Bookmark Bookmark

दैनिक समाचार: जानें वीवीपैट के बारे में

दैनिक समाचार: जानें वीवीपैट के बारे में

चर्चा में: ईवीएम और वीवीपैट (वोटर वेरीफाएबल पेपर ऑडिट ट्रेल यानी वीवीपैट) एक बार फिर चर्चा में हैं। विपक्षी दलों ने 14 अप्रैल को एक बैठक कर 50 फीसदी ईवीएम-वीवीपैट मिलान को लेकर सुप्रीम कोर्ट जाने का फैसला लिया है।

बता दें, EVM की विश्वसनीयता कायम रखने के लिए VVPAT यानी वोटर वेरीफाएबल पेपर ऑडिट ट्रेल (Voter Verifiable Paper Audit Trail) मशीन की मदद ली जा रही है। VVPAT का इस्तेमाल EVM पर उठ रहे लगातार सवालों के बाद से ही शुरू हुआ।

पहली बार कब हुआ VVPAT का इस्तेमाल?

सबसे पहले VVPAT का इस्तेमाल नगालैंड के चुनाव में 2013 में हुआ था, जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने वीवीपैट मशीन (VVPAT Machine) बनाने और इसके लिए पैसे मुहैया कराने के केंद्र सरकार को आदेश दिए थे।

साल 2014 में कुछ जगहों पर वीवीपैट का इस्तेमाल किया गया था। 2014 के लोकसभा चुनाव में  वीवीएपीएटी का इस्तेमाल लखनऊ, गांधीनगर, बैंगलोर दक्षिण, चेन्नई सेंट्रल, जादवपुर, रायपुर, पटना साहिब और मिजोरम निर्वाचन क्षेत्रों में हुआ था।

भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड ने साल 2016 में 33,500 वीवीरपैट मशीन बनाईं। साल 2017 में हुए पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में आयोग ने 52,000 वीवीपैट का इस्तेमाल किया।

इस लोकसभा चुनाव में VVPAT का इस्तेमाल?

लोकसभा चुनाव में हर विधानसभा क्षेत्र में सिर्फ 1 बूथ पर पर्चियों का मिलान होता था, लेकिन 21 विपक्षी दलों ने याचिका दायर कर 50% ईवीएम और वीवीपैट का मिलान करने की मांग की थी। ऐसे में कोर्ट ने आयोग को निर्देश दिया है कि लोकसभा सीट के अंतर्गत आने वालीं सभी विधानसभाओं के 5 बूथों पर ईवीएम और वीवीपैट का मिलान किया जाए।

कैसे काम करती है VVPAT मशीन?

VVPAT यानी वोटर वेरीफायएबल पेपर ऑडिट ट्रेल (Voter Verifiable Paper Audit Trail) मशीन को EVM के साथ जोड़ दिया जाता है। मतदाता EVM पर अपने पसंदीदा प्रत्याशी के नाम के सामने वाले नीले बटन को दबाने के बाद VVPAT पर विजुअली सात सेकंड तक देख सकता है कि उसने किसे वोट किया है, यानी कि उसका वोट उसके अनुसार ही पड़ा है या नहीं।

मतदाता जिस विजुअल को देखता है, उसकी पर्ची बनकर एक सीलबंद बॉक्स में गिर जाती है जो कि मतदाता को नहीं दी जाती है। इस पर्ची पर उस प्रत्याशी का नाम, चुनाव चिन्ह और पार्टी का नाम अंकित होता है, जिसे मतदाता EVM पर वोट देता है।

ऐसे में अगर आपके मतदान केंद्र पर EVM के साथ VVPAT है तो आप वोट दर्ज करने के बाद VVPAT पर ये देख सकते हैं कि आपका वोट आपके अनुसार पड़ा या नहीं।

कौन करता है निर्माण

भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (बीईएल) बंगलूरू और इलेक्ट्रॉनिक कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (ECIL) हैदराबाद ने यह मशीन 2013 में डिजाइन की. दोनों भारत सरकार के उपक्रम हैं। बीईएल रक्षा मंत्रालय के अधीन सैन्य, नागरिक उपकरण एवं संयंत्र बनाने वाली संस्था है। जबकि ECIL डिपार्टमेंट ऑफ ऑटोमिक इनर्जी का उपक्रम है।

You might be interested:

यूएई करेगा दुनिया के अग्रणी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस समिट की मेजबानी

यूएई करेगा दुनिया के अग्रणी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस समिट की मेजबानी यूएई सर ...

2 साल पहले

फिलीस्‍तीन में नई सरकार ने ली शपथ

फिलीस्‍तीन में नई सरकार ने ली शपथ फिलीस्‍तीन में राष्‍ट्रपति महमूद अब्‍ ...

2 साल पहले

बॉक्सिंग वर्ल्ड कप: मीना कुमारी ने जीता स्वर्ण

बॉक्सिंग वर्ल्ड कप: मीना कुमारी ने जीता स्वर्ण स्ट्रांजा कप में स्वर्ण पदक ज ...

2 साल पहले

इजरायल की निजी कंपनी का पहला चंद्र अभियान नाकाम

इजरायल की निजी कंपनी का पहला चंद्र अभियान नाकाम इजरायल की निजी कंपनी का पहला ...

2 साल पहले

भारतीय मूल के अमेरिकी छात्र नीत टीम के क्यूबसैट को नासा करेगी प्रक्षेपित

भारतीय मूल के अमेरिकी छात्र नीत टीम के क्यूबसैट को नासा करेगी प्रक्षेपित ना ...

2 साल पहले

चीन ने बनाई विश्व की पहली सशस्त्र पानी एवं जमीन पर चलने वाली ड्रोन बोट

चीन ने बनाई विश्व की पहली सशस्त्र पानी एवं जमीन पर चलने वाली ड्रोन बोट चीन ने ...

2 साल पहले

Provide your feedback on this article: