Bookmark Bookmark

विश्व ऊर्जा भविष्य शिखर सम्मेलन में पहला इंटरनेशनल सोलर एलायंस फोरम आयोजित हुआ

विश्व ऊर्जा भविष्य शिखर सम्मेलन में पहला इंटरनेशनल सोलर एलायंस फोरम आयोजित हुआ:

अपनी तरह की पहले कार्यक्रम में इंटरनेशनल सोलर एलायंस (आईएसए) ने  विश्व ऊर्जा भविष्य शिखर सम्मेलन-2018 (डब्लयूएफई एस) के अवसर पर 17 से 18 जनवरी, 2018 के दौरान दो दिवसीय ‘इंटरनेशनल सोलर एलायंस फोरम’ की मेजबानी की।

डब्लयूएफईएस वैश्विक स्तर का अनूठा कार्यक्रम है। आबूधाबी (यूएई) में 18 जनवरी, 2018 को आबूधाबी निरंतरता सप्ताह का आयोजन मसदर द्वारा किया गया था। आईएसए कार्यक्रम के दौरान आईएसए के बारे में सूचना के प्रसार और इसकी गतिविधियों और कार्यक्रमों के बारे में जानकारी के लिए आईएसए मंडप स्थापित किया गया।

कार्यक्रम से जुड़े तथ्य:

अन्तर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन मंच के पहले दिन 17 जनवरी,2018 को आईएसए मंत्रियों का पूर्ण मंत्रीस्तरीय सत्र का आयोजन किया गया। आईएसए सदस्य देशों के सात ऊर्जा मंत्रियो ने मंत्रीस्तरीय सत्र में भाग लिया। उन्होंने सार्वभौमिक ऊर्जा, अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर सौर ऊर्जा के सहयोग, ज्ञान के लाभ और शुरूआती सत्रों में सौर परियोजनाओं के लिए नवोन्मेष प्रौद्योगिकी और अनुसंधान और विकास में निवेश पर अपने विचार रखे।

इस अवसर पर केन्द्रीय ऊर्जा एवं नवीन और नवीनकरणीय ऊर्जा राज्य मंत्री राजकुमार सिंह ने सौर परियोजनाओं के वित्त पोषण के लिए  भारत सरकार द्वारा  350 मिलियन अमेरिकी डॉलर की  सौर विकास निधि की स्थापना की घोषणा की।

आईएसए के अंतरिम महानिदेशक उपेन्द्र त्रिपाठी ने कहा कि विभिन्न कंपनियों और बैंको द्वारा सौर ऊर्जा से संबंधित नौ परियोजनाओं के लिए अनुमति पत्र आदान–प्रदान के संबंध में जानकारी दी गयी है। उन्होंने कहा कि आईएसए को अब कार्य को आदान प्रदान में बदलने के रूप में जाना जायेगा।

उन्होंने कहा कि अप्रैल 2018 तक आईएसए के अंतर्गत 100 से अधिक परियोजनाओं पर हस्ताक्षर किये जायेंगे। उन्होने सदस्य देशों और विभिन्न भागीदारको का बेहद कम समय में आईएसए को स्थापित करने के लिए धन्यवाद दिया।उन्होंने भारत सरकार के अंतर्गत नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय द्वारा 19 से 21 अप्रैल 2018 तक आयोजित दूसरे रि-इन्वेस्ट बैठक के संबंध में बताया और इसका निमंत्रण दिया।

आईएसए मंत्री स्तरीय सत्र की समाप्ति पर यस बैंक ने पांच बिलियन अमेरिकी ड़ॉलर से अधिक की राशि सौर परियोजनाओं को वित्तीय मदद के रूप में देने की घोषणा की।

सके साथ ही मैसर्स सीएलपी और मैसर्स एनटीपीसी लिमिटेड ने आईएसए के साथ भागीदारी गठित करने की घोषणा की और दोनों ने आईएसए निधि के लिए एक–एक मिलियन अमेरिकी डॉलर का स्वैच्छिक योगदान देने का ऐलान भी किया। आईए और जीसीएफ ने भी आईएसए के साथ भागीदारी में प्रवेश करने की घोषणा की।

पृष्ठभूमि:

6 दिसंबर, 2017 को 15 देशो से अनुमोदन होने पर अन्तर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन (आईएसए) ढांचा अनुबंध की शुरूआत हुई। इसने अन्तर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन को एक विधि सम्मत संधि आधारित अन्तर्राष्ट्रीय अंतर-सरकारी संगठन बना दिया। अभी तक 19 देशों ने इसे स्वीकृति दी है और 48 देशों ने आईएसए ढांचा अनुबंध पर हस्ताक्षऱ किये हैं।

कार्य आधारित संगठन होने के कारण आईएसए सौर परियोजनाओं के जमीनी स्तर पर प्रारंभ में सहयोग प्रदान करता है। इसलिए दिन के पहले हिस्से में नौ कंपनियों ने सौर ऊर्जा संबंधी परियोजनाओं के लिए सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किये।

Attempt Mock Test

View all

मॉक टेस्ट प्रयास करें

Attempt Free Mock Tests

Daily articles on app in Hindi

Daily articles on app in Hindi

You might be interested:

नीति आयोग ने सतत शहरी नियोजन पर जीआईएएन कार्यक्रम के तहत पहला कोर्स शुरू किया

नीति आयोग ने सतत शहरी नियोजन पर जीआईएएन कार्यक्रम के तहत पहला कोर्स शुरू किया: नीति आयोग ने नॉएड ...

एक महीने पहले

वन लाइनर्स ऑफ़ द डे: 19 जनवरी 2018

राष्ट्रीय प्रधानमंत्री मोदी और इस्राइली प्रधानमंत्री नेतन्‍याहू ने यह सुविधा राष्‍ट्र को ...

एक महीने पहले

बैंकिंग डाइजेस्ट: 19 जनवरी 2018

राष्ट्रीय प्रधानमंत्री मोदी और इस्राइली प्रधानमंत्री नेतन्‍याहू ने यह सुविधा राष्‍ट्र को ...

एक महीने पहले

इवनिंग न्यूज़ डाइजेस्ट: 18 जनवरी 2018

प्रधानमंत्री मोदी और इस्राइली प्रधानमंत्री नेतन्‍याहू ने आई क्रिएट (iCreate) सुविधा राष्‍ट्र को ...

एक महीने पहले

Vocab Express (शब्दावली एक्सप्रेस)- 382

Vocab Express (शब्दावली एक्सप्रेस)- 382 प्रिय उम्मीदवार, आपकी शब्दावली को बढ़ाने के लिए यहां 5 नए शब्द ...

एक महीने पहले

करेंट अफेयर्स वीडियो: 17 जनवरी 2018

करेंट अफेयर्स: 01 दिसम्बर 2017 विडियो- दर्शको और पाठकों को आज के टॉप 10 परीक्षा-उपयोगी करेंट अफेयर्स उ ...

एक महीने पहले

Provide your feedback on this article: