Guest
Welcome, Guest

Login/Register

महत्त्वपूर्ण लिंक

हमसे सम्पर्क करें

Bookmark Bookmark

सेरी-अर्का एंटीटेरर 2019 का आयोजन

सेरी-अर्का एंटीटेरर 2019 का आयोजन

शंघाई सहयोग संगठन (SCO) के सदस्य देश एक संयुक्त आतंकवाद-निरोधी अभ्यास का आयोजन करेंगे जिसका नाम होगा "Sary-Arka-Anti Terror 2019 (सेरी-अर्का एंटीटेरर 2019)"।

शिन्हुआ संवाद समिति की एक रिपोर्ट के मुताबिक उज्बेकिस्तान की राजधानी ताशकंद में एससीओ के क्षेत्रीय आतंकवाद-निरोधी ढांचे (आरएटीएस) की 34वीं बैठक के दौरान संयुक्त अभ्यास ‘सेरी-अर्का एंटीटेरर 2019’ की घोषणा की गई।

एससीओ में चीन के साथ कजाखिस्तान, किरगिस्तान, रूस, ताजिकिस्तान, उजबेकिस्तान, भारत और पाकिस्तान सदस्य हैं।

इस संगठन में भारत और पाकिस्तान जून 2017 में पूर्ण रूप से शामिल हुए थे।

बैठक में भारत, कजाखिस्तान, चीन, किरगिस्तान, पाकिस्तान, रूस, ताजिकिस्तान, उजबेकिस्तान के सक्षम प्रतिनिधिमंडल के साथ ही आरएटीएस की कार्यकारी समिति के सदस्य शामिल हुए।

रूस की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में संयुक्त सीमा ऑपरेशन के पहले चरण 'सॉलिडैरिटी 2019-2021', सीमा सेवाओं के प्रमुखों की सातवीं बैठक और आतंकवादी, अलगाववादी और चरमपंथी उद्देश्यों के लिए इंटरनेट के उपयोग को रोकने के लिए कार्यशालाओं के आयोजन की घोषणा की गई थी।

शंघाई सहयोग संगठन (SCO)

शंघाई सहयोग संगठन, जिसे शंघाई पैक्ट के नाम से भी जाना जाता है, एक यूरेशियन राजनीतिक, आर्थिक और सैन्य संगठन है जिसे 2001 में शंघाई में चीन, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, रूस, ताजिकिस्तान और उजबेकिस्तान के नेताओं द्वारा स्थापित किया गया था।

2001 में उजबेकिस्तान के संगठन में शामिल होने के बाद इस सहयोग का नाम बदलकर शंघाई सहयोग संगठन कर दिया गया था।

शंघाई सहयोग संगठन (SCO) के मुख्य कार्य

सदस्य राज्यों के बीच आपसी विश्वास को मजबूत करना; राजनीति, व्यापार, अर्थव्यवस्था, अनुसंधान, प्रौद्योगिकी और संस्कृति के साथ-साथ शिक्षा, ऊर्जा, परिवहन, पर्यटन, पर्यावरण संरक्षण और अन्य क्षेत्रों में उनके प्रभावी सहयोग को बढ़ावा देना; क्षेत्र में शांति, सुरक्षा और स्थिरता बनाए रखने और सुनिश्चित करने के लिए संयुक्त प्रयास करना; और लोकतांत्रिक, निष्पक्ष और तर्कसंगत नए अंतर्राष्ट्रीय राजनीतिक और आर्थिक व्यवस्था की स्थापना करना है।

क्षेत्रीय आतंकवाद-निरोधी ढांचे (आरएटीएस)

आरएटीएस एससीओ का एक स्थायी अंग है जो आतंकवाद, अलगाववाद और उग्रवाद की तीन बुराइयों के खिलाफ सदस्य देशों में सहयोग को बढ़ावा देने का काम करता है। इसका मुख्यालय ताशकंद में है। आरएटीएस एसीओ परिषद की अगली बैठक रूस में इस वर्ष सितंबर में आयोजित होगी।

You might be interested:

इस्‍पात मंत्रालय ने सतर्कता सम्‍मेलन का आयोजन किया

इस्‍पात मंत्रालय ने सतर्कता सम्‍मेलन का आयोजन किया इस्‍पात मंत्रालय द्व ...

4 महीने पहले

भारत - श्रीलंका संयुक्त अभ्यास मित्र शक्ति – 6 का पूर्वावलोकन

भारत - श्रीलंका संयुक्त अभ्यास मित्र शक्ति – 6 का पूर्वावलोकन मित्र शक्ति अ ...

4 महीने पहले

आईबीबीआई और सेबी ने आईबीसी के बेहतर कार्यान्वयन के लिए सहमति पत्र पर हस्‍ताक्षर कि‍ए

आईबीबीआई और सेबी ने आईबीसी के बेहतर कार्यान्वयन के लिए सहमति पत्र पर हस्‍त ...

4 महीने पहले

भारत-अफ्रीका की परियोजना साझेदारी पर 14वीं सीआईआई- एक्ज़िम बैंक कॉन्क्लेव नई दिल्ली में आयोजित होगी

भारत-अफ्रीका की परियोजना साझेदारी पर 14वीं सीआईआई- एक्ज़िम बैंक कॉन्क्लेव नई ...

4 महीने पहले

Vocab Express (शब्दावली एक्सप्रेस)- 684

Vocab Express (शब्दावली एक्सप्रेस)- 684 प्रिय उम्मीदवार, आपकी शब्दावली को बढ़ाने ...

4 महीने पहले

दैनिक समाचार डाइजेस्ट:19 March 2019

पिनाकी चंद्र घोष भारत के पहले लोकपालजस्टिस पीसी घोष को देश का पहला लोकपाल नि ...

4 महीने पहले

Provide your feedback on this article: