Guest
Welcome, Guest

Login/Register

महत्त्वपूर्ण लिंक

हमसे सम्पर्क करें

Bookmark Bookmark

भूमिगत जल निकालने के लिए संशोधित दिशा-निर्देश अधिसूचित

भूमिगत जल निकालने के लिए संशोधित दिशा-निर्देश अधिसूचित

केन्द्रीय भूमिगत जल प्राधिकरण, जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्रालय ने भूमिगत जल निकालने के लिए 12 दिसंबर, 2018 को संशोधित दिशा-निर्देश अधिसूचित किए हैं। यह दिशा-निर्देश 01 जून, 2019 से प्रभावी होंगे।

यह दिशा-निर्देश नेशनल ग्रीन ट्राइब्यूनल (राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण) के विभिन्न दिशा-निर्देशों का पालन करने और भूमिगत जल निकालने के संबंध में वर्तमान दिशा-निर्देशों में मौजूद विभिन्न कमियों को दूर करने के लिए हैं।

संशोधित दिशा-निर्देशों का उद्देश्य देश में एक अधिक मजबूत भूमिगत जल नियामक तंत्र सुनिश्चित करना है।

विशेषता जल संरक्षण शुल्क

संशोधित दिशा-निर्देशों की एक महत्वपूर्ण विशेषता जल संरक्षण शुल्क (डब्ल्यूसीएफ) की अवधारणा शुरू करना है। इस शुल्क का क्षेत्र की श्रेणी, उद्योग के प्रकार और भूमिगत जल निकालने की मात्रा के अनुसार अलग-अलग भुगतान करना होगा।

जल संरक्षण शुल्क की उच्च दरों से उन इलाकों में नए उद्योगों को स्थापित करने से रोकने की कोशिश हो सकेगी जहां जमीन से अत्याधिक मात्रा में पानी निकाला जा चुका है। साथ ही यह उद्योगों द्वारा बड़ी मात्रा में भूमिगत जल निकालने के एक निवारक के रूप में काम करेगा।

इस शुल्क से उद्योगों को पानी के इस्तेमाल के संबंध में उपाय करने और पैक किए हुए पीने के पानी की इकाईयों की वृद्धि को हतोत्साहित किया जा सकेगा।

भारत दुनिया में भूमिगत जल का सबसे बड़ा उपयोगकर्ता है जो हर वर्ष 253 बीसीएम भूमिगत जल निकालता है। यह दुनिया में जमीन से निकाले जाने वाले पानी का करीब 25 प्रतिशत है।

You might be interested:

इंडिया पोस्ट ने ई-कॉमर्स पोर्टल लॉन्च किया

इंडिया पोस्ट ने ई-कॉमर्स पोर्टल लॉन्च किया केंद्रीय संचार राज्य मंत्री मनो ...

7 महीने पहले

GSAT-7A को दिसम्बर 19 को लॉन्च किया जाएगा

GSAT-7A को दिसम्बर 19 को लॉन्च किया जाएगा भारतीय अन्तरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) दिसम ...

7 महीने पहले

दैनिक समाचार डाइजेस्ट:15 December 2018

इको निवास संहिता 2018 लांचविद्युत मंत्रालय ने रिहायशी इमारतों के लिए ऊर्जा सं ...

7 महीने पहले

जलवायु परिवर्तन प्रदर्शन सूचकांक में भारत 11वें स्थान पर रहा

जलवायु परिवर्तन प्रदर्शन सूचकांक में भारत 11वें स्थान पर रहा ग्लोबल वार्मिं ...

7 महीने पहले

अंग्रेजी लेखक अमिताव घोष ज्ञानपीठ-2018 के लिए चुने गए

अंग्रेजी लेखक अमिताव घोष ज्ञानपीठ-2018 के लिए चुने गए अंग्रेजी के प्रतिष्ठित स ...

7 महीने पहले

अशोक गेहलोत होंगे राजस्थान के मुख्यमंत्री व सचिन पायलट उपमुख्यमंत्री

अशोक गेहलोत होंगे राजस्थान के मुख्यमंत्री व सचिन पायलट उपमुख्यमंत्री कांग ...

7 महीने पहले

Provide your feedback on this article: