Bookmark Bookmark

डायनासोर को मारने वाले क्षुद्रग्रह के कारण पृथ्वी दो वर्षों तक अँधेरे में रही थी

डायनासोर को मारने वाले क्षुद्रग्रह के कारण पृथ्वी दो वर्षों तक अँधेरे में रही थी:

एक अध्ययन में यह पाया गया है कि, करीब 66 मिलियन वर्ष पहले पहले पृथ्वी पर टकराकर डायनासोर प्रजाति का विनाश करने वाले विशाल क्षुद्रग्रह की वजह से यह धरती करीब दो वर्षों तक अँधेरे में रही थी। क्षुद्रग्रह की वजह से जंगलों में भयानक आग (दावानल) लग गयी थी, जिसके कारण वायु में भारी मात्रा में कालिख (राख) समाहित हो गयी थी।

इस घटना ने प्रकाश संश्लेषण को बंद कर दिया होगा और पृथ्वी गृह को तेजी से ठंडा कर दिया होगा एवं विभिन्न प्रजातियों के सामूहिक विलुप्त होने में योगदान दिया होगा जिसकी वजह से डायनासोरों के काल की समाप्ति हुयी होगी। अमरीकी नेशनल सेंटर फॉर एटमॉस्फिरिक रिसर्च (एनसीएआर) के शोधकर्ताओं के नेतृत्व में इस अध्ययन ने क्रिटेशियस पीरियड के अंत में पृथ्वी की परिस्थितियाँ किस प्रकार की दिखाई दे रही होंगी, की एक समृद्ध तस्वीर को चित्रित करने के लिए एक कंप्यूटर मॉडल का इस्तेमाल किया।

नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज की पत्रिका प्रोसिडिंग्स में इस अध्ययन के निष्कर्ष प्रकाशित हुए। इस अध्ययन के परिणामों के माध्यम से हम यह बेहतर ढंग से समझ सकते हैं कि कुछ प्रजातियों की मृत्यु क्यों हुई, खासकर महासागरों में, जबकि अन्य जीवित रह गए।

वैज्ञानिकों का अनुमान है कि सभी गैर-एवियन डायनासोर सहित पृथ्वी पर सभी प्रजातियों में से तीन-चौथाई से अधिक, क्रेतेसियस-पैलोजन काल की सीमा पर गायब हो गए, एक घटना जिसे केपीजी (k Pg ) विलुप्ति के नाम से जाना जाता है।

प्राप्त सबूत यह बताते हैं कि विलुप्त होने का समय और एक बड़े क्षुद्रग्रह का पृथ्वी के युकाटन प्रायद्वीप पर टकराने का समय एक ही है। इस बात की पूरी संभावना है कि छुद्रग्रह की टक्कर से भूकंप, सूनामी, और यहां तक कि ज्वालामुखी विस्फोट भी हो गया होगा।

वैज्ञानिकों ने यह भी गणना की है कि टक्कर की ताकत ने पृथ्वी की सतह से ऊपर वाष्पीकृत रॉक को लॉन्च किया होगा, जहां यह छोटे कणों में संघनित हो गयी होगी। इन छोटे कड़ों को स्फेयरूल्स भी कहा जाता है।

जैसे स्फेयरूल्स पृथ्वी पर वापस गिर गए, इन्होने घर्षण की वजह से पृथ्वी पर अत्यधिक ऊँचा तापमान पैदा किया होगा जिसकी वजह से जंगलों में आग लगी होगी। भूगर्भीय रिकॉर्ड में स्फेयरूल्स की पतली परत दुनिया भर में पाई जा सकती है। शोधकर्ताओं ने एनसीएआर-आधारित समुदाय पृथ्वी प्रणाली मॉडल (सीईएसएम) का इस्तेमाल किया जिससे वैश्विक जलवायु पर कालिख के प्रभाव को देखा जा सके।

Take a quiz on what you read Start Now

Attempt Mock Test

View all

मॉक टेस्ट प्रयास करें

Attempt Free Mock Tests

Daily articles on app in Hindi

Daily articles on app in Hindi

You might be interested:

SSC CGL टियर 1 परीक्षा विश्लेषण 2017, संभावित कटऑफ़ : 23 अगस्त

SSC CGL टियर 1 परीक्षा विश्लेषण 2017, संभावित कटऑफ़: 23 अगस्त- कर्मचारी चयन आयोग ने SSC CGL टियर 1 परीक्षा का आ ...

2 महीने पहले

IAS मुख्य परीक्षा GS पेपर-3 के 10 महत्वपूर्ण टॉपिक्स | मेक इन इंडिया अभियान की समीक्षा

IAS मुख्य परीक्षा GS पेपर-3 के 10 महत्वपूर्ण टॉपिक्स | मेक इन इंडिया अभियान की समीक्षा- IAS की मुख्य पर ...

2 महीने पहले

ईवनिंग न्यूज़ डाइजेस्ट-23 अगस्त 2017

नीति आयोग ने "मेंटर इंडिया" अभियान शुरू किया: नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत ...

2 महीने पहले

IBPS RRB सहायक ऑल इंडिया टेस्ट (AIT) | 11 सितम्बर 2017: अभी रजिस्टर करें !

IBPS RRB सहायक ऑल इंडिया टेस्ट (AIT): बैंकिंग कार्मिक चयन संस्थान (IBPS) सत्र 2017-18 के लिए IBPS RRB सहायक पद पर उम् ...

2 महीने पहले

22 अगस्त SSC CGL परीक्षा 2017: प्रश्नों के उत्तर (वास्तविक पेपर)

22 अगस्त SSC CGL परीक्षा 2017: प्रश्नों के उत्तर (वास्तविक पेपर): कर्मचारी चयन आयोग ने SSC CGL भर्ती प्रक् ...

2 महीने पहले

IAS मुख्य परीक्षा GS पेपर-2 के 10 महत्वपूर्ण टॉपिक्स |लोकसभा और विधानसभा चुनाव का एक साथ आयोजन

IAS मुख्य परीक्षा GS पेपर-2 के 10 महत्वपूर्ण टॉपिक्स | लोकसभा और विधानसभा चुनाव का एक साथ आयोजन- संघ ...

2 महीने पहले

Provide your feedback on this article: