Bookmark Bookmark

केंद्र प्रति वर्ष 23 जनवरी को नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती को 'पराक्रम दिवस' के रूप में मनाएगा

केंद्र प्रति वर्ष 23 जनवरी को नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती को 'पराक्रम दिवस' के रूप में मनाएगा

प्रसंग

भारत सरकार ने हाल ही में घोषणा की कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती 23 जनवरी को "पराक्रम दिवस" ​​के रूप में मनाई जानी है क्योंकि उनका जन्म 23 जनवरी 1897 को हुआ था। पराक्रम दिवस का अर्थ साहस दिवस है।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस:-

  • उन्होंने 1920 में इंग्लैंड में भारतीय सिविल सेवा परीक्षा उत्तीर्ण की। बाद में, उन्होंने स्वतंत्रता के लिए भारत के संघर्ष के बारे में सुनने के बाद 23 अप्रैल, 1921 को अपनी सिविल सेवा की नौकरी से इस्तीफा दे दिया।
  • नेताजी 1921 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हुए।
  • नेताजी ने “स्वराज” नाम से एक अखबार शुरू किया था। उन्होंने “द इंडियन स्ट्रगल” नामक एक पुस्तक लिखी थी। इस पुस्तक में 1920 और 1942 के बीच भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन को शामिल किया गया है।
  • उन्होंने जर्मनी में आज़ाद हिंद रेडियो स्टेशन की स्थापना की और पूर्वी एशिया में भारतीय राष्ट्रवादी आंदोलन का नेतृत्व किया।
  • "जय हिंद" शब्द नेताजी सुभाष चंद्र बोस द्वारा गढ़ा गया था।

You might be interested:

दैनिक समाचार डाइजेस्ट:19 January 2021

भारत-फ्रांस का युद्धाभ्यास डेजर्ट नाइट-21भारतीय, फ्रांसीसी वायु सेना जोधपुर ...

3 महीने पहले

वन लाइनर्स ऑफ द डे, 20 जनवरी 2021

रक्षा भारतीय वायु सेना और फ्रांस की वायु सेना 20 जनवरी से 24 जनवरी 2021 तक की अवधि ...

3 महीने पहले

भारत और जापान ने ‘निर्दिष्‍ट कुशल कामगारों’ के संबंध में सहभागिता से जुड़े समझौता ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर किये

भारत और जापान ने ‘निर्दिष्‍ट कुशल कामगारों’ के संबंध में सहभागिता से जु ...

3 महीने पहले

सडक परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय अन्‍तर्देशीय यातायात वाहन नियम 2021 को अधिसूच‍ित करता है

सडक परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय अन्‍तर्देशीय यातायात वाहन नियम 2021 को अधिसू ...

3 महीने पहले

न्यू 'अनुभव मंडप' की आधारशिला रखी गयी

न्यू 'अनुभव मंडप' की आधारशिला रखी गयी प्रसंग कर्नाटक के मुख्यमंत्री ने बसवकल ...

3 महीने पहले

रूफटॉप सौर योजना

रूफटॉप सौर योजना प्रसंग हाल ही में, नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय (MNRE) ने रू ...

3 महीने पहले

Provide your feedback on this article: