Bookmark Bookmark

वाणिज्‍य मंत्री ने कम्‍प्‍यूटर सॉफ्टवेयर और इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स निर्यात पर रणनीति पत्र का विमोचन किया

वाणिज्‍मंत्री ने कम्‍प्‍यूटर सॉफ्टवेयर और इलेक्‍ट्रॉनिक्‍निर्यात पर रणनीति पत्र का विमोचन किया:

इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स एवं कम्‍प्‍यूटर सॉफ्टवेयर निर्यात संवर्धन परिषद (ईएससी) ने वर्ष 2022 तक सॉफ्टवेयर निर्यात को बढ़ाकर 178 अरब अमेरिकी डॉलर के स्‍तर पर पहुंचाने के लिए एक रणनीति पत्र तैयार किया है। केन्‍द्रीय वाणिज्‍य एवं उद्योग और नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु ने नई दिल्‍ली में इस रणनीति पत्र का विमोचन किया।

प्रभु ने भारत से कम्‍प्‍यूटर सॉफ्टवेयर एवं आईटीईएस और इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स निर्यात को बढ़ावा देने के लिए एक रणनीति तैयार करने हेतु यह पहल करने के लिए ईएससी द्वारा किये गये प्रयासों की सराहना की। मंत्री महोदय ने यह भी कहा कि भारत सरकार पारम्‍परिक बाजारों को निर्यात बढ़ाने के साथ-साथ वैकल्पिक बाजारों जैसे कि अफ्रीका, लैटिन अमेरिका और स्‍वतंत्र देशों के राष्‍ट्रकुल (सीआईएस) में कदम जमाने के लिए इस उद्योग को हरसंभव सहायता प्रदान करेगी।

प्रभु ने कहा कि आईसीटी निर्यात को और ज्‍यादा जीवंत बनाने तथा निर्यात पर फोकस करने के लिए और ज्‍यादा इकाइयों (यूनिट) को प्रेरित करने हेतु सरकार सक्रियतापूर्वक अनेक कदम उठा रही है।

प्रमुख तथ्य:

रणनीति पत्र में उन नीतिगत बदलावों की जरूरत पर प्रकाश डाला गया है, जो अत्‍यंत महत्‍वपूर्ण हैं। अमेरिका के साथ वीजा संबंधी समस्‍याओं को सुलझाना, यूरोपीय देशों में प्रोफेशनलों की पहुंच बढ़ाना, अमेरिका के साथ समग्रता समझौते पर शीघ्र हस्‍ताक्षर करना, इन्‍क्‍यूबेशन केन्‍द्रों की स्‍थापना करना और प्रमुख आईटी हबों में भाषा प्रवीणता सुविधाएं इन नीतिगत बदलों में प्रमुख हैं।

सॉफ्टवेयर और आईटीईएस निर्यात का वर्तमान बिजनेस मॉडल आउटसोर्सिंग कार्य के लिए प्रासंगिक है। उभरते बाजारों जैसे कि अफ्रीका और मध्‍य-पूर्व के लिए एक भिन्‍न मॉडल की आवश्‍यकता है, क्‍योंकि भारत मुख्‍यत: उत्‍पाद सोल्‍यूशन्‍स की पेशकश करता है।

वैसे तो अमेरिका और यूरोप को सॉफ्टवेयर एवं आईटीईएस निर्यात की व्‍यापक संभावनाएं हैं, लेकिन छोटी कंपनियां अपेक्षा के अनुरूप प्रदर्शन नहीं कर पा रही हैं, क्‍योंकि नवाचार एवं तकनीकी क्षेत्र में अगुवाई करने में व्‍यापक अंतर देखा जा रहा है।

इस रणनीति पत्र में उन विशिष्‍ट नीतिगत उपायों, बाजार गन्‍तव्‍यों और अन्‍य उपयुक्‍त जानकारियों का भी उल्‍लेख किया गया है, जो भारत से सॉफ्टवेयर और सेवाओं के निर्यात में व्‍यापक बदलाव लाने में सक्षम हैं।

विवेकपूर्ण तरीके से सॉफ्टवेयर एवं हार्डवेयर का सम्मिश्रण करना, नये निर्यात केन्‍द्र सृजित करना, राजकोषीय प्रोत्‍साहन देना और देश विशिष्‍ट सॉफ्टवेयर निर्यात संवर्धन उपाय करना विशिष्‍ट उपायों में शामिल हैं।

You might be interested:

इवनिंग न्यूज़ डाइजेस्ट: 25 मई 2018 (PDF सहित)

राष्ट्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने स्‍कूली शिक्षा के समग्र विकास के लिए ‘समग्र शिक्षा&r ...

3 महीने पहले

Vocab Express (शब्दावली एक्सप्रेस)- 472

Vocab Express (शब्दावली एक्सप्रेस)- 472 प्रिय उम्मीदवार, आपकी शब्दावली को बढ़ाने के लिए यहां 5 नए शब्द ...

3 महीने पहले

वन लाइनर्स ऑफ़ द डे: 25 मई 2018

राष्ट्रीय केन्‍द्रीय मंत्रिमंडल ने इस मंत्रालय द्वारा चिन्हित 4072 टॉवर लोकेशनों पर मोबाइल से ...

3 महीने पहले

बैंकिंग डाइजेस्ट: 25 मई 2018

राष्ट्रीय केन्‍द्रीय मंत्रिमंडल ने इस मंत्रालय द्वारा चिन्हित 4072 टॉवर लोकेशनों पर मोबाइल से ...

3 महीने पहले

सीबेड प्रोजेक्ट 2030: ड्रोन का उपयोग करके 2030 तक दुनिया की महासागरीय सतह का अभिलेख तैयार करना

सीबेड प्रोजेक्ट 2030: ड्रोन का उपयोग करके 2030 तक दुनिया की महासागरीय सतह का अभिलेख तैयार करना एक नई व ...

3 महीने पहले

पृथ्वी के जल चक्र का पता लगाने के लिए ट्विन स्पेसक्राफ्ट सफलतापूर्वक लॉन्च किया गया

पृथ्वी के जल चक्र का पता लगाने के लिए ट्विन स्पेसक्राफ्ट सफलतापूर्वक लॉन्च किया गया: अमेरिकी अ ...

3 महीने पहले

Provide your feedback on this article: