Guest
Welcome, Guest

Login/Register

महत्त्वपूर्ण लिंक

हमसे सम्पर्क करें

Bookmark Bookmark

'नमामी गंगा' हम कहां खड़े हैं?

'नमामी गंगा' हम कहां खड़े हैं?

पृष्ठभूमि

देश की 40% आबादी गंगा नदी पर निर्भर है। 2014 में न्यूयॉर्क में मैडिसन स्क्वायर गार्डन में भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा था, “अगर हम इसे साफ करने में सक्षम हो गए, तो यह देश की 40 फीसदी आबादी के लिए एक बड़ी मदद साबित होगी। अतः गंगा की सफाई एक आर्थिक एजेंडा है”। इस सोच को कार्यान्वित करने के लिए सरकार ने गंगा नदी के प्रदूषण को समाप्त करने और नदी को पुनर्जीवित करने के लिए ‘नमामि गंगे’ नामक एक एकीकृत गंगा संरक्षण मिशन का मई 2015 को शुभारंभ किया। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने नदी की सफाई के लिए बजट को चार गुना करते हुए पर 2019-2020 तक नदी की सफाई पर 20,000 करोड़ रुपए खर्च करने की केंद्र की प्रस्तावित कार्य योजना को मंजूरी दे दी और इसे 100% केंद्रीय हिस्सेदारी के साथ एक केंद्रीय योजना का रूप दिया।

चर्चा में क्यों है

एनजीटी ने 19 जुलाई 2018 को कहा गंगा को साफ करने के लिए सरकार ने कोई प्रभावी कदम नहीं उठाया गया है। सरकार ने दो साल में गंगा सफाई पर 7,000 करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च किए हैं, लेकिन गंभीर पर्यावरणीय मसले अभी भी बरकरार हैं। एनजीटी अध्यक्ष जस्टिस ए. के. गोयल की अध्यक्षता में जस्टिस जवाद रहीम और जस्टिस आर.एस राठौर की पीठ ने कहा कि अधिकारियों के दावे के बावजूद गंगा की सफाई के लिए धरातल पर पर्याप्त काम नहीं हुआ है। स्थिति में सुधार के लिए कार्यो की सतत निगरानी की जरूरत है। ट्रिब्यूनल ने गंगा प्रदूषण की जमीनी हकीकत के बारे में आम लोगों के बीच एक सर्वेक्षण कराने का आदेश दिया। साथ ही कहा कि लोग संबंधित अधिकारियों के ईमेल के जरिये भी अपनी राय दे सकते हैं।

यह भी पढ़ें

केंद्रीय मंत्री सत्यपाल सिंह ने इस पर लोकसभा में कहा, यह कहना सही नहीं है कि पिछले कई दशकों में किसी गंगा परियोजना में प्रगति नहीं हुई। उन्होंने बताया कि 1985 से अब तक करीब 168.4 करोड़ लीटर प्रतिदिन की सीवेज ट्रीटमेंट क्षमता स्थापित की जा चुकी है। 4,812 किमी के स्वीकृत सीवर नेटवर्क में से करीब 2,050 किमी सीवर लाइनों को नमामी गंगे परियोजना के तहत बिछाया जा चुका है। नमामी गंगे के तहत गंगा बेसिन के पांच राज्यों में 151 घाटों और 54 शमशान घाटों के निर्माण को मंजूरी दी गई थी। इनमें से 34 घाटों और नौ शमशान घाटों का निर्माण किया जा चुका है। 34 घाटों में से 10 उत्तराखंड, 23 उत्तर प्रदेश और एक झारखंड में है। जबकि सभी नौ शमशान घाटों का निर्माण उत्तराखंड में किया गया है।

You might be interested:

बैंकिंग डाइजेस्ट : 21 जुलाई 2018

राष्ट्रीय राष्‍ट्रीय स्‍वच्‍छ गंगा मिशन (एनएमसीजी) की ओर से उत्‍तराखंड, ...

एक साल पहले

वन लाइनर्स ऑफ़ द डे : 21 जुलाई 2018

राष्ट्रीय राष्‍ट्रीय स्‍वच्‍छ गंगा मिशन (एनएमसीजी) की ओर से उत्‍तराखंड, ...

एक साल पहले

इवनिंग न्यूज़ डाइजेस्ट : 19 जुलाई 2018

कवि गोपाल दास नीरज का निधन हो गया कवि गोपालदास नीरज जी का 19 जुलाई 2018 को लम्बी ब ...

एक साल पहले

Vocab Express (शब्दावली एक्सप्रेस)- 512

Vocab Express (शब्दावली एक्सप्रेस)- 512 प्रिय उम्मीदवार, आपकी शब्दावली को बढ़ाने ...

एक साल पहले

भारत में चक्रवात निगरानी और भविष्यवाणी में सुधार के लिए परियोजनाएं

भारत में चक्रवात निगरानी और भविष्यवाणी में सुधार के लिए परियोजनाएं जानें च ...

एक साल पहले

इवनिंग न्यूज़ डाइजेस्ट : 19 जुलाई 2018

मंत्रिमंडल ने ब्रिक्स देशों में क्षेत्रीय विमानन साझेदीरी पर समझौता ज्ञाप ...

एक साल पहले

Provide your feedback on this article: