शिप इंडियन पोर्ट के माध्यम से हो।
  • ट्रांस-शिपमेंट हब दरअसल पोत पर वो टर्मिनल है जो कंटेनरों को संभालता है, उन्हें अस्थायी रूप से संग्रहीत करता है और उन्हें आगे के गंतव्य के लिए अन्य जहाजों में स्थानांतरित करता है।
  • कोच्चि इंटरनेशनल कंटेनर ट्रांस-शिपमेंट टर्मिनल (आईसीटीटी), जिसे स्थानीय तौर पर वल्लारपदम टर्मिनल के नाम से जाना जाता है, वो रणनीतिक रूप से भारतीय तटरेखा पर स्थित है। ट्रांस-शिपमेंट हब के रूप में इसे विकसित करने के लिए आवश्यक सभी मानदंडों को ये सफलतापूर्वक पूरा करता है।

टिपण्णी:

  • ट्रांस-शिपमेंट हब के विकास के लिए मापदंड में शामिल हैं:
  1. अंतर्राष्ट्रीय समुद्री मार्गों से निकटता के लिहाज से ये सबसे श्रेष्ठ जगह पर स्थित भारतीय बंदरगाह है;
  2. ये सभी भारतीय फीडर बंदरगाहों से कम से कम औसत समुद्री दूरी पर स्थित है;
  3. भारत के प्रमुख भीतरी इलाकों के बाजारों से इसकी निकटता है;
  4. इसमें आवश्यकता के अनुसार बड़े जहाजों और क्षमता को प्रबंधित करने और बढ़ाने के लिए बुनियादी ढांचा है।

You might be interested:

क्लेम्सन विश्वविद्यालय के नेतृत्व में अध्ययन जलवायु परिवर्तन के कारण अधिक बारिश और शुष्क मौसम का सुझाव देता है

क्लेम्सन विश्वविद्यालय के नेतृत्व में अध्ययन जलवायु परिवर्तन के कारण अधिक ...

5 महीने पहले

स्टार्ट अप्स की सहायता करने के लिए अटल इनोवेशन मिशन द्वारा डेमो दिवसों की श्रृंखला का आयोजन

स्टार्ट अप्स की सहायता करने के लिए अटल इनोवेशन मिशन द्वारा डेमो दिवसों की श् ...

5 महीने पहले

डिजिटल शिक्षा पर ‘प्रज्ञाता’ दिशा-निर्देश जारी किए गए

डिजिटल शिक्षा पर ‘प्रज्ञाता’ दिशा-निर्देश जारी किए गए केंद्रीय मानव संस ...

5 महीने पहले

नाबार्ड द्वारा पैक्स के कम्प्यूटरीकरण के लिए 5,000 करोड़ रुपये की योजना शुरू की गई

नाबार्ड द्वारा पैक्स के कम्प्यूटरीकरण के लिए 5,000 करोड़ रुपये की योजना शुरू क ...

5 महीने पहले

आईआईटी कानपुर द्वारा विकसित यूवी सैनिटाइजिंग डिवाइस 'शुद्ध'

आईआईटी कानपुर द्वारा विकसित यूवी सैनिटाइजिंग डिवाइस 'शुद्ध' भारतीय प्रौद्य ...

5 महीने पहले

Provide your feedback on this article: