Bookmark Bookmark

दैनिक समाचार डाइजेस्ट:13 July 2020

IT विभाग द्वारा नकद निकासियों पर टीडीएस की लागू दरों का पता लगाने की सुविधा उपलब्ध कराई

नकदी की निकासी पर स्रोत (टीडीएस) पर कर कटौती की दरों का निर्धारण करने में बैंकों और डाकघरों की सुविधा के लिए आयकर विभाग द्वारा एक नया उपकरण शुरू किया गया है। नई कार्यप्रणाली के माध्यम से आयकर रिटर्न नहीं भरने वालों (नॉन फाइलर्स) के मामले में 20 लाख रुपये से अधिक और आयकर रिटर्न दाखिल करने वालों के मामले में 1 करोड़ रुपये से अधिक नकद निकासी पर लागू टीडीएस दर का पता लगाया जा सकता है।

मध्य प्रदेश सरकार द्वारा मास्क नहीं पहनने वालों के लिए ‘रोको-टोको’ अभियान

मध्य प्रदेश सरकार रोको-टोको अभियान शुरू करेगी जो ऐसे लोगों को याद दिलाने के लिए ‘रुकना और याद दिलाना’ है जो मास्क नहीं पहनते हैं क्योंकि सरकार द्वारा मास्क का उपयोग अनिवार्य कर दिया गया है।

एनटीपीसी लिमिटेड को सीआइआइ-आइटीसी सस्टेनेबिलिटी अवार्ड 2019 प्रदान किया गया

नेशनल थर्मल पावर कॉरपोरेशन, (एनटीपीसी) लिमिटेड ने, एक केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रम (PSU) विद्युत मंत्रालय के कॉर्पोरेट उत्कृष्टता के तहत उत्कृष्ट उपलब्धि के लिए प्रतिष्ठित CII-ITC स्थिरता पुरस्कार 2019 से सम्मानित किया गया है। सीआइआइ-आइटीसी सस्टेनेबिलिटी अवार्ड्‌स सस्टेनेबिलिटी की दिशा में किए गए उत्कृष्ट प्रयासों को मान्यता देते हैं और पुरस्कृत करते हैं।

डब्ल्यूडब्ल्यूएफ ने म्यांमार में लुप्तप्राय प्रजातियों की वाणिज्यिक खेती के कारण दुर्लभ जानवरों की मांग में वृद्धि के बारे में चेतावनी दी है

पर्यावरण संरक्षण समूह, विश्व वन्यजीव कोष (डब्ल्यूडब्ल्यूएफ) और फॉना और फ्लोरा इंटरनेशनल (एफएफआई) ने चेतावनी जारी की है कि म्यांमार कानून के तहत किए गए संशोधनों से लुप्तप्राय जानवरों की व्यावसायिक खेती की अनुमति मिलती है, जिससे दुनिया भर में दुर्लभ जानवरों की मांग बढ़ जाएगी। म्यांमार सरकार द्वारा जून में एक कानून पारित किया गया था, जिसमें निजी चिड़ियाघरों को 90 वन्यजीवों की प्रजातियों के प्रजनन की अनुमति दी गई थी, जिनमें से 20 से अधिक लुप्तप्राय हैं। वन्यजीव जानवरों की व्यावसायिक खेती की सूची में अय्यारवड्डी डॉल्फिन, पैंगोलिन, सियामी मगरमच्छ और टाइगर शामिल हैं और दुनिया की लुप्तप्राय प्रजातियों में से हैं। देश अवैध व्यापार का केंद्र भी है, और म्यांमार में वन्यजीवों की मांग चीन से पैदा होती है।

वीएनआईआर बायोटेक्नोलोजीज प्राइवेट लिमिटेड द्वारा शुरू की गई कोविड-19 परीक्षण किट में उपयोग किये जाने वाले आणविक प्रोब्स लॉन्च किये

विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के एक स्वायत्त संस्थान, जवाहरलाल नेहरू सेंटर फॉर एडवांस्ड साइंटिफिक रिसर्च (जेएनसीएएसआर) की सहायक कम्पनी (स्पिनऑफ) वीएनआईआर बायोटेक्नोलोजीज प्राइवेट लिमिटेड, ने रिवर्स ट्रांसक्रिप्शन पोलीमरेज़ चेन रिएक्शन (आरटी-पीसीआर) जांच के लिए स्वदेशी फ्लोरेसेंस प्रोब्स और पॉलीमरेज़ चेन रिएक्शन (पीसीआर) का मिश्रण लॉन्च किया, जो कोविड-19 टेस्ट किट में इस्तेमाल होने वाले आणविक प्रोब्स हैं।

भारतीय रेलवे ने पहली बार सामान से भरी विशेष पार्सल रेलगाड़ी को बांग्लादेश भेजा

भारतीय रेलवे ने पहली बार देश की सीमा से परे बांग्लादेश के बेनापोल के लिए आंध्र प्रदेश के गुंटूर जिले के रेड्डीपलेम से सूखी मिर्च की एक विशेष मालगाड़ी से ढुलाई की। आंध्र प्रदेश के गुंटूर और इसके आस-पास के इलाके मिर्च की खेती के लिए प्रसिद्ध हैं। अपने स्वाद और ब्रांड में विशिष्टता के लिए इस कृषि उपज की गुणवत्ता को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर जाना जाता है।

आईएनएसटी वैज्ञानिकों ने रेमाटायड अर्थराइटिस की तीव्रता को कम करने के लिए नैनोपार्टिकल का प्रतिपादन किया

भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग की एक स्वयात्तशासी संस्था नैनो विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान (INST) के वैज्ञानिकों ने चिटोसन के साथ नैनोपार्टिकल का प्रतिपादन किया है और रेमाटायड अर्थराइटिस की तीव्रता को कम करने के लिए जिंक ग्लुकोनेट के साथ इन नैनोपार्टिकल्स को लोड कर दिया है।

संयुक्त राष्ट्र में नीति आयोग द्वारा प्रस्तुत दूसरी स्वैच्छिक राष्ट्रीय समीक्षा

नेशनल इंस्टीट्यूशन फॉर ट्रांसफॉर्मिंग इंडिया नीति आयोग ने संयुक्त राष्ट्र उच्च-स्तरीय राजनीतिक मंच (एचएलपीएफ) पर सतत विकास, 2020 पर भारत का दूसरा स्वैच्छिक राष्ट्रीय समीक्षा (वीएनआर) प्रस्तुत की। नीति आयोग के उपाध्यक्ष डॉ. राजीव कुमार ने स्वैच्छिक राष्ट्रीय समीक्षा (वीएनआर) प्रस्तुत की। ‘कार्रवाई का एक दशक: एसडीजी को वैश्विक से स्थानीय स्तर पर ले जाना’ है। उच्च-स्तरीय राजनीतिक मंच (एचएलपीएफ) 17 सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) में प्रगति की निरंतरता और समीक्षा के लिए सबसे महत्वपूर्ण अंतर्राष्ट्रीय मंच है। 

बोइंग द्वारा भारत के लिए 37 सैन्य हेलीकॉप्टरों की डिलीवरी

संयुक्त राज्य अमेरिका के एयरोस्पेस प्रमुख बोइंग ने चीन के साथ तनावपूर्ण सीमा गतिरोध के बीच जून 2020 में भारतीय वायु सेना को 22 अपाचे हमले के हेलीकॉप्टरों के अंतिम पांच की डिलीवरी सफलतापूर्वक पूरी कर ली है। हेलीकॉप्टरों के बेड़े को वास्तविक नियंत्रण रेखा के साथ प्रमुख हवाई अड्डों पर तैनात किया गया है। बोइंग ने भारतीय वायु सेना को 15 चिनूक सैन्य हेलीकॉप्टर भी दिए हैं।

You might be interested:

बोइंग द्वारा भारत के लिए 37 सैन्य हेलीकॉप्टरों की डिलीवरी

बोइंग द्वारा भारत के लिए 37 सैन्य हेलीकॉप्टरों की डिलीवरी संयुक्त राज्य अमेर ...

4 हफ्ते पहले

संयुक्त राष्ट्र में नीति आयोग द्वारा प्रस्तुत दूसरी स्वैच्छिक राष्ट्रीय समीक्षा

संयुक्त राष्ट्र में नीति आयोग द्वारा प्रस्तुत दूसरी स्वैच्छिक राष्ट्रीय स ...

4 हफ्ते पहले

आईएनएसटी वैज्ञानिकों ने रेमाटायड अर्थराइटिस की तीव्रता को कम करने के लिए नैनोपार्टिकल का प्रतिपादन किया

आईएनएसटी वैज्ञानिकों ने रेमाटायड अर्थराइटिस की तीव्रता को कम करने के लिए न ...

4 हफ्ते पहले

भारतीय रेलवे ने पहली बार सामान से भरी विशेष पार्सल रेलगाड़ी को बांग्लादेश भेजा

भारतीय रेलवे ने पहली बार सामान से भरी विशेष पार्सल रेलगाड़ी को बांग्लादेश भ ...

4 हफ्ते पहले

Provide your feedback on this article: