Bookmark Bookmark

पीआरबी ने वैश्विक जनसंख्या डाटा शीट 2016 जारी किया

पीआरबी ने वैश्विक जनसंख्या डाटा शीट 2016 जारी किया:

दुनिया की बढ़ती आबादी को लेकर पॉपुलेशन रिफ्ररेंस ब्यूरो (पीआरबी) ने अपनी रिपोर्ट 'वैश्विक जनसंख्या डाटा शीट 2016' जारी की है। रिपोर्ट में 2050 तक दुनिया की आबादी 7.4 अरब से बढ़कर 9.9 अरब तक बढ़ने की संभावना जताई गयी है। अनुमान है कि वैश्विक जनसंख्या में 33 फीसदी की बढ़ोतरी होगी। इस साल के डाटा शीट का थीम "मानव की जरुरत और स्थायी संसाधन" (Human Needs and Sustainable Resources) है। 

पीआरबी की डाटा शीट के अनुसार 2053 तक दुनिया की जनसंख्या 10 अरब के पार हो जाएगी। रिपोर्ट दावा करती है कि सबसे ज्यादा बढ़ोतरी एशिया महाद्वीप में होगी, यहां 900 मिलियन (लाख) की बढ़ोतरी के साथ 5.3 बिलियन (अरब) तक जनसंख्या हो जाएगी।

पीआरबी की डाटासीट के अनुसार दुनिया की 25 फीसदी आबादी 15 साल के आसपास है। आंकड़े बताते हैं कि कम से कम 41 फीसदी विकासशील देशों की और 16 फीसदी विकसित देशों में जनसंख्या बढ़ेगी। जहां तक जापान की बात है तो उसकी आबादी का एक चौथाई से अधिक भाग 65 साल के बुजुर्ग हैं। जबकि यूएई में केवल एक फीसदी लोग ही 65 साल के ऊपर जी रहे हैं। दुनिया में अभी यूरोप और एशिया में 33 देश ऐसे हैं जहां 65 साल के अधिक और 15 साल के कम उम्र की जनसंख्या है।

42 ऐसे देश हैं जिनकी संख्या में गिरावट दर्ज की गई है। ये देश एशिया, लेटिन अमेरिका और यूरोपीय महाद्वीपों के हैं। यदि जन्मदर दर के तौर पर देखा जाए तो यूएस में प्रति महिला 1.8 बच्चे हैं, यहां संख्या घटी है 2014 में यहां प्रति महिला 1.9 बच्चों की संख्या थी। जबकि अफ्रिका में प्रति महिला 6 बच्चे औसतन हैं, जोकि फिलहाल सबसे ज्यादा हैं।

हालांकि पूरे विश्व में जन्मदर की दर गिर रही है, फिर भी जो जनसंख्या अब तक है उसके विकास के आधार पर यह 2050 तक 10 बिलियन तक पंहुच जाएगी। केवल यूरोप की जनसंख्या में ही 12 लाख की कमी देखी जा सकती है। जबकि अफ्रिका की जनसंख्या में दुगनी होने जा रही है।

महाद्वीपों के अनुसार जनसँख्या वृद्धि:

  • एशिया- 5.3 बिलियन
  • अफ्रिका- 2.5 बिलियन
  • अमेरिका- 1.2 बिलियन
  • यूरोप- 728 मिलियन
  • ऑस्ट्रेलिया+न्यूजीलैंड- 66 मिलियन

भारत से संबंधित जनसंख्या का अनुमान:

संयुक्त राष्ट्र के आर्थिक और सामाजिक मामलों के विभाग की रिपोर्ट "विश्व जनसंख्या की संभावनाएं: समीक्षा 2015" के अनुसार चीन और भारत दोनों 1 अरब से अधिक जनसंख्या के साथ पूरी दुनिया की जनसंख्या का क्रमशः 19% और 18% भाग सम्मिलित करते हैं। लेकिन 2022 तक, भारत की जनसंख्या चीन से अधिक हो जाने की उम्मीद है।

Take a quiz on what you read Start Now

You might be interested:

दैनिक समाचार सारांश: 29 अगस्त 2016

राष्ट्रीय खेल दिवस: 29 अगस्त 2016 राष्ट्रीय खेल दिवस 29 अगस्त को हॉकी के महान खिला ...

6 साल पहले

Vocab Express (शब्दावली एक्सप्रेस)-69

Vocab Express (शब्दावली एक्सप्रेस)-69 प्रिय उम्मीदवारों, पिछले लेख में, आपके लिए हमने SBI ...

6 साल पहले

भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (एनपीसीआई) का एकीकृत भुगतान मंच शुरू

भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (एनपीसीआई) का एकीकृत भुगतान मंच शुरू: भारतीय रा ...

6 साल पहले

दैनिक समाचार सारांश: 28 अगस्त 2016

एलेक्टरोप्रेन्योर पार्क का दिल्ली विश्वविद्यालय के दक्षिणी परिसर में उद् ...

6 साल पहले

ओबामा ने हवाई में दुनिया के सबसे बड़े संरक्षित समुद्री क्षेत्र को बनाने की घोषणा की

ओबामा ने हवाई में दुनिया के सबसे बड़े संरक्षित समुद्री क ...

6 साल पहले

बच्चों को यौन अपराधों से सुरक्षा के लिए पॉक्सो ई-बॉक्स की शुरूआत

बच्चों को यौन अपराधों से सुरक्षा के लिए पॉक्सो ई-बॉक्स की शुरूआत:  26 अगस्त 2016 ...

6 साल पहले

Provide your feedback on this article: