Bookmark Bookmark

भारतीय इतिहास अभ्यास प्रश्न: सेट-5

प्रश्न 1: 1892 के इंडियन काउंसिल एक्ट भारतीय परिषद अधिनियम ) के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:

1. केंद्रीय इंपीरियल) और प्रांतीय विधान परिषदों के सदस्यों का निर्वाचन अप्रत्यक्ष रुप से किया जा सकता था

2. परिषदों के सदस्यों को बजट में संशोधन का प्रस्ताव देने की शक्तियां भी गयी  थीI

उपर्युक्त कथन में से कौन सा/से सही है/ हैं ?

(a) केवल 1

(b) केवल 2

(c) 1 और 2 दोनों

(d) न तो 1 न ही 2

Answer: a

Explanation: कथन 1 सही है I राष्ट्रवादी आंदोलन में भारतीय परिषद अधिनियम 1892 के द्वारा सरकार को विधIई कामकाज में कुछ परिवर्तन करने के लिए विवश किया Iविदाई कामकाज में कुछ परिवर्तन करने के लिए विवश किया  I प्रांतीय और केंद्रीय इंपीरियल विधान परिषदों के अतिरिक्त सदस्यों की संख्या को पहले के 6-10 के स्थान पर बढ़ाकर 10 से 16 कर दिया गया था I इन सदस्यों में से कुछ को नगर निगम जिला बोर्डों, समितियों  आधी के माध्यम से आदि परोक्ष रुप में चुना जा सकता था, किंतु आधिकारिक बहुमत का नियम जारी रहेगा I बहुमत का नियम जारी रहा  I

कथन 2 सही नहीं है I सदस्यों को वार्षिक बजट पर चर्चा करने का अधिकार दिया गया था, किंतु है ना तो इस पर मतदान कर सकते थे और ना ही इसमें संशोधन करने के लिए कोई प्रस्ताव प्रस्तुत कर सकते थे I वे प्रश्न भी पूछ सकते थे लेकिन उन्हें अनुपूरक प्रश्न कर के उत्तर पर चर्चा करने की अनुमति नहीं थी I

-----------------------------------------------------------------------

प्रश्न 2: भारत में निम्नलिखित में से कौन सी घटनाएं द्वितीय विश्व युद्ध के तत्काल बाद घटित हुई ?

1. तेलंगना संघर्ष

2. वार्लिस विद्रोह

3. तेभागा आंदोलन

4. पुनप्रा वायलार विद्रोह

 नीचे दिए गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर लिखिए :

(a) केवल 1 और 3

(b) केवल 2 और 3

(c) केवल 2 और4

(d) 1, 2, 3 और 4

Answer: d

Explanation: तेलंगना संघर्ष 1946 में हुआ था I वर्लीस विद्रोह ठाणे, महाराष्ट्र में 1945 से 1947 के दौरान हुआ  किसान विद्रोह था I तेभागा आंदोलन 1946 में हुआ था I पुनप्रा- वायलरपुन, त्रावणकोर रियासत में 1946 में वह एक धरासना समाजवादी विद्रोह थाI दी गई सभी घटनाएं द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद घटित हुई थी

 

----------------------------------------------------------------------

प्रश्न 3: धारासना सत्याग्रह के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए;

1. इसका उद्देश्य नमक कर का विरोध करना था I

2. इसका नेतृत्व सरोजिनी नायडू द्वारा किया गया था I

3. इसे सविनय अवज्ञा आंदोलन के दौरान आरंभ किया गया था I

 उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा / से सही हैं / हैं ?

(a) केवल 2

(b) केवल 1और 2

(c) केवल 2 और 3

(d) 1, 2 और 3

Answer: d

Explanation: कथन 1 सही है I धारासना सत्याग्रह औपनिवेशिक भारत में मई ,1930 में ब्रिटिश नमक कानून के विरुद्ध किया गया एक आंदोलन था I कथन 2 सही हैI सरोजिनी नायडू, इमाम साहब दक्षिण अफ्रीका के संघर्ष के गांधी जी के सहयोगी )और गांधी जी के बेटे मणिलाल ने धरासना नमक सत्याग्रह में भागीदारी की थी I कथन 3 सही है I इस का प्रारंभ सविनय अवज्ञा के द्वारा किया गया थाI

----------------------------------------------------------------------

प्रश्न 4: कांग्रेस के 1905 के बनारस सत्र के संबंध में निम्नलिखित में से कौन सा/ से कथन सही है/ हैं?

1. इसकी अध्यक्षता दादाभाई नौरोजी द्वारा की गई थी

2. इस सत्र में सुशासन या स्वराज को कांग्रेस का लक्ष्य घोषित किया गया थाI

3. इस ग्रुप में इस सफर में सह में स्वदेशी आंदोलन को बंगाल के बाहर तक विस्तारित करने का निर्णय किया गया था

 नीचे गए दिए गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिए:

(a) केवल 1

(b) केवल 1 और 2

(c) केवल 2 और 3

(d) कोई नहीं

Answer: d

Explanation: कथन 1 सही नहीं है I भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के बनारस सत्र की अध्यक्षता गोपाल कृष्ण गोखले द्वारा की गई थी I कथन 2 सही नहीं है I कलकत्ता में 1906 के सफर में यूनाइटेड किंगडम या उप निरीक्षकों की भांति स्वशासन या स्वराज को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का लक्ष्य घोषित किया गया था I इस सत्र की अध्यक्षता दादाभाई नौरोजी द्वारा रखी गई थी I कथन 3 सही नहीं है I भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने स्वदेशी की आह्वान को स्वीकार किया एवं गोपाल कृष्ण गोखले की अध्यक्षता में संपन्न बनारस सत्र ,1905 में बंगाल के लिए स्वदेशी अभियान एवं बहिष्कार आंदोलन का समर्थन किया I लेकिन तिलक, विपिन चंद्र पाल ,लाला लाजपत राय और अरविंद घोष ने के नेतृत्व में गरमपंथी राष्ट्रवादी शेष भारत में इस आंदोलन को विस्तार देने एवं स्वरूप को एकमात्र स्वदेशी और बहिष्कार कार्यक्रम से परे ले जाकर पूर्ण रूप से राजनीतिक जन संघर्ष का रुप दिए जाने के पक्ष में थे I इसका उद्देश्य अब स्वराज था और विभाजन को रद्द करना सबसे तेज और सबसे संकीर्ण राजनीतिक उद्देश्य रह गया था किंतु नरमपंथी सामान्यतः अभी उस सीमा तक जाने के इच्छुक भी नहीं थे I

-------------------------------------------------------------------------

प्रश्न 5: भारत के स्वतंत्रता संघर्ष के दौरान निमनलिखित घटनाक्रमों पर विचार कीजिए :

1. नेहरू रिपोर्ट

2. साइमन कमीशन

3. डांडी मार्च

4. कम्युनल अवार्ड

निम्नलिखित में से उपयुक्त घटनाक्रमों का सही कालक्रम कौन- सा है?

(a) 2-1-3-4

(b) 1-2-3-4

(c) 2-3-1-4

(d) 2 -1-4-3

Answer: a

Explanation: नेहरू रिपोर्ट साइमन कमीशन के विकल्प के रूप में तैयार की गई थी I इसे अगस्त 1928 में अंतिम रूप दिया गया था I सविनय अवज्ञा आंदोलन 12 मार्च 1930 को दांडी मार्च के साथ आरंभ हुआ I सांप्रदायिक पुरस्कार कम्युनल अवार्ड) की घोषणा 1932 में की गई थी I

You might be interested:

विज्ञानं एवं प्रोद्यौगिकी अभ्यास प्रश्न: सेट-4

प्रश्न 1: इंडियन पेंगोलिन के संदर्भ में, निम्नलिखित में से कौन-सा/ से कथन सही है/ हैं? 1. यह एक स्तनधा ...

10 महीने पहले

वन लाइनर्स ऑफ़ द डे: 11 दिसंबर 2017

राष्ट्रीय असम सरकार इस मंदिर को देश के सबसे स्वच्छ तीर्थ स्थल के रूप में बनाना चाहती है - कामाख् ...

10 महीने पहले

बैंकिंग डाइजेस्ट: 11 दिसंबर 2017

राष्ट्रीय असम सरकार इस मंदिर को देश के सबसे स्वच्छ तीर्थ स्थल के रूप में बनाना चाहती है - कामाख् ...

10 महीने पहले

केवल 31% भारतीयों के पास ही अलग से स्वास्थ्य बीमा पालिसी हैं: रिपोर्ट

केवल 31% भारतीयों के पास ही अलग से स्वास्थ्य बीमा पालिसी हैं: रिपोर्ट अधिकतर भारतीय व्यक्ति या तो ...

10 महीने पहले

विश्व मानवाधिकार दिवस: 10 दिसंबर

विश्व मानवाधिकार दिवस: 10 दिसंबर विश्व मानवाधिकार दिवस प्रत्येक वर्ष 10 दिसंबर को दुनिया भर में म ...

10 महीने पहले

इवनिंग न्यूज़ डाइजेस्ट: 10 दिसंबर 2017

यूएई जल्द ही भारत में तीन नए कांसुलर कार्यालय खोलेगा: नई दिल्ली में यूएई दूतावास ने घोषणा की है ...

10 महीने पहले

Provide your feedback on this article: