Bookmark Bookmark

दैनिक समाचार डाइजेस्ट:15 July 2020

15 जुलाई को विश्व युवा कौशल दिवस मनाया गया

विश्व युवा कौशल दिवस हर साल 15 जुलाई को मनाया जाता है। इस दिन को संयुक्त राष्ट्र द्वारा दिसंबर 2014 में निर्धारित किया गया था, जिसका उद्देश्य रोजगार और बेरोजगारी की चुनौतियों के समाधान के माध्यम से युवाओं के लिए बेहतर सामाजिक और आर्थिक स्थिति प्राप्त करना था। विश्व युवा कौशल दिवस 2020 का विषय "कुशल युवाओं के लिए कौशल" है।

14 जुलाई को फ्रांस में बैस्टिल दिवस मनाया गया

14 जुलाई फ्रांस में बैस्टिल दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन 1789 में फ्रांसीसी क्रांतिकारियों ने पेरिस के किनारे पर बैस्टिल सैन्य किले को बंद कर दिया था। इस घटना को फ्रांसीसी क्रांति की चिंगारी माना गया है।बैस्टिल दिवस फ्रांसीसी क्रांति का एक महत्वपूर्ण मोड़ है। बैस्टिल दिवस को अक्सर फ्रांस में ला फेटे राष्ट्र के रूप में जाना जाता है, और 1880 में आधिकारिक अवकाश घोषित किया गया था।

औद्योगिक अपशिष्ट कॉटन और प्राकृतिक समुद्री जल इलेक्ट्रोलाइट से निर्मित कम लागत वाले सुपरकैपेसिटर से ऊर्जा भंडारण में मदद मिल सकती है

 भारत सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के एक स्वायत्त संगठन इंटरनेशनल एडवांस्ड रिसर्च सेंटर फॉर पाउडर मेटलर्जी एंड न्यू मैटेरियल्स (एआरसीआई) के वैज्ञानिकों ने औद्योगिक अपशिष्ट कॉटन से एक सामान्य, कम लागत वाले, पर्यावरण अनुकूल और दीर्घकालिक सुपरकैपेसिटर इलेक्ट्रोड का निर्माण किया है, जिसे ऊर्जा हारवेस्टर स्टोरेज डिवाइस के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। शोधकर्ताओं ने पहली बार, प्राकृतिक समुद्री जल के माध्यम से पर्यावरण अनुकूल, लागत प्रभावी, स्केलेबल और वैकल्पिक जलीय इलेक्ट्रोलाइट की खोज की है।

आईआईटी कानपुर द्वारा विकसित यूवी सैनिटाइजिंग डिवाइस 'शुद्ध'

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) कानपुर ने स्मार्टफ़ोन संचालित हैंडी अल्ट्रावॉयलेट कीटाणुशोधन सहायक, शुद्ध (SHUDH) नामक एक पराबैंगनी (यूवी) सैनिटाइज़िंग उत्पाद विकसित किया है। इसके प्रारंभिक परीक्षण के दौरान सामने आया है कि इस डिवाइस का एक बार पूरी तरह से संचालन करने पर लगभग 15 मिनट में 10x10 वर्ग फुट के कमरे को कीटाणुरहित किया जा सकता है।

नाबार्ड द्वारा पैक्स के कम्प्यूटरीकरण के लिए 5,000 करोड़ रुपये की योजना शुरू की गई

राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास (NABARD) द्वारा 13 जुलाई 2020 को वित्तीय वर्ष 2023 तक 35,000 प्राथमिक कृषि साख समितियों (PACS) के कम्प्यूटरीकरण के लिए 5,000 करोड़ रुपये के अनुदान की घोषणा की गई है। केंद्र सरकार राज्य सरकार को अनुदान वितरित करेगी, जिसे पैक्स के लिए एक मिलान अनुदान जारी करना होगा।

डिजिटल शिक्षा पर ‘प्रज्ञाता’ दिशा-निर्देश जारी किए गए

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री श्री रमेश पोखरियाल 'निशंक'ने 14 जुलाई, 2020 को  नई दिल्ली में ऑनलाइन माध्यम से डिजिटल शिक्षा पर ‘प्रज्ञाता’(पीआरएजीवाईएटीए) दिशा-निर्देश जारी किए। प्रज्ञाता दिशा-निर्देशों में ऑनलाइन / डिजिटल शिक्षा के आठ चरण- योजना- समीक्षा- व्यवस्था- मार्गदर्शन- याक (बात) - असाइन- ट्रैक- सराहना शामिल हैं। ये आठ चरण उदाहरणों के साथ चरणबद्ध तरीके से डिजिटल शिक्षा की योजना और कार्यान्वयन का मार्गदर्शन करते हैं।

‘प्रज्ञाता’ दिशानिर्देश शिक्षार्थियों के दृष्टिकोण से विकसित किए गए हैं और लॉकडाउन के कारण घर से कक्षाएं लेने वाले छात्रों के लिए डिजिटल शिक्षा पर जोर दिया गया है। दिशानिर्देश ऑनलाइन शिक्षा के लिए शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार के लिए एक रोडमैप प्रदान करते हैं।

स्टार्ट अप्स की सहायता करने के लिए अटल इनोवेशन मिशन द्वारा डेमो दिवसों की श्रृंखला का आयोजन

अटल इनोवेशन मिशन, (AIM), नेशनल इंस्टीट्यूशन फॉर ट्रांसफ़ॉर्मिंग इंडिया (NITI Aayog) ने वर्चुअल कोविड-19 डेमो दिवसों की एक श्रृंखला-जोकि कोविड-19 नवोन्मेषणों के साथ संभावित स्टार्ट अप्स की पहचान करने तथा देश भर में सॉल्यूशंस की तैनाती करने तथा उन्हें और बढ़ाने में मदद करने की एक पहल है-का समन्वय तथा समापन किया। नीति आयोग पहल के तहत राष्ट्रीय स्तर पर अपने समाधानों को आगे और बड़े पैमाने पर लागू करने में स्टार्ट-अप की मदद करेगा।

क्लेम्सन विश्वविद्यालय के नेतृत्व में अध्ययन जलवायु परिवर्तन के कारण अधिक बारिश और शुष्क मौसम का सुझाव देता है

‘नेचर कम्युनिकेशंस’ पत्रिका में प्रकाशित रिपोर्ट और क्लेमसन यूनिवर्सिटी के नेतृत्व में रिपोर्ट में कहा गया है कि बदलते मौसम के साथ बारिश की मात्रा और वाष्पीकरण की मात्रा में वृद्धि होगी क्योंकि जलवायु परिवर्तन आगे बढ़ता है। रिपोर्ट के अनुसार, मौसमी वर्षा और वाष्पीकरण में भिन्नता भी जलाशयों और फसल सिंचाई के प्रबंधन के प्रयासों को जटिल बनाएगी। बांग्लादेश, भारत, ब्राजील, म्यांमार, अफ्रीका और उत्तरी ऑस्ट्रेलिया जैसे क्षेत्र काफी प्रभावित होंगे।

भारत के पहले ट्रांस-शिपमेंट हब कोच्चि पोर्ट के वल्लारपदम टर्मिनल

केंद्रीय पोत परिवहन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री मनसुख मंडाविया ने कोच्चि बंदरगाह के वल्लारपदम टर्मिनल की विकास गतिविधियों की समीक्षा की।

इसकी परिकल्पना भारत के पहले ट्रांस-शिपमेंट पोर्ट के रूप में की गई है जिसे डीपी वर्ल्ड द्वारा प्रबंधित किया जाता है। कोच्चि इंटरनेशनल कंटेनर ट्रांस-शिपमेंट टर्मिनल (आईसीटीटी), जिसे स्थानीय तौर पर वल्लारपदम टर्मिनल के नाम से जाना जाता है, वो रणनीतिक रूप से भारतीय तटरेखा पर स्थित है। ट्रांस-शिपमेंट हब के रूप में इसे विकसित करने के लिए आवश्यक सभी मानदंडों को ये सफलतापूर्वक पूरा करता है।

You might be interested:

भारत के पहले ट्रांस-शिपमेंट हब कोच्चि पोर्ट के वल्लारपदम टर्मिनल

भारत के पहले ट्रांस-शिपमेंट हब कोच्चि पोर्ट के वल्लारपदम टर्मिनल केंद्रीय ...

5 महीने पहले

क्लेम्सन विश्वविद्यालय के नेतृत्व में अध्ययन जलवायु परिवर्तन के कारण अधिक बारिश और शुष्क मौसम का सुझाव देता है

क्लेम्सन विश्वविद्यालय के नेतृत्व में अध्ययन जलवायु परिवर्तन के कारण अधिक ...

5 महीने पहले

स्टार्ट अप्स की सहायता करने के लिए अटल इनोवेशन मिशन द्वारा डेमो दिवसों की श्रृंखला का आयोजन

स्टार्ट अप्स की सहायता करने के लिए अटल इनोवेशन मिशन द्वारा डेमो दिवसों की श् ...

5 महीने पहले

डिजिटल शिक्षा पर ‘प्रज्ञाता’ दिशा-निर्देश जारी किए गए

डिजिटल शिक्षा पर ‘प्रज्ञाता’ दिशा-निर्देश जारी किए गए केंद्रीय मानव संस ...

5 महीने पहले

नाबार्ड द्वारा पैक्स के कम्प्यूटरीकरण के लिए 5,000 करोड़ रुपये की योजना शुरू की गई

नाबार्ड द्वारा पैक्स के कम्प्यूटरीकरण के लिए 5,000 करोड़ रुपये की योजना शुरू क ...

5 महीने पहले

आईआईटी कानपुर द्वारा विकसित यूवी सैनिटाइजिंग डिवाइस 'शुद्ध'

आईआईटी कानपुर द्वारा विकसित यूवी सैनिटाइजिंग डिवाइस 'शुद्ध' भारतीय प्रौद्य ...

5 महीने पहले

Provide your feedback on this article: