Bookmark Bookmark

भारतीय रिज़र्व बैंक के आंकड़ों के अनुसार, भुगतान संबंधित डाटा केवल भारत में संग्रहीत किया जाना चाहिए

भारतीय रिज़र्व बैंक के आंकड़ों के अनुसार, भुगतान संबंधित डाटा केवल भारत में संग्रहीत किया जाना चाहिए

भारतीय रिजर्व बैंक ने 26 जून को कहा कि भुगतान से संबंधित सभी डेटा केवल भारत में संग्रहीत किए जाने चाहिए।

भारतीय रिजर्व बैंकने भुगतान प्रणाली ऑपरेटरों (पीएसओ) द्वारा उठाए गए कुछ कार्यान्वयन मुद्दों पर कहा, 'पूरे भुगतान डेटा को केवल भारत में स्थित सिस्टम में स्टोर किया जाएगा।'

आरबीआई ने 6 अप्रैल, 2018 को 'भुगतान प्रणाली डेटा का भंडारण' पर एक निर्देश जारी किया था। इसने सभी सिस्टम प्रदाताओं को यह सुनिश्चित करने की सलाह दी थी कि छह महीने की अवधि के भीतर, उनके द्वारा संचालित भुगतान प्रणालियों से संबंधित संपूर्ण डेटा केवल भारत में एक सिस्टम में स्टोर हो।

विदेशों से होने वाले लेनदेन के मामले में क्रास बॉर्डर डेटा के घरेलू हिस्से की कॉपी विदेश में स्टोर की जा सकती है। हालांकि पेमेंट ट्रांजेक्शन की प्रोसेसिंग विदेश में की जा सकती है।

RBI ने कहा, 'हालांकि, डेटा को प्रोसेसिंग के बाद ही भारत में स्टोर किया जाएगा। लेन-देन का पूरा ब्योरा डेटा का हिस्सा होना चाहिए।' आरबीआई ने स्पष्ट किया कि विदेश में लेनदेन के लिए घरेलू डेटा की एक कॉपी विदेश में स्टोर की जा सकती है।

You might be interested:

नीति आयोग का स्वास्थ्य सूचकांक

नीति आयोग का स्वास्थ्य सूचकांक स्वास्थ्य और चिकित्सा सेवाओं के मोर्चे पर प ...

एक साल पहले

दैनिक समाचार डाइजेस्ट:26 June 2019

भारत में जयपुर फुट कोरिया का लांचभारत में दक्षिण कोरिया के एम्बेसडर बोंग-कि ...

एक साल पहले

वन लाइनर्स ऑफ द डे, 27 जून 2019

दिन विशेष 2019 के नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ अंतर्राष्ट् ...

एक साल पहले

एपीईडीए ने मणिपुर में क्रेता-विक्रता बैठक का आयोजन किया

एपीईडीए ने मणिपुर में क्रेता-विक्रता बैठक का आयोजन किया कृषि और प्रसंस्‍कृ ...

एक साल पहले

अंतर्राष्ट्रीय मादक पदार्थ सेवन और तस्करी निरोध दिवस: 26 जून

अंतर्राष्ट्रीय मादक पदार्थ सेवन और तस्करी निरोध दिवस: 26 जून संयुक्त राष्ट्र ...

एक साल पहले

कारगिल युद्ध के 20 साल

कारगिल युद्ध के 20 साल भारतीय वायुसेना ने कारगिल युद्ध (मई-जुलाई, 1999) की 20वीं साल ...

एक साल पहले

Provide your feedback on this article: