Guest
Welcome, Guest

Login/Register

महत्त्वपूर्ण लिंक

हमसे सम्पर्क करें

Bookmark Bookmark

सेना में महिलाओं के स्थायी कमीशन के लिए बनेगा विशेष कैडर

सेना में महिलाओं के स्थायी कमीशन के लिए बनेगा विशेष कैडर

सेना में महिलाओं के लिए एक विशेष कैडर का निर्माण कर उन्हें कई क्षेत्रों में स्थायी कमीशन देने की योजना को अंतिम रूप दिया जा रहा है। महिलाओं को लड़ाकू भूमिका छोड़कर बाकी भूमिकाओं में स्थायी कमीशन दिया जायेगा।

सेना में महिलाओं की वर्तमान स्थिति

इस समय सेना महिलाओं को केवल सेना शिक्षा कोर (एईसी) और न्यायाधीश महाधिवक्ता (जेएजी) विभाग में ही स्थायी कमीशन देती है। सेना में अधिकतर महिलाओं की भर्ती शॉर्ट सर्विस कमीशन (एसएससी) अधिकारियों के रूप में होती है और उनका कार्यकाल अधिकतम 14 साल का होता है। 

वायुसेना में महिलाएं पहले ही लड़ाकू पायलट की भूमिका में आ चुकी हैं, जिसे सबसे महत्वपूर्ण स्थिति के तौर पर देखा जाता है जबकि सेना में महिलाएं अभी महत्वपूर्ण पदों पर नहीं दिखती हैं।

स्थायी कमीशन

सेना में स्थायी कमीशन का अर्थ है कि उक्त अधिकारी तब तक पद पर बना रहेगा जब तक वह सेवानिवृत न हो जाये। स्थायी कमीशन के लिए राष्ट्रीय रक्षा अकादमी पुणे, राष्ट्रीय सेना अकादमी देहरादून अथवा ऑफिसर्स ट्रेनिंग अकादमी - गया को जॉइन करना होता है।

यहां से प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद ही सेना में स्थायी कमीशन मिलता है। राष्ट्रीय रक्षा अकादमी से पास होने के उपरांत, सेना के कैडेट्स को उनके चयन के अनुसार भारतीय सैन्य अकादमी, देहरादून; नौ सेना के कैडेट्स को भारतीय नौसेना अकादमी, एझिमाला और वायु सेना के कैडेट्स को वायु सेना अकादमी, हैदराबाद में भेज दिया जाता है।

You might be interested:

गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर का निधन

गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर का निधन 13 दिसंबर 1955 को जन्मे गोवा के मुख्यमंत्री म ...

9 महीने पहले

दैनिक समाचार डाइजेस्ट:18 March 2019

बैंकिंग डाइजेस्ट : 17 मार्च 2019वन लाइनर्स ऑफ़ द डे : 17 मार्च 2019 ...

9 महीने पहले

Vocab Express (शब्दावली एक्सप्रेस)- 682

Vocab Express (शब्दावली एक्सप्रेस)- 682 प्रिय उम्मीदवार, आपकी शब्दावली को बढ़ाने ...

9 महीने पहले

वन लाइनर्स ऑफ़ द डे : 17 मार्च 2019

राष्ट्रीय  भारत के इस राज्य में नील वायरस का पहला मरीज मिला - केरल द्विवा ...

9 महीने पहले

बैंकिंग डाइजेस्ट : 17 मार्च 2019

राष्ट्रीय  भारत के इस राज्य में नील वायरस का पहला मरीज मिला - केरल द्विवार् ...

9 महीने पहले

दैनिक समाचार डाइजेस्ट:16 March 2019

जनप्रतिनिधित्व कानून 1951 की धारा 29 (ए) के अंतर्गत राजनीतिक दलों का पंजीकरणराजन ...

9 महीने पहले

Provide your feedback on this article: