Guest
Welcome, Guest

Login/Register

महत्त्वपूर्ण लिंक

हमसे सम्पर्क करें

Bookmark Bookmark

लिव इन में रह रहे जोड़े बच्चे हो गोद नहीं ले सकते हैं: कारा

लिव इन में रह रहे जोड़े बच्चे हो गोद नहीं ले सकते हैं: कारा

देश की शीर्ष दत्तक ग्रहण संस्था ने लिव-इन संबंधों में रह रहे जोड़ों को बच्चे गोद लेने से प्रतिबंधित कर दिया है। इसके पीछे संस्था ने यह कारण दिया है कि भारत में बिना शादी के कोहेबिटेशन (सहवास) एक स्थिर परिवार नहीं माना जाता है।

प्रमुख तथ्य:

केंद्रीय दत्तक ग्रहण संसाधन प्राधिकरण (कारा) किसी भी महिला को किसी भी लिंग के बच्चे को गोद लेने की अनुमति देता है, जबकि यह एकल पुरुषों को केवल लड़कों को ही गोद लेने की आज्ञा देता है।

यदि कोई आवेदक विवाहित होता है, तो पति/पत्नी दोनों को गोद लेने के लिए अपनी सहमति देनी होती है और इसके अतिरिक्त यह आवश्यक है कि उन्हें कम से कम दो वर्षों तक स्थिर विवाह में होना चाहिए।

दत्तक ग्रहण अधिनियम 2017 के अनुसार, आवेदकों को शारीरिक, वित्तीय रूप और मानसिक रूप से स्वस्थ होना चाहिए और बच्चे को गोद लेने के लिए अत्यधिक प्रेरित होना चाहिए।

केंद्रीय दत्तक ग्रहण संसाधन प्राधिकरण (कारा) के द्वारा हाल ही में जारी एक अधिसूचना के अनुसार, "यह निर्णय लिया गया है कि एक लिव-इन रिश्ते में एक साथी के साथ एकल पीएपी (प्रोस्पेक्टिव अडॉप्टिंग पैरेंट) को बच्चों को गोद लेने के योग्य नहीं माना जाएगा और एएफएए (अधिकृत विदेशी दत्तक ग्रहण एजेंसियों) के माध्यम से हुए उनके पंजीकरण को मंजूरी योग्य नहीं माना जाएगा।"

लिव-इन संबंधों पर सुप्रीम कोर्ट:

सुप्रीम कोर्ट ने कई मौकों पर कहा है कि एक लिव-इन रिश्ता न तो अपराध है और न ही पाप है। पिछले महीने, सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि वयस्क जोड़ों को एक साथ रहने का अधिकार है भले ही वे विवाहित नहीं हों।

यहां तक कि विधायिका ने घरेलू हिंसा से महिला संरक्षण अधिनियम, 2005 के प्रावधानों के माध्यम से लिव-इन रिश्तों को मान्यता दी है। इस अधिनियम के तहत, लिव-इन रिलेशनशिप में महिलाओं को ठीक उसी प्रकार सुरक्षा प्रदान की गई है जिस प्रकार की सुरक्षा विवाह पश्चात एक महिला को दी जाती है।

केंद्रीय दत्तक ग्रहण संसाधन प्राधिकरण (कारा):

केंद्रीय दत्तक ग्रहण संसाधन प्राधिकरण (CARA) महिला एवं बाल विकास मंत्रालय, भारत सरकार के तहत एक स्वायत्त निकाय है। यह भारतीय बच्चों को गोद लेने और अनिवार्य निगरानी तथा देश और अंतरदेशीय में गोद देने को विनियमित करने के लिए नोडल निकाय के रूप में कार्य करता है।

You might be interested:

वन लाइनर्स ऑफ़ द डे: 16 जून 2018

राष्ट्रीय इन्होंने एनएलसीआईएल की 100 मेगावाट की तीन सौर ऊर्जा परियोजनाएं रा ...

एक साल पहले

बैंकिंग डाइजेस्ट: 16 जून 2018

राष्ट्रीय इन्होंने एनएलसीआईएल की 100 मेगावाट की तीन सौर ऊर्जा परियोजनाएं रा ...

एक साल पहले

SSC CGL टियर-1 परीक्षा 2018 के लिए इंग्लिश सेक्शन की तैयारी कैसे करें !

SSC CGL टियर-1 परीक्षा 2018 के लिए इंग्लिश सेक्शन की तैयारी कैसे करें : कर्मचारी चयन आ ...

एक साल पहले

इवनिंग न्यूज़ डाइजेस्ट: 15 जून 2018 (PDF सहित)

एनएलसीआईएल की 100 मेगावाट की तीन सौर ऊर्जा परियोजनाएं राष्ट्र को समर्पित: कें ...

एक साल पहले

बैंकिंग वित्तीय जागरूकता-1 : अपने ज्ञान को बढ़ाएं !

बैंकिंग वित्तीय जागरूकता-1 : बैंक परीक्षा (IBPS, SBI, RBI, IBPS RRB और अन्य बैंकिंग एवं इन्श ...

एक साल पहले

IBPS RRB प्रारंभिक परीक्षा 2018 में 60+ अंक कैसे प्राप्त करें !

IBPS RRB प्रारंभिक परीक्षा 2018 में 60+ अंक कैसे प्राप्त करें: बैंकिंग कार्मिक संस्था ...

एक साल पहले

Provide your feedback on this article: