Guest
Welcome, Guest

Login/Register

महत्त्वपूर्ण लिंक

हमसे सम्पर्क करें

Bookmark Bookmark

लक्ष्‍मी निवास बैंक और इंडियाबुल्‍स हाउसिंग का विलय

लक्ष्‍मी निवास बैंक और इंडियाबुल्‍स हाउसिंग का विलय

भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) ने इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनेंस का लक्ष्मी विलास बैंक के साथ प्रस्तावित विलय को मंजूरी दे दी है। 

बताते चलें कि अप्रैल 2019 में लक्ष्मी विलास बैंक ने इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनेंस के साथ विलय की घोषणा की थी। इसका उद्देश्य अधिक पूंजी आधार बनाना है।

भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग ने 20 जून 2019 को हुई अपनी बैठक में विलय के प्रस्ताव पर विचार किया और उसे मंजूरी दे दी है।

इससे पहले लक्ष्मी विलास बैंक के निदेशक मंडल ने बैंक के इंडियाबुल्स हाउसिंग के साथ विलय को मंजूरी दी थी। विलय प्रस्ताव के तहत बैंक के शेयरधारकों को प्रति 100 शेयर के बदले इंडियाबुल्स के 14 शेयर मिलेंगे।

दोनों कंपनियों के विलय से बनने वाली संयुक्त इकाई में कर्मचारियों की संख्या 14,302 होगी और वर्ष 2018-19 के पहले नौ महीने की अवधि में उसका दिया गया कर्ज 1.23 लाख करोड़ रुपये होगा।

विलय प्रस्ताव के तहत बैंक के शेयरधारकों को प्रति 100 शेयर के बदले इंडियाबुल्स के 14 शेयर मिलेंगे।

You might be interested:

मथुरा में हाथियों के लिए एक जल चिकित्सालय खोला गया

मथुरा में हाथियों के लिए एक जल चिकित्सालय खोला गया भारत ने उत्तर प्रदेश के म ...

3 महीने पहले

दैनिक समाचार डाइजेस्ट:21 June 2019

भारतीय नौसेनेा के लिए छह पी75 (i) पनडुब्बियों के निर्माण के लिए अभिरूचि पत्र आम ...

3 महीने पहले

वन लाइनर्स ऑफ द डे, 22 जून 2019

दिन विशेष अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2019 (21 जून) के लिए विषय - योग फॉर हार्ट. विश्व ...

3 महीने पहले

क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग-2020 जारी

क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग-2020 जारी क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकि ...

3 महीने पहले

2022 तक लगभग 35,000 किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्गों का होगा निर्माण

2022 तक लगभग 35,000 किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्गों का होगा निर्माण राष्ट्रपति राम ...

3 महीने पहले

एफएमसीजी एंड डी सेक्टर में आ सकती हैं 2.76 लाख नौकरियां

एफएमसीजी एंड डी सेक्टर में आ सकती हैं 2.76 लाख नौकरियां एफएमसीजी एंड डी सेक्टर ...

3 महीने पहले

Provide your feedback on this article: