Guest
Welcome, Guest

Login/Register

महत्त्वपूर्ण लिंक

हमसे सम्पर्क करें

Bookmark Bookmark

भारत में नील वायरस की शुरुआत

भारत में नील वायरस की शुरुआत

केरल में सात साल के एक लड़के को वेस्ट नील वायरस का संक्रमण होने की बात पता चली है।    

यह वायरस एक मच्छर के काटने से मनुष्य के शरीर में प्रवेश करता है और इसके अधिकतर मामले उत्तर अमेरिका में सामने आये हैं।

वायरस के संक्रमण के शिकार लोगों को बुखार, सिरदर्द, शरीर में दर्द, चक्कर आना, उल्टी आना और त्वचा पर निशान पड़ना आदि शिकायतें होती हैं। 

वेस्ट नील वायरस (West Nile Virus)

वेस्ट नील वायरस एक मच्छर जनित रोग है।

वेस्ट नील वायरस मनुष्यों में एक घातक न्यूरोलॉजिकल बीमारी का कारण बन सकता है। हालांकि, इससे संक्रमित लगभग 80% लोगों में इसके लक्षण लक्षण पता नहीं लग पाते हैं।

यह वायरस घोड़ों में गंभीर बीमारी और मृत्यु का कारण बन सकता है। घोड़ों को रोग से बचाने के लिए इस्तेमाल किये जाने वाले टीके उपलब्ध हैं लेकिन अभी तक मनुष्य के लिए उपलब्ध नहीं हैं।

You might be interested:

भारत और अमरीका के बीच वार्ता में देश-दर-देश (सीबीसी) रिपोर्ट के आदान-प्रदान के लिए द्विपक्षीय समझौते पर हस्‍ताक्षर

भारत और अमरीका के बीच वार्ता में देश-दर-देश (सीबीसी) रिपोर्ट के आदान-प्रदान के ...

10 महीने पहले

राष्‍ट्रपति ने गांधीनगर में नवाचार और उद्यमिता उत्‍सव का उद्घाटन किया

राष्‍ट्रपति ने गांधीनगर में नवाचार और उद्यमिता उत्‍सव का उद्घाटन किया रा ...

10 महीने पहले

जनप्रतिनिधित्व कानून 1951 की धारा 29 (ए) के अंतर्गत राजनीतिक दलों का पंजीकरण

जनप्रतिनिधित्व कानून 1951 की धारा 29 (ए) के अंतर्गत राजनीतिक दलों का पंजीकरण राज ...

10 महीने पहले

वन लाइनर्स ऑफ़ द डे : 16 मार्च 2019

राष्ट्रीय  यूएस स्पेशल ऑपरेशंस फोर्सेस ने भारत के इस शहर में एनएसजी के साथ ...

10 महीने पहले

बैंकिंग डाइजेस्ट : 16 मार्च 2019

राष्ट्रीय  यूएस स्पेशल ऑपरेशंस फोर्सेस ने भारत के इस शहर में एनएसजी के सा ...

10 महीने पहले

दैनिक समाचार डाइजेस्ट:15 March 2019

GoDaddy आईसीसी विश्व कप 2019 का आधिकारिक प्रायोजक बनावेबसाइट होस्टिंग कंपनी गोडैड ...

10 महीने पहले

Provide your feedback on this article: