Guest
Welcome, Guest

Login/Register

महत्त्वपूर्ण लिंक

हमसे सम्पर्क करें

Bookmark Bookmark

RBI की योजना एक उच्च डिजिटल और कैश-लेस सोसाइटी

RBI की योजना एक उच्च डिजिटल और कैश-लेस सोसाइटी

भारतीय समाज को कैशलेस सोसाइटी बनाने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआइ) ने एक विजन डॉक्यूमेंट रिलीज किया। इसमें केंद्रीय बैंक ने बताया कि एक सेफ, सिक्योर, आसानी से सबकी पहुंचवाला और वहनीय इ-पेमेंट सिस्टम कैसे सुनिश्चित किया जायेगा।

RBI ने डिजिटल पेमेंट पर ग्राहकों से कम चार्ज वसूलने का भी प्रस्ताव रखा है। RBI ने डिजिटल पेमेंट को आकर्षक बनाने के लिए इसे सस्ता और सुगम बनाने का भी समर्थन किया है।

बैंक ने बताया कि डिजिटल पेमेंट के सेक्टर में अधिक से अधिक कंपनियों के आने से उनमें बढ़ती प्रतिस्पर्धा के कारण तेजी से इनोवेशन बढ़ेगा, जिससे समाज को हाइ डिजिटल और कैशलेस बनाया जा सकेगा।

RBI ने विजन डॉक्यूमेंट ‘पेमेंट एंड सेटैलमेंट सिस्टम इन इंडिया 2019-2021’ में अपनी योजना का विवरण दिया है। आंकड़ों के हिसाब से देश में डिजिटल पेमेंट तेजी से बढ़ रहा है। तीन साल में यानी वर्ष 2021 तक चार गुना अधिक हो जायेगी।

RBI ने अपने आगे बताया कि कैश लेनदेन ग्राहकों के साथ-साथ अर्थव्यवस्था पर भी लागत का असर डालता है। अगर कुछ ग्राहक कैश से डिजिटल की ओर शिफ्ट हो जायें और सिस्टम को डिजिटल किया जाये, तो लागत कम की जा सकती है।

You might be interested:

बैंगलोर में आधारित होगी डिफेन्स स्पेस एजेंसी

बैंगलोर में आधारित होगी डिफेन्स स्पेस एजेंसी भारत अपनी सैन्य अंतरिक्ष एजें ...

8 महीने पहले

इगोर स्टिमैक बने भारतीय फुटबॉल टीम के मुख्य कोच

इगोर स्टिमैक बने भारतीय फुटबॉल टीम के मुख्य कोच क्रोएशिया के इंटरनेशनल फुट ...

8 महीने पहले

Vocab Express (शब्दावली एक्सप्रेस)-723

Vocab Express (शब्दावली एक्सप्रेस)-723 प्रिय उम्मीदवार, आपकी शब्दावली को बढ़ाने क ...

8 महीने पहले

वन लाइनर्स ऑफ द डे, 17 मई 2019

पर्यावरण गिर जंगल 13 मई को में शाकाहारी जीवों की जनगणना आयोजित की जा रही है - ग ...

8 महीने पहले

बैंकिंग डाइजेस्ट, 17 मई 2019

अर्थव्यवस्था भारत सरकार यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (UPI) का उपयोग करते हुए इस ...

8 महीने पहले

दैनिक समाचार डाइजेस्ट:16 May 2019

आरोही पंडित एलएसए में अटलांटिक महासागर को पार करने वाली विश्व की पहली महिला ...

8 महीने पहले

Provide your feedback on this article: